Main Sliderदंगल #Twitter का

दंगल #Twitter काः मंत्री मिथिलेश पर टिप्पणी करके फंसे बाबूलाल मरांडी, झामुमो हमलावर

NewsWing Desk : भाजपा में शामिल होने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने ट्वीटर में सक्रियता बढ़ा दी है. दिलचस्प यह है कि वह खुद फ्रंटलाइन पर जाकर खेल रहे हैं. जबकि सोशल मीडिया का सामान्य नियम है कि प्रमुख नेता खुद छोटे मामलों या निगेटिव चीजों में नहीं उलझते.
इसके लिए ट्रोल टीम को लगाया जाता है. श्री मरांडी ने किसी ट्रोल टीम के बजाय खुद ही यह जिम्मा लेकर बड़ा साहस दिखाया है. भले ही, इसमें उलझ जाने पर झारखंड भाजपा का आईटी सेल उनकी मदद के बजाय किनारे खड़ा होकर तमाशा देखता रहता है. दिन के करीब 1.35 बजे बाबूलाल मरांडी ने मंत्री मिथिलेश ठाकुर को लेकर एक ट्वीट किया. जिसके बाद वह झामुमो समर्थकों के निशाने पर आ गये.


आज मरांडी के एक ट्वीट पर जबरदस्त जंग हुई. बाबूलाल ने राज्य के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश ठाकुर के चाईबासा दौरे पर टिप्पणी की. लिखा- “मंत्री ने पाताहातू के स्टेट क्वारेंटाइन सेंटर में घुसकर निरीक्षण किया. यहां से एक कोरोना पॉजिटिव निकला है.”
इसके बाद मरांडी ने व्यंग्य में लिखा- “क्या ऐसा कोई फार्मूला झारखंड सरकार को मिल गया है, जिससे मंत्रियों पर कोरोना का असर नहीं होगा? अगर है तो वही फ़ार्मूला हिंदपीढ़ी वालों को भी क्यों नहीं दे देते?”
मरांडी के ट्विट का मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने भी जवाब दिया है. उन्होंने लिखा है कि, यह वीडियो पाताहातू क्वारंटीन सेंटर का नहीं बल्कि श्रमिकों के ट्रांजिट होम का है ! आप एक मानिंद राजनेता हैं…. @yourBabulal ऐसी बचकानी हरकतें शोभती नहीं आपको !


मरांडी के इस ट्वीट पर भाजपा आईटी सेल चुप रहा. झारखंड भाजपा नेताओं विधायकों ने भी चुप्पी साध ली. लेकिन झामुमो वालों ने हमला बोल दिया.
धीरज दूबे ने लिखा- “आपको तकलीफ क्या है मरांडीजी? कि हमारे मंत्री मिथिलेश ठाकुर जी ने क्वारेंटाइन सेंटर के भाइयों का हालचाल क्यों पूछा? आपकी निगाह में यह गुनाह है, तो हम यह गुनाह हजार बार करेंगे. और हां, मंत्री जी मास्क भी लगाते हैं, सेनेटाइजर भी. उनका विभाग पूरे राज्य को स्वच्छता सिखाता है.”

adv


नवीन तिवारी ने लिखा- “बाबूलाल जी नेता विपक्ष नहीं बन सके. लेकिन ट्वीटर में ट्रॉल की भूमिका मिलने के लिए बधाई. अब घर बैठकर @HemantSorenJMM @MithileshJMM के काम पर टीका टिप्पणी करके समय काट लीजिये. हमारे मंत्री जी तो कोरोना से पूरे राज्य को बचाने के अभियान में जुटे हैं. योद्धा को खतरा तो होता ही है.”

प्रियम सिंह ने लिखा- “इसमें हिंदपीढ़ी कहां से आ गया मरांडी साहब? कल तक आप जेवीएम में सेकुलर बने फिरते थे. अब फिर से दंगाई पार्टी में शामिल हुए हैं, तो अपनी वैल्यू बनाने के लिए इतना नीचे गिरने की जरूरत नहीं. मंत्रीजी को राज्य की भी चिंता है, अपनी भी. आप उनकी चिंता में दुबले न हों.”


