Lead NewsNationalNEWS

महाराष्ट्र में बारिश, बाढ़ व भूस्खलन से मरने वालों की संख्या 149 हुईं, 64 अभी भी लापता

Mumbai: महाराष्ट्र के लोगों की परेशानी थमने का नाम नहीं ले रहा है. कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित राज्यों में शुमार रहे महाराष्ट्र अब बारिश, बाढ़ और भूस्खलन की चपेट में है. राज्य में रविवार देर शाम तक बारिश, बाढ़ और भूस्खलन से मरने वालों की संख्या बढ़कर 149 हो गई है. कम से कम 64 लोग अभी भी लापता बताये जा रहे हैं. प्रदेश सरकार के अनुसार बारिश से जुड़े हादसों में 50 लोग घायल भी हुए हैं. 2.29 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. सरकार की ओर से बताया गया है कि कोल्हापुर, सांगली, सतारा और पुणे में कुल 875 गांव बारिश, बाढ़ से प्रभावित हुए हैं.

इसे भी पढ़ेंःरणवीर सिंह ने महेंद्र सिंह धौनी के साथ खेला फुटबॉल मैच, मैदान में दिखा दोस्ताना

राज्य आपदा नियंत्रण कक्ष के अनुसार, मूसलाधार बारिश से रायगढ़ में तीन स्थानों पर हुए भूस्खलन से अब तक 60 लोगों के शव मलबे से निकाले गए हैं. वहीं, सतारा में 41, रत्नागिरी में 21, ठाणे में 12, कोल्हापुर में 7, सिंधुदुर्ग और पुणे में दो-दो और मुंबई में 4 मौतें हुई हैं. पशुओं के लिये भी यह स्थिति घातक साबित हो रही हैं. सांगली में आई बाढ़ से 17,300 मुर्गी मर गई जबकि सूबे में 3248 पालतू पशुओं की भी मौत हुई है. सबसे ज्यादा सतारा में 3041 पशुओं की जान गई है.

advt

इसे भी पढ़ेंःदेश में पहली बार वोटर को रिश्वत देने के आरोप में मौजूदा सांसद को जेल की सजा, जानिये-कौन है वह महिला सांसद  

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक दिन पूर्व कोंकण क्षेत्र के रत्नागिरी जिले में भीषण बाढ़ की चपेट में आए चिपलून का दौरा किया. स्थानीय लोगों ने उनके काफिले को रोककर आ रही समस्याओं के बारे में बताया. बाढ़ प्रभावितों का कहना उन्हें देखने वाला कोई नहीं है. मुख्यमंत्री ने लोगों को आश्वस्त किया है कि सरकार स्थिति को सामान्य बनाने में अपने स्तर से जुटी है.

adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: