JharkhandRanchi

#BJP प्रदेश अध्यक्ष की दौड़ में हैं दीपक प्रकाश, अनंत ओझा, रवींद्र राय और भी हैं कुछ नाम, जानें… 

विज्ञापन

Akshay Kumar Jha

Ranchi: बीजेपी का विधायक दल का नेता कौन होगा, इसे तय करने के लिए केंद्र की तरफ से एक पर्यवेक्षक को रांची भेजा जा रहा है. लेकिन जिस तरह के राजनीतिक समीकरण देखने को मिल रहे हैं, ये तय हो चुका है कि बाबूलाल मरांडी ही बीजेपी के विधायक दल के नेता होंगे.

बीजेपी जैसी बड़ी पार्टी का इतने दिनों तक विधायक दल का नेता न चुनना, इस बात की ओर साफ संकेत है कि बाबूलाल मरांडी का बीजेपी में आने का इंतजार हो रहा था.

असली पटकथा जो बीजेपी कार्यालय से लेकर दिल्ली तक लिखी जा रही है, वह है प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपने की. हर खेमा सक्रिय है. इस काम के लिए बीजेपी की तीनों लॉबी अपने तरीके से काम कर रही है.

तीन लॉबी लिखे जाने का मतलब है रघुवर दास, अर्जुन मुंडा और बाबूलाल मरांडी. इन तीनों लॉबी के अलावा भी अपने दम पर भी अध्यक्ष बनने के लिए जोर लगाया जा रहा है. लेकिन इन सब पर केंद्रीय कार्यालय आखिरी वक्त भारी पड़ता दिखने जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – बकोरिया कांड: पुलिस अधिकारियों के बयान का मिलान करेगी CBI

कौन-कौन हैं दौड़ में

बीजेपी के कई कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान प्रदेश अध्यक्ष की दौड़ के लिए कई नाम सामने आ रहे हैं. लेकिन गंभीर राजनीति की परख रखनेवालों ने इनमें से दीपक प्रकाश, रवींद्र राय और अनंत ओझा का नाम सबसे आगे बताया है.

कहा जा रहा है कि इन्हीं तीनों में कोई नाम अगला प्रदेश अध्यक्ष हो सकता है. इन तीनों नाम के पीछे तीन मतलब भी निकाले जा रहे हैं. कार्यालय के पदाधिकारीगण और बीजेपी का एक बड़ा खेमा चाहता है कि दीपक प्रकाश के नाम पर मुहर लगे.

दीपक प्रकाश ने विधानसभा चुनाव में चुनाव न लड़ कर प्रदेश अध्यक्ष की लॉबिंग करने का संकेत उसी वक्त दे दिया था. वहीं अनंत ओझा का नाम रघुवर दास के खेमे से आगे किया जा रहा है. अनंत ओझा रघुवर दास के कार्यकाल में पार्टी में काफी सक्रिय देखे जाते रहे हैं.

वहीं रवींद्र राय के लिए बाबूलाल ज्यादा कोशिश तो नहीं कर रहे हैं. लेकिन पार्टी के केंद्रीय कार्यालय की तरफ से इनसे प्रदेश अध्यक्ष के लिए नाम पूछे जाने पर उनकी जुबान पर रवींद्र राय का नाम सबसे पहले आनेवाला है.

अर्जुन मुंडा खेमे की बात करें तो अभी तक किसी का भी नाम आगे नहीं किया गया है. कुछ नाम बताये जा रहे हैं उनमें गणेश मिश्रा और राकेश प्रसाद शामिल हैं. लेकिन इन नामों को सिर्फ चर्चा मात्र ही मानी जा रही है. वहीं चतरा सांसद सुनील सिंह भी अपने दम पर पूरी कोशिश कर रहे हैं कि उनका नाम दौड़ में शामिल रहे.

इसे भी पढ़ें – ढुल्लू महतो के बचाव में उतरी बीजेपी, कहा- विधायक के साथ हो रहा सड़क छाप गुंडे जैसा बर्ताव

रघुवर दास नहीं करेंगे इंकार

रघुवर दास के बुरी तरह से चुनाव हार जाने के बाद काफी बैकफुट पर देखा जा रहा था. लेकिन बाबूलाल मरांडी के बीजेपी में शामिल होनेवाले कार्यक्रम में अमित शाह की मौजूदगी में जिस तरह से रघुवर दास ने ‘कम बैक’ का मैसेज दिया है. उससे माना जा रहा है कि रघुवर उतने भी कमजोर नहीं हुए हैं.

अमित शाह से नजदीकी आज भी वही मानी जा रही है. ऐसे में बीजेपी अगर रघुवर दास को एक बार फिर से प्रदेश अध्यक्ष बना कर पार्टी की कमान सौंपती है तो रघुवर दास इससे इंकार नहीं करनेवाले.

इसे भी पढ़ें – #Controversy_In_Congress : गांधी परिवार के खिलाफ विद्रोह की सुगबुगाहट, संदीप दीक्षित बरसे,  शशि थरूर ने सुर मिलाया

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close