अनिल कुमार ने लिखा- “समझ में नहीं आ रहा कि मरांडी साहब के नाम पर ऐसे बचकाने ट्वीट कौन कर रहा है. स्वच्छता मंत्री अगर राज्य का दौरा करके कोरोना से बचाव के काम का जायजा नहीं लेंगे, तो राज्य इस महामारी का मुकाबला कैसे करेगा? मरांडी जी, कृपया अपनी IT सेल में कुछ जानकर लोगों को लाएं, नहीं तो मजाक उड़ेगा.”


झामुमो गढ़वा ने लिखा- “गलत वीडियो डालकर गुमराह कर रहे हैं बाबूलाल जी! यह वीडियो वहां का है ही नहीं, जहां कारोना पॉजिटिव मरीज पाया गया है. अफवाह फैलाने की जांच कर विधिसम्मत कारवाई हो !!”


राजा सिंह ने लिखा- “बाबूलाल जी को मालूम नहीं है कि कोरोना से बचाव का सबसे जरूरी कदम है साबुन से हैंडवाश. मिथिलेश ठाकुर जी ने पेयजल स्वच्छता मंत्री बनने के बाद पहले ही दिन से इस पर जागरूकता का निर्देश दिया. जबकि उस वक्त कोरोना आया भी नहीं था. मंत्री जी के पास ट्वीट के अलावा भी कई काम हैं.”


दिलीप गुप्ता ने व्यंग्य किया- “मरांडी जी ने झारखंड के शेर हमारे चाचा मिथिलेश ठाकुर की पब्लिसिटी कर दी. धन्यवाद. हेमंत सोरेन के नेतृत्व में मंत्रीजी खुद को खतरे में डालकर हर सेंटर का दौरा करके जनता की मदद कर रहे हैं. यह आपने दिखा दिया. योद्धा को खतरा होता है, लेकिन झारखंडवासियों की दुआ हमारे नेता के साथ है.”


अविनाश ने लिखा- “पत्रवीर बाबूलाल जी मिथलेश कुमार ठाकुर जी राज्य के जिम्मेदार मंत्री होने के नाते अपनी जान की परवाह किये बगैर मजदूरों से मिल उनका कष्ट दूर करने का काम कर रहे हैं. आपकी सरकार ने तो विदेशों से कोरोना लाकर मजदूरों को मरने पर मजबूर कर दिया.”


जिस सेंटर का वीडियो है, उसे लेकर विवाद
इस बीच, जिस सेंटर को लेकर मरांडी ने ट्वीट किया, उसे लेकर विवाद हो गया है. मरांडी के अनुसार, यह चाईबासा के पाताहातू का वीडियो है. मरांडी के अनुसार इस सेंटर से एक कोरोना पॉजिटिव निकला है. झामुमो समर्थकों ने कई ट्वीट में दावा किया कि यह उस सेंटर का वीडियो नहीं, जहां कोरोना पॉजिटिव पाया गया.
राहुल तिवारी ने लिखा- “सबसे पहले तो आप अपनी जानकारी ठीक करें, ये पाताहातू का स्टेट क्वारेंटाइन सेंटर नहीं st viveka विद्यालय है, गलत वीडियो डालकर जनता को भ्रमित ना करें…”


धीरज दूबे ने लिखा- “बाबूलाल जी के द्वारा भ्रामक खबर फैलाने पर डीजीपी @MVRaoIPS जी से अनुरोध है कि इनपर विधिसम्मत कार्रवाईं की जाएं.”

अब देखना दिलचस्प होगा कि यह किस सेंटर का वीडियो है, और उस सेंटर से कोई कोरोना पॉजिटिव मरीज पाया गया अथवा नहीं. यह भी देखना दिलचस्प होगा कि झारखंड भाजपा इस मौके पर बाबूलाल जी को अकेले झेलने को छोड़ देगी, या उनका साथ देगी.

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button