न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

20 महीने बाद फिर से गुलजार हुई डीसी लाइन, लोगों में ट्रेन पर चढ़ने की लगी होड़

रविन्द्र पांडेय ने कहा कि इस रूट पर ट्रेनों का परिचालन मेरे जीने मरने से जुड़ा था.

97

Dhanbad : डीसी रेल लाइन बंद होने के बाद मायूस हुए लोगों के लिये आज का दिन बेहद खुशनुमा है. 20 महीने से बंद धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन पर आज से परिचालन शुरू हो गया. ग्यारह बजकर सात मिनट पर एलेप्पी एक्सप्रेस कतरास स्टेशन पर आकर रुकी, जिसे 11 बजकर 25 मिनट पर हरी झंडी दिखाकर गिरिडीह के सांसद रविन्द्र कुमार पांडेय ने रवाना किया. उस दौरान धनबाद के सांसद पीएन सिंह, धनबाद विधायक राज सिन्हा, बाघमारा विधायक ढुल्लू महतो भी मौजूद थे. साथ ही रेलवे के कई अधिकारी से लेकर कर्मचारी भी मौजूद रहे. ट्रेन की रवानगी के वक्त कतरास की जनता काफी संख्या में मौजूद थी. साथ ही नेताओं के समर्थक भी काफी संख्या में मौजूद थे. प्लेटफॉर्म खचाखच भरा था और सब अपने-अपने पक्ष में जीत के नारे लगा रहे थे.

ट्रेन को रवाना करने के बाद सांसद रविन्द्र पांडेय ने मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि इस रूट पर ट्रेनों का परिचालन मेरे जीने मरने से जुड़ा था. मैंने पहले ही कहा था कि अगर ट्रेनों का पुर्नपरिचालन नहीं होगा तो मेरी अर्थी उठेगी.

ट्रेन को सजाया गया था 

ट्रेन की हर बोगी को फूलों से सजाया गया था. वहीं 20 महीने बाद डीसी लाइन शुरू होने पर एलेप्पी में काफी भीड़ देखी गयी. सिर्फ कतरास स्टेशन से ही सफर के लिये 77 लोगों ने टिकट कटवाये थे. जबकि इतनी संख्या में लोगों ने टिकट कटवाये कि ट्रेन की वेटिंग लिस्ट भी काफी लंबी हो गई है. किसी भी क्लास में सीट खाली नहीं थी और रिजर्वेशन के लिये लोगों में काफी होड़ लगी थी. चूंकि लोग आज के इस पल को काफी यादगार बनाना चाहते हैं.

एक दिन पहले की गयी थी पूजा

रविवार को डीसी लाइन पर छह ट्रेनों का परिचालन किया जायेगा. जिनमें अप एवं डाउन एलेप्पी एक्सप्रेस, गोरखपुर-हटिया एक्स., हावड़ा-जबलपुर एक्स., रांची-धनबाद एक्स., धनबाद- झारग्राम के अलावा झारग्राम-धनबाद मेमू पैसेंजर ट्रेन शामिल है.
वहीं इससे पहले शनिवार को स्टेशन को गंगाजल से धोया गया और पूजा भी किया गया. स्टेशन परिसर में लोगों ने 621 दीप जलाये. क्योंकि 621 दिनों से डीसी लाइन बंद था. इसके साथ ही दीप जलाकर लोगों ने डीसी लाइन पर परिचालन सही से होने की कामना की. इसके साथ ही लोगों ने अपना गुस्सा जाहिर किया कि आखिर किस वजह से डीसी लाइन को बंद कर दिया गया. इसके साथ ही लोगों ने डीसी लाइन को बंद करवाने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की.

26 जोड़ी ट्रेनों के परिचालन तक आंदोलन जारी

दूसरी ओर 605वें दिन भी आंदोलनरत पार्षद विनोद गोस्वामी, पूर्व मंत्री जलेश्वर महतो,पूर्व मंत्री ओपी लाल, बियाडा के पूर्व अध्यक्ष विजय कुमार झा, राजेन्द्र राजा और कांग्रेस नेता अशोक सिंह प्लेटफार्म के सामने खड़े थे. इस दौरान आंदोलनरत पार्षद कहा कि जब तक इस लाइन पर 26 जोड़ी ट्रेनों का परिचालन नहीं किया जायेगा, तब तक उनका धरना जारी रहेगा. साथ ही कहा कि फिलहाल सरकार आधी झुकी है. यह उनके आंदोलन और कतरास की जनता की आधी जीत है और आगे पूर्ण विजय का पताका भी फहरेगा. विजय झा ,अशोक सिंह और ओपी लाल ने रविवार को 50 प्लेटफार्म टिकट कटवाए और तब अंदर प्रवेश किया. इन लोगों ने चंद्रपुरा तक के लिए भी टिकट कटवाए.

15 जून को बंद हुई थी डीसी लाइन

धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन से अनगिनत संख्या में लोग हर दिन सफर करते थे. लेकिन डीजीएमएस की रिपोर्ट में भूमिगत आग का खतरा बताकर डीसी लाइन को 15 जून 2017 से बंद कर दिया गया था. डीजीएमएस की रिपोर्ट आने पर पीएमओ ने डीसी लाइन को बंद कर दिया था. जिससे इस रूट पर चलने वाली 26 जोड़ी ट्रेनों का परिचालन एक समय में ही बंद हो गया था. जिसका काफी विरोध भी हुआ था और लोगों ने प्रदर्शन भी किये थे. काफी संख्या में रोज कमाने खाने वाले लोग भी बेरोजगार हो गये थे.

लेकिन अब डीसी लाइन के फिर से शुरू होने पर लोगों में काफी खुशी है. वहीं स्टेशन भी गुलजार हो गया है. साथ ही आज के दिन इस रूट में सफर करने के लिये लोगों में होड़ लगी है.

इसे भी पढ़ें – तीन सालों से विज्ञापन निकालकर चुप है JPSC, परीक्षा के इंतजार में खत्म हो रही छात्रों की उम्र   

इसे भी पढ़ें – दल-बदल मामले पर टूटा बाबूलाल का संयम, कहा- वे झारखंड के लोगों को @### समझते हैं क्या

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: