न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आदर्श ग्राम हाहाप में डकैती करने आये अपराधी चढ़े ग्रामीणों के हत्थे, पिटाई से एक की मौत

323

Ranchi : राजधानी के नामकुम थाना क्षेत्र के आदर्श ग्राम हाहाप के लुबूडीह टोला में शनिवार की रात डकैती करने आये अपराधियों में से एक अपराधी ग्रामीणों के हत्थे चढ़ गया. जबकि, शोर होने पर दो अपराधी भाग गये. ज्ञात हो कि डकैती के दौरान अपराधियों द्वारा की गयी मारपीट में चैतन्य मुंडा और डोलो मुंडा गंभीर रूप से घयल हो गये. इसी हाथापाई के बीच चोरी करने आये अपराधी को घर के लोगों ने पकड़ लिया और उसकी जमकर पिटाई की. ग्रामीणों से घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस रात में ही घटनास्थल पर पहुंची. पुलिस ने एक अपराधी समेत जख्मी अवस्था में तीन लोगों को इलाज के लिए रिम्स भेजा. इनमें अपराधी आचो मुंडा भी था, जिसकी मौत अस्पलात पहुंचते ही हो गयी. घायल लोगों को रिम्स में भर्ती कराया गया है, जहां उनकी स्थिति गंभीर बनी हुई है. ग्रामीणों के अनुसार मृतक अपराधी सुली खूंटी का रहनेवाला था. मालूम हो कि देर रात आदर्श ग्राम हाहाप में डकैती की घटना को अंजाम देने के लिए आये हुए थे. करीब छह की संख्या में अपराधी लुबूडीह पहुंचे थे.

इसे भी पढ