न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नारायण हॉस्पिटल में आयुष्मान के मरीजों से वसूले गये पैसे, जिप करेगी जांच

पलामू जिप की बैठक में लिया गया निर्णय, लहलहे पंचायत सेवक को निलंबित करने का निर्देश

42

Palamu : डालटनगंज के नारायण हॉस्पिटल द्वारा मरीज के इलाज करने के एवज में सरकारी और परिजन दोनों से फीस वसूलने की शिकायत मामले को पलामू जिला परिषद् ने गंभीरता से लिया है. इस वर्ष की अंतिम बोर्ड की बैठक में इस संदर्भ में गहना जांच कराने और दोषी पाये जाने पर कार्रवाई करने का निर्णय लिया गया है.

कार्ड से पैसे कटौती के अलावा नकद पैसे की भी वसूली की गयी

अध्यक्ष प्रभा देवी ने निर्देश दिया कि एक टीम का गठन कर अस्पताल की जांच कराया जाए. वहीं सीएस को निर्देश दिया गया है कि ड्रग्स इंस्पेक्टर के माध्यम से इस बात की भी जांच करायी जाए कि, उक्त अस्पताल में उपलब्ध और मरीजों को दी जाने वाली दवाईयां प्रतिबंधित श्रेणी की तो नहीं हैं. सीएस को जांच रिपोर्ट अतिशीघ्र समर्पित करने का निर्देश दिया गया है. विदित हो कि यह अस्पताल भारत सरकार के आयुष्मान भारत कार्यक्रम से संबद्ध है और मरीजों को पांच लाख रुपए तक का इलाज कार्ड रहने पर निःशुल्क उपलब्ध कराना है. परंतु कई मरीजों ने शिकायत की है कि उनके कार्ड से पैसे कटौती के अलावा नकद पैसे की भी वसूली की गयी है.

पलामू जिले में आयुष्मान भारत के तहत तीन दर्जन सरकारी और निजी अस्पताल चिह्नित किये गए थे. परंतु अर्हता पूर्ण नहीं करने के कारण 20 अस्पतालों को इसके दायरे से बाहर कर दिया गया है. पलामू में आयुष्मान भारत योजना लागू होने के बाद से 68 लाख 33 हजार रुपए का इलाज जिले के मरीजों ने कराया है. इसके एवज में 31 लाख 52 हजार पांच सौ की कटौती विभिन्न अस्पतालों ने मरीजों से संबंधित कार्ड से कर ली है.

गाइड लाइन और निर्देश का अनुपाल नहीं कर रहे हैं सरकारी चिकित्सक

सदर अस्पताल के सरकारी डाक्टरों द्वारा अस्पताल परिसर के सौ मीटर के अंदर निजी क्लीनिक चलाने का भी मामला उठाया गया. इस पर सीएस ने कहा कि सरकारी गाइड लाइन के अनुसार अस्पताल के पांच सौ मीटर परिधि में कोई भी सरकारी चिकित्सक निजी क्लिनिक संचालित नहीं कर सकते हैं. इस संबंध में उनके स्तर से दो बार नोटिस दिया जा चुका है, परंतु सरकारी चिकित्सकों के कानों पर जू तक नहीं रेंगती है. इस पर बोर्ड ने निर्णय लिया कि पुनः वैसे चिकित्सकों को नोटिस करते हुए इसकी कॉपी डीसी, डीडीसी, एसडीओ और जिला परिषद् को उपलब्ध कराने के लिए निर्देशित किया गया.

चापाकलों का सर्वे कराने का निर्णय

आगामी गर्मी को देखते हुए पेयजल एवं स्वच्छता विभाग को जिले में खराब पड़े चापाकलों का सर्वे कराकर चापाकल दुरूस्त कराने का निर्देश दिया गया, ताकि आने वाली गर्मी में लोगों को परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े. बोर्ड ने सदर प्रखंड के झाबर और लहलहे में सोलर जल नल योजना के तहत कराये गए काम को व्यक्ति विशेष को लाभ पहुंचाने के लिए कराया गया काम पाया है. इस संदर्भ में बोर्ड ने कमेटी बनाकर मामले की जांच करायी और शिकायत को सही पायी. इस संदर्भ में पंचायत सेवक प्रेम चौरसिया प्रारंभिक स्तर पर दोषी पाते हुए उसे निलंबित करने का निर्देश दिया गया है. साथ ही संबंधित मुखिया के खिलाफ कानून सम्मत कार्रवाई के लिए अग्रेतर कार्रवाई करने निर्णय लिया गया.

ग्रामीण इलाकों में अलावा जलाने का निर्देश

बोर्ड ने पलामू में शीतलहरी का जारी प्रकोप के अलाको में सभी बीडीओ और सीओ को ग्रामीण चौक-चैराहों पर अलाव जलवाने और कंबल का आवंटित कंबल का वितरण तत्काल करने का निर्देश दिया है. लवली गुप्ता जिला पार्षद पांकी पूर्वी ने विगत पिछले पांच साल से बनकर तैयार बोरोदीरी स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को जल्द चालू कराने का मुद्दा को रखा. अपने क्षेत्र के जर्जर पथ को दुरुस्त कराने के लिए डीडीसी को पथ निर्माण विभाग के माध्यम से कराने की मांग को रखा. बैठक में उपाध्यक्ष संजय कुमार सिंह, डीडीसी विंदु माधव सिंह, विनोद सिंह, प्रमोद सिंह,मुक्तेश्‍वर पांडेय, विकास चैरसिया, मीना गुप्ता, अनुज राम, अनील चंद्रवंशी, विजय राम, प्रमोद सिंह, स्मृति गुप्ता, मनोज सिंह,रेणुदेवी विजय रविदास,स्मृति गुप्ता, अनिल चंद्रवंशी,सांसद-विधायक के प्रतिनिधि उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें – कैग की रिपोर्ट से साबित होता है कंबल घोटाला, पर सरकार जांच के नाम पर कर रही लीपापोती, साल बीत गया, नहीं हुई कोई कार्रवाई

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: