न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बच्चों के प्लेसमेंट को लेकर डीएवी कॉलेज कृतसंकल्प : प्राचार्य

डीएवी कॉलेज में प्लेसमेंट इंटरव्यू शुरू

108

Palamu : बच्चों के उज्जवल भविष्य को लेकर डीएवी इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी कॉलेज कृतसंकल्प है. छात्र-छात्राओं की मेहनत और उनकी भावनाओं का ख्याल रखते हुए अधिक से अधिक प्लेसमेंट की तैयारी शुरू कर दी गयी है. उक्त बातें डीएवी कॉलेज के प्राचार्य डॉ संतोष कुमार ने रविवार को कहीं. वह कॉलेज में बच्चों के प्लेसमेंट इंटरव्यू शुरू होने के बाद पत्रकारों से मुखातिब थे. मौके पर बीएमए वेल्थ क्रिएटर्स कोलकाता के ब्रांच हेड रामाश्रय कुमार एवं एरिया मैनेजर चंदन कुमार सुमन भी उपस्थित थे. प्राचार्य ने कहा कि बीएमए वेल्थ क्रिएटर कोलकाता की कंपनी द्वारा यहां छात्र-छात्राओं के प्लेसमेंट को लेकर इंटरव्यू शुरू करा दिया गया है. यहां और भी कई सारी कंपनियां आनेवाली हैं. इस इंटरव्यू में काफी बच्चे भाग ले रहे हैं, जिन्हें जल्द ही जॉब प्राप्त हो जायेगा.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- RU के नये कैंपस में नहीं हो रहा कोई निर्माण, पुराने कैंपस में ही बन रहे नये विभाग

इंजीनियरों के गढ़ के रूप में विकसित होगा पलामू प्रमंडल : डॉ संतोष कुमार

प्राचार्य डॉ संतोष कुमार ने कहा कि डीएवी इंजीनियरिंग कॉलेज पलामू प्रमंडल ही नहीं, बल्कि झारखंड की एक शान है. खासकर पलामू प्रमंडलवासियों के लिए यह एक वरदान के रूप में है. कहा कि कॉलेज ने बच्चों को हर तरह की फैसिलिटी उपलब्ध कराने को लेकर पूरी तैयारी कर रखी है. इसका फायदा यहां शिक्षा ग्रहण कर रहे छात्र-छात्राओं को मिल रहा है. उन्होंने कहा कि शहर के कोलाहल से दूर स्वच्छ वातावरण में यहां बच्चों को इंजीनियरिंग की शिक्षा दी जा रही है. आनेवाले दिनों में पलामू प्रमंडल इंजीनियरों के गढ़ के रूप में विकसित होगा. कहा कि यहां छात्र-छात्राओं को इंजीनियरिंग की पढ़ाई की वे सारी सुविधाएं उपलब्ध करा दी गयी हैं, जो अन्य प्रदेशों में दी जा रही हैं. छात्रों के रहने एवं उनके खान-पान का विशेष ध्यान रखा जा रहा है.

इसे भी पढ़ें- बांस की खेती पर बीएयू में पांच दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का समापन

स्कॉलरशिप की भी दी गयी है व्यवस्था

डॉ संतोष कुमार ने कहा कि नये सत्र में मैकेनिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, कंप्यूटर साइंस एवं इलेक्ट्रॉनिक कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग में नामांकन को लेकर भी कॉलेज द्वारा विशेष तैयारी की गयी है. अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं अत्यंत पिछड़ा वर्ग के लिए यहां स्कॉलरशिप की भी व्यवस्था दी गयी है. सत्र की शुरुआत होते ही बच्चों को और भी बेहतर फैसिलिटी के साथ यहां इंजीनियरिंग की शिक्षा दी जायेगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: