Corona_UpdatesJharkhandKoderma

कोविड अस्पताल की अवव्यवस्था के वीडियो वायरल होने पर डीसी ने लिया संज्ञान, सुधारने के निर्देश

Koderma: जिला मुख्यालय स्थित इंजीनियरिंग कॉलेज भवन में बने नए सरकारी कोविड अस्पताल की स्थिति उतनी अच्छी नहीं है. यहां भर्ती होने वाले मरीजों की देखरेख और व्यवस्था पर सवाल उठा है.

शुक्रवार को अस्पताल में इलाजरत एक महिला के परिजन के द्वारा दिए गए वीडियो से जाहिर होता है कि अस्पताल में भले ही संसाधन जुटा दिए गए परंतु मरीजों की देखभाल करने ना तो चिकित्सक आते हैं और ना ही स्वास्थ्य कर्मी अपनी ड्यूटी ठीक से बजाते हैं.

advt

यह स्थिति तब है जब कोडरमा के डीसी रमेश घोलप लगातार न केवल इन मामलों पर निगरानी रख रहे हैं बल्कि लापरवाही बरतने वालों पर कार्रवाई करने के भी उन्होंने कड़ी चेतावनी दी है.

हालांकि बाद में आये एक वीडियो में उक्त महिला के परिजन कहते हुए दिखे कि परिजन की तबीयत बिगड़ने के कारण मेरा दिमाग खराब हो गया था जिस कारण मैने उक्त वीडियो बनाया. उन्होंने कहा कि बाद में डॉक्टर ने आकर सभी मरीजों का इलाज किया.

विदित हो कि कोविड के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए राहत व बचाव के क्रम में कोडरमा स्थित इंजीनियरिंग कॉलेज भवन को सरकारी कोविड अस्पताल में तब्दील किया गया था. बुधवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इसका ऑनलाइन उद्घाटन किया था.

इसे भी पढ़ें :ट्रैफिक पुलिस ने रोका तो खुद को बताया मजिस्ट्रेट, पर पुलिसकर्मियों ने थमाया चालान

डीसी ने सरकारी कोविड अस्पताल का निरीक्षण किया

उपायुक्त रमेश घोलप माइनिंग इंजीनियरिंग कॉलेज में शुरुआत किये गए नए सरकारी हॉस्पिटल का निरीक्षण कर वहां की ब्यवस्था से अवगत हुए. सबसे पहले उन्होंने ड्यूटी में लगे कर्मियों की उपस्थिति चेक किया. कहा कि अगले शिफ्ट की ड्यूटी वाले कर्मी समय से पूर्व ही आकर अपनी उपस्थिति दें.

उन्होंने कहा कि कोविड की ड्यूटी में किसी भी तरह की कोताही बर्दाश्त नही की जाएगी. अनुपस्थित या विलंब से आने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

उपायुक्त ने हॉस्पिटल के हेल्प डेस्क के कर्मियों को निदेश दिया कि उनके पास हॉस्पिटल प्रबंधन के साथ अंदर के मरीजों की स्थिति की सम्पूर्ण जानकारी होनी चाहिए ताकि उनके परिजनों को अंदर जाकर अनावश्यक दखलअंदाजी की जरूरत महसूस न हो.

उपायुक्त ने स्वयं कोविड वार्ड का निरीक्षण करते हुए मरीजों की स्थिति का जायजा लिया. मरीजों को दी जाने वाली दवा के साथ अन्य सुविधा की भी उन्होंने जानकारी ली.

उन्होंने मरीजों को दी जाने वाली ऑक्सिजन सप्लाई को चेक किया. मरीजों का उन्होंने हिम्मत बढ़ाते हुए कहा कि की वे धैर्य से काम लें. चिकित्सक और नर्स उनको ठीक करने के लिए यहां रात दिन ड्यूटी पर डटे हुए है. यदि उन्हें किसी भी प्रकार का दिक्कत है तो बतायें वे हरसंभव उनका मदद करेंगे.

मौके पर उप विकास आयुक्त आर रोनिटा, अनुमंडल पदाधिकारी मनीष कुमार, सिविल सर्जन डॉक्टर ए बी प्रसाद, हॉस्पिटल के नोडल पदाधिकारी डॉ शरद के साथ अनेक चिकित्सक व पदाधिकारी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें :एम्स ने कहा, छोटा राजन जीवित है, चल रहा है इलाज

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: