न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दामोदर नदी से धनबाद के बलियापुर के 26 गांवों में होगी जलापूर्ति

700
  • 66281 परिवार होंगे लाभान्वित, मंजूर किये 74.78 करोड़ की राशि
  • डीएमएफटी फंड से मिली राशि का उपयोग मुख्यमंत्री ग्रामीण जलापूर्ति योजना में होगा

Ranchi: धनबाद जिले के बलियापुर क्षेत्र में दामोदर नदी से पीने के पानी की समस्या सुलझायी जायेगी. जिला खनिज फाउंडेशन ट्रस्ट (डीएमएफटी) से 74.78 करोड़ की राशि मंजूर की गयी है. धनबाद जिले में यह राशि पेयजल और स्वच्छता विभाग के धनबाद प्रमंडल द्वारा खर्च की जायेगी.

इसे भी पढ़ेंः दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी को नहीं मिल रहा झारखंड जैसे छोटे राज्य में अदद उम्मीदवार

इससे बलियापुर के 26 गांवों के 66281 परिवारों की जलापूर्ति सुनिश्चित की जायेगी. इन गांवों में अनुसूचित जाति के 11392 परिवार और 6014 अनुसूचित जनजाति परिवार रहते हैं. 2011 की आबादी के आधार पर बलियापुर के आसपास के गांवों में पानी पहुंचाने की योजना बनायी गयी है.

मुख्यमंत्री ग्रामीण जलापूर्ति कार्यक्रम में जल स्त्रोत के आधार पर पानी पहुंचाने का लक्ष्य तय किया गया है. योजना में 11203 घरों को पहले चरण में वाटर कनेक्शन दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंः सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों को भरना मुश्किल, इस साल रिटायर हो जायेंगे 33 विभागों के 3359 कर्मचारी

Related Posts

धनबाद : हाजरा क्लिनिक में प्रसूता के ऑपरेशन के दौरान नवजात के हुए दो टुकड़े

परिजनों ने किया हंगामा, बैंक मोड़ थाने में शिकायत, छानबीन में जुटी पुलिस

SMILE

कुसुमाटांड़, मुकुंदा, सरईगढ़ा और करमाटांड़ में बनेगा जलमीनार

बलियापुर क्षेत्र के 26 गांवों में जलापूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कुसुमाटांड़, मुकुंदा, सरईगढ़ा और करमाटांड़ में जलमीनार बनाया जायेगा. इसके अलावा जलशोध संस्थान, इनटेक वेल, वितरण पाइपलाइन स्थापित किये जायेंगे.

पांच और योजनाएं भी मंजूर

मुख्यमंत्री ग्रामीण जलापूर्ति कार्यक्रम के तहत पांच अन्य योजनाएं मंजूर की गयी हैं. इसमें चुरचू पूर्व के लिए 12.25 करोड़, चुरचू पश्चिम के लिए 35.05 करोड़, पतरातू पूर्व के लिए 36.07 करोड़, पतरातू पश्चिम में 36.50 करोड़ रुपये की योजनाएं ली जायेंगी. इसके लिए डीएमएफटी के तहत रामगढ़ और हजारीबाग जिले के पेयजल और स्वच्छता प्रमंडलों को शामिल किया गया है.

इसे भी पढ़ेंःलालू ने किया दावाः महागठबंधन में वापस आना चाहते थे नीतीश, प्रशांत किशोर को भेजा था मिलने

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: