JharkhandMain SliderRanchi

मनरेगा में ‘मुर्दे’ भी कर रहे काम, फर्जी नामों से निकाला जा रहा मास्टर रोल

  • 518 मानव दिवस का मास्टर रोल निकला 2 से 15 अगस्त के बीच

Pravin kumar

Ranchi: कोरोना संक्रमण दौर में जब लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर राज्य लौटे हैं वैसे में प्रवासी मजदूरों के साथ-साथ ग्रामीण इलाकों में रोजगार उपलब्ध कराने के लिए मनरेगा को रामबाण की तरह ग्रामीण विकास विभाग देख रहा है.

लेकिन सूबे में चल रही मनरेगा योजनाओं में कागज पर तो मुर्दों को भी काम दे दिया जा रहा है. इतना ही नहीं, एक ही योजना में 2 से 15 अगस्त के बीच तीन-चार मास्टर रोल निकाल कर 28 से 30 मजदूरों को .5 एकड़ की बागवानी योजना में काम देने के साक्ष्य सामने आये हैं.

advt

इस योजना के अंतर्गत जितने मानव दिवस पांच साल में सृजित होते, वे तीन माह में ही सृजित कर मास्टर रोल निकाल लिया गया है. जिस योजना में पांच साल में 537 मानव दिवस रोजगार उपलब्ध कराना है उसमें दो माह में ही 37 लोगों के नाम से 518 मानव दिवस का मास्टर रोल निकाला गया है. यह खेल खूंटी के तोरपा प्रखंड के मरचा पचांयत के फुलमनी तोपनो की बागवानी में हुआ है.

सूबे की सरकार ने प्रवासी मजदूरों को रोजगार उपल्बध कराने के लिए नीलाम्बर-पीताम्बर जल समृद्धि योजना, बिरसा हरित ग्राम योजना, वीर शहीद पोटो खेल विकास योजना शुरू की थी.

इसे भी पढ़ें – मनरेगा के अंतर्गत काम की मांग कलेक्ट करने की जिम्मेदारी सोशल ऑडिट यूनिट को दी गयी

फुलमनी तोपनों की आम बागवानी में मुर्दे कर रहे काम!

मास्टर रोल का नमूना.

खूंटी जिले के तोरपा प्रखंड स्थित मरचा पंचायत  के बराटोली की फुलमानी तोपनों की आम बागवानी योजना चल रही है जिसका योजना कोड 2020-21 (3401020009 /आइएफ/7080901395314) है. इसमें सुनील तिर्की जॉब कार्ड संख्या जेएच 01-020-009 -002/143 है. इसी मास्टर रोल में उद्यो मांझी एवं सुजिता देवी के नाम से भी मास्टर रोल निकाला गया है. जबकि प्राप्त सूचना के अनुसार इनलोगों की मौत हो चुकी है.

adv

इसी योजना की मास्टर रोल संख्या 13047 में अनिता तोपनों का नाम मौजूद है जबकि इनका विवाह हो चुका है और अपने ससुराल में रहती हैं. इस योजना के तहत 2 अगस्त को 4 मास्टर रोल निकाले गये. इन मास्टर रोल में मृत लोगों सहित 37 मजदूरों के नाम मानव दिवस सृजित किये गये हैं. कुल मानव दिवस 14 दिनों में 518 हो जाते हैं. जिसकी संख्या 13046, 13047, 13048, 13049 है.

.25 एकड़ की योजना में 15 दिनों में ही 378 मानव दिवस का कर दिया सृजन

मरचा पंचायत के मरचा गांव के सिलवेस्टर तोपनों की भी आम बगवानी योजना चल रही है जिसका रकबा .25 एकड़ है. योजना के तहत कुल 39 पौधे लगने हैं जिसका योजना कोड 2020-21 (3401020009 /आइएफ/ 7080901417776) है.

इस योजना में सलीम तोपनो नाम के मृत व्यक्ति के नाम पर भी मास्टर रोल निकाला गया है. इस योजना में 20 मानव दिवस की मजदूरी का भूगतान किया जा चुका है. इसके बाद 2 अगस्त से 15 अगस्त के लिए तीन मास्टर रोल जेनरेट किये गये हैं जिसकी संख्या 12904, 12905, 12906 है. इसके तहत 27 मजदूरों के नाम पर मास्टर रोल निकाला गया है जिसमें 2 अगस्त से 15 अगस्त के बीच 378 मानव दिवस सृजन कर दिये गये हैं.

एक ही योजना में तीन मास्टर रोल से 553 मानव दिवस का कर दिया गया सृजन

खूंटी जिले के तोरपा प्रखंड स्थित मरचा पंचायत के कर्रा बरटोली में सुसाना तोपनों के नाम पर .55 एकड़ में  आम बागवानी योजना चल रही है. जिसका योजना कोड 2020-21 (3401020009 /आइएफ/7080901395306) चल रहा है.

पांच साल की इस योजना के तहत 1.53587 लाख खर्च होने हैं. खबर लिखे जाने तक 49 मानव दिवस का मजदूर का भूगतान कर दिया गया है. जबकि 2 अगस्त को पुनः इसी योजना में तीन मास्टर रोल निकाला गया है. मास्टर रोल संख्या 13039, 13040, 13041 के माध्यम से 28 मजदूरों को काम देने के लिए मास्टर रोल निकला है.

14 दिन के लिए निकाले गये मास्टर रोल के मुताबिक 392 मानव दिवस रोजगार सृजन दिखाया जा रहा है. जबकि कुल पांच साल के लिए गड्ढा खुदाई, घेराबंदी, पटवन के लिए 553 मानव दिवस ही हैं.

इसे भी पढ़ें –कर्मचारी के पैसे लेकर फरार हुए दो ठेकेदार, भुगतान 1 लाख 65 हजार का करना था दिए केवल 22 हजार

क्या कहते हैं मरचा पंचायत के मुखिया नीरल तोपनो

मरचा पंचायत के मुखिया ने कहा- पंचायत के अंतर्गत चल रही बागवानी योजना में फर्जी नामों पर मास्टर रोल निकालने का काम में प्रखंड कार्यालय की भूमिका है. अधिक मानव दिवस दिखाना गलत काम है. जबकि जितने लोगो के नाम से मास्टर रोल निकाला गया है उतने लोग योजना में काम नही कर रहे है.

सुनील तिर्की मृत व्यक्ति हैं अन्य तीन मृतकों के बारे में जानकारी इकट्ठा कर रहा हूं. इस कार्य में दोषी लोगों पर कार्रवाई करने के लिए प्रखंड विकास पदाधिकारी को लिखूंगा.

क्या कहते हैं तोरपा के प्रखंड विकास पदाधिकारी

तोरपा के प्रखंड विकास पदाधिकारी विजय कुमार से जब मनरेगा योजना में फर्जी व मृत लोगों के नामों से निकाले जा रहे मास्टर रोल पर प्रतिक्रया मांगी गयी तो उन्होंने कहा- मामले की जांच के बाद ही कुछ कहूंगा.

इसे भी पढ़ें –लॉकडाउन की मार: 6 महीने में रांची के 60 कोचिंग संस्थान बंद, सरकार को भी हर महीने 700 करोड़ का नुकसान

advt
Advertisement

9 Comments

  1. I love looking through a post that can make people think. Also, many thanks for permitting me to comment!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button