JharkhandRanchi

21 वर्षों में बने ग्रामीण सड़क व पुलों का डाटा बेस होगा तैयार, सॉफ्टवेयर बनकर तैयार

योजना पूरा करने होगी सुविधा

RANCHI :  राज्य सरकार ने झारखंड के ग्रामीण पथों एवं पुलों का डेटाबेस तैयार कराने का फैसला लिया है. इसके लिए स्कीम मैनेजमेंट सिस्टम सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है. ग्रामीण कार्य सचिव डॉ. मनीष रंजन ने सड़कों व पुलों का डाटाबेस तैयार करने के लिए सभी ग्रामीण कार्य विभाग, विशेष प्रमंडल के मुख्य अभियंता व सभी एसई, कार्यपालक अभियंताओं को पत्र लिखा है.

सचिव ने यह निर्देश दिया है कि एक माह के अंदर झारखंड राज्य के गठन के बाद से अब तक निर्मित ग्रामीण पथों एवं पुलों का डेटा सॉफ्टवेयर में अपलोड करना सुनिश्चित करें. यानि 2000-2001 से अब तक 21 सालों में बनाये गये सड़कों व पुलों का रिकार्ड वेबसाइट पर उपलब्ध होगा.

advt

इसे भी पढ़ेंः पंचायत चुनाव पर सीएम से चर्चा, छठ के बाद जारी हो सकती है अधिसूचना

सचिव ने कहा है कि इससे ग्राम की सड़क एवं पुल की स्थिति का पता चल सकेगा. वहां कब सड़क, पुल का निर्माण हुआ था एवं कब मरम्मत की गयी. इससे प्रत्येक वित्तीय वर्ष में योजनाओं के चयन में सुविधा होगी. इनमें वैसी योजनाएं ली जायेंगी जो भौतिक व वित्तीय रूप से पूर्ण हों. इसके अलावा चालू योजनाएं भी दर्ज करायी जायेगी.

इसे भी पढ़ेंः एक महीने पहले खरीदी इंश्योर्ड बाइक की मरम्मत को मांगे 22 हजार, ज्वाला सुजुकी शोरूम में 3 घंटे चला हंगामा

सीएस ने दिया था निर्देश

झारखंड गठन के बाद निर्मित ग्रामीण पथ एवं पुल तथा निर्माणाधीन ग्रामीण पथ एवं पुल का डेटाबेस विभागीय पोर्टल पर अपलोड किया जाना है. इस संबंध में राज्य के मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने भी बैठक की थी. सीएस ने कहा था कि राज्य संपोषित योजना के अंतर्गत अब तक निर्मित ग्रामीण पथ व पुलों का डेटाबेस तैयार करें. इस काम के लिए झारखंड स्पेस एप्लीकेशन सेंटर का भी सहयोग लेने को कहा गया है.

इसे भी पढ़ेंः धौनी मुझे अपना बिस्तर देकर खुद ज़मीन पर सोए थे, वह मेरे ‘लाइफ कोच’ और बड़े भाई हैं :  हार्दिक पांड्या

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: