न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बीआइटी मेसरा में गिर रहा कैंपस इंटरव्यू का डाटा, बीटेक के आधे से कम डिग्रीधारकों को ही मिल रही नौकरियां

बायो इंजीनियरिंग, प्रोडक्शन, पोलिमर टेक्नोलॉजी, सिविल इंजीनियरिंग में नाम मात्र हो रहा है स्टूडेंट्स का चुनाव

1,487

Deepak

mi banner add

Ranchi : झारखंड के सबसे पुराने डीम्ड यूनिवर्सिटी बीआइटी मेसरा में अब बीटेक डिग्री धारकों को नौकरियां कम मिल रही हैं. इंडिया टुडे के सर्वेक्षण में देशभर के 10 निजी इंजीनियरिंग कॉलेजों में जिस बीआइटी मेसरा को दूसरा स्थान दिया गया था. वहां के स्टूडेंट्स अब नौकरियों की तलाश में जुटने लगे हैं. 2015-16 के मुकाबले 2017-18 में बीटेक के नौ पाठ्यक्रमों में 30 फीसदी से अधिक की गिरावट आयी है. बायो इंजीनियरिंग, पोलिमर टेक्नोलॉजी, सिविल इंजीनियरिंग, प्रोडक्शन इंजीनियरिंग में सबसे ज्यादा गिरावट हुई है. संस्थान में अब भी कंप्यूटर साइंस, मैकेनिकल इंजीनियरिंग और आइटी की स्थिति थोड़ी ठीक है. पर अन्य संकायों की स्थिति ठीक नहीं है. प्रत्येक वर्ष संस्थान की तरफ से 820 सीटों पर स्टूडेंट्स का दाखिला लिया जाता है.

इसे भी पढ़ें – दर्द-ए-पारा शिक्षक: उधार पर चल रहा जुदिका का परिवार, तंगी ने सामाजिक सम्मान भी छीना

अब तो आधे स्टूडेंट्स को भी नौकरियां नहीं मिल रही हैं. 2015-16 में जहां 602 बीटेक स्टूडेंट्स का कैंपस सेलेक्शन हुआ था, वह 2017-18 में घटकर मात्र 319 तक रह गया है. संस्थान का दावा है कि उसके सभी पाठ्यक्रमों को नेशनल बोर्ड ऑफ एक्रिडिटेशन (एनबीए) से मान्यता मिली हुई है. वैसे भी राज्य के सबसे पुराने संस्थान होने की वजह से इसकी साख अब भी बनी हुई है. राज्य के उच्च, तकनीकी शिक्षा और कौशल विकास विभाग से अभी भी बीआइटी मेसरा को अनुदान दिया जाता है.

क्या है वजह

विश्लेषकों का कहना है कि, इंजीनियरिंग ग्रैजूएट्स की मांग अब काफी कम हो गयी है. कंप्यूटर साइंस, इलेक्ट्रिकल, आइटी जैसे अत्याधुनिक विषयों को छोड़ अन्य की मांग और जॉब ऑफर भी कम होने लगे हैं. देशभर में इंजीनियरिंग कॉलेजों से उत्तीर्ण होनेवाले बच्चों को औसत नौकरियां ही मिल रही हैं. हां कंप्यूटर साइंस के विद्यार्थियों को कंपनियां लाख का अधिकतम पैकेज जरूर दे रही हैं. पर इस फील्ड में भी औसत सलाना पैकेज 7.5 लाख तक ही पहुंच रहा है.

इसे भी पढ़ें – सरायकेला में मॉब लिंचिंगः नफरत की आग ने आपके अपनों को हत्यारा बना ही दिया !

पाठ्यक्रमदाखिलाप्लेसमेंट

2015-16

प्लेसमेंट

2016-17

प्लेसमेंट

2017-18

बायो इंजीनियरिंग60271004
केमिकल इंजी.60163123
पोलिमर इंजी.60251708
सिविल इंजी.60492413
कंप्यूटर साइंस इंजी.1218412559
इइइ60724421
आइटी60934725
मैकेनिकल121226239
प्रोडक्शन60142019

 

इसे भी पढ़ें – चमकी बुखार पर बिहार और केंद्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, सात दिनों में मांगा जवाब

नोट : बायोटेक, इसीइ के आंकड़े उपलब्ध नहीं कराये गये हैं. इसलिए इसके प्लेसमेंट का डाटा शामिल नहीं किया गया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: