National

#Lockdown के कारण कोरोना वायरस से होनेवाली मौत शहरी इलाकों तक सीमित: सरकार

NewDelhi: देश में कोरोना वायरस संक्रमण का आंकड़ा सवा लाख से अधिक हो चुका है. वहीं 3720 लोगों की जान अबतक इस वायरस ने ले ली है. संक्रमण से होनेवाली मौत को लेकर सरकार का दावा है कि लॉकडाउन के कारण ये मौतें कुछ सीमित इलाकों में ही हो रही हैं.

इसे भी पढ़ेंः#CoronaUpdate: देश में सवा लाख से ज्यादा संक्रमित, एक दिन में सामने आये रिकॉर्ड 6654 नये केस

सरकार का कहना है कि कोरोना वायरस महामारी को फैलने से रोकने के लिए लागू लॉकडाउन के कारण देश में इस संक्रमण से होने वाली मौतें कुछ ही इलाकों में खासकर शहरी इलाकों तक सीमित रही. सरकार ने कहा कि अगर लॉकडाउन लागू नहीं किया जाता तो कोविड-19 के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी होती .

लॉकडाउन के कारण घटी संक्रमण की रफ्तार

इसने कहा कि लॉकडाउन से पहले जहां मामले दोगुना होने में औसतन तीन दिन से अधिक समय लगता था, वहीं इसके बाद अब यह समय 13 दिन से अधिक हो गया है. नीति आयोग के सदस्य वी के पॉल ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘’इतना विशाल देश होने के बावजूद, लॉकडाउन के कारण वायरस का संक्रमण कुछ इलाकों तक सीमित रहा.’’

उन्होंने कहा कि गुरुवार तक संक्रमण के ​जितने भी मामले सामने आये हैं, उनमें से करीब 80 फीसदी पांच राज्यों- महाराष्ट्र, तमिलनाडु, गुजरात, दिल्ली एवं मध्य प्रदेश में हैं और 90 फीसदी मामले दस राज्यों में है.

पॉल ने कहा कि इसके अलावा 60 प्रतिशत मामले केवल पांच शहरों में है, जिनमें मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, अहमदाबाद एवं ठाणे शामिल हैं और 70 प्रतिशत से अधिक कोरोना संक्रमण के मामले दस शहरों में है.
इसे भी पढ़ेंःगढ़वा: लाॅकडाउन में भीख नहीं मिलने से दाने-दाने को मोहताज 40 मुसहर परिवार, सरकार से लगायी मदद की गुहार

80 फीसदी मौतें पांच राज्यों में

जहां तक कोरोना संक्रमण से होने वाली मौत का मामला है. उस पर नीति आयोग के सदस्य पॉल ने कहा कि उनमें से 80 फीसदी मौत पांच राज्यों- महाराष्ट्र, गुजरात, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल एवं दिल्ली में हुई है और करीब 95 प्रतिशत मौत दस राज्यों में हुई है.

उन्होंने कहा, ‘आप कह सकते हैं कि यह बीमारी शहरी जिलों की है और पांच शहरों में करीब 60 फीसदी मौत हुई है जिनमें मुंबई, अहमदाबाद, पुणे, दिल्ली एवं कोलकाता शामिल हैं. 70 प्रतिशत मौत दस शहरों में हुई है.’

उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के दौरान की गयी कार्रवाई के कारण कोविड-19 सीमित हो गया है. इसने हमें भविष्य के लिये तैयार रहना सिखाया है.’

पॉल ने बताया कि देश में एक लाख 85 हजार 306 बिस्तरों वाला 1093 अस्पताल ऐसे मरीजों की जांच पड़ताल के लिये तैयार किये गये हैं. उन्होंने कहा कि इसके अलावा ऑक्सीजन सुविधा के साथ एक लाख 38 हजार 652 बिस्तरों वाला कोविड-19 के लिए समर्पित 2403 स्वास्थ्य केंद्र तैयार हैं.

पॉल ने कहा कि लॉकडाउन करीब दो महीने पूरा करने वाला है, और यह अनिश्चितकाल तक नहीं रहेगा, इसने अपना लक्ष्य हासिल कर लिया है.

इसे भी पढ़ेंःधनबाद: चासनाला कोलियरी में चाल धंसने से एक की मौत, बाल-बाल बचे 116 मजदूर

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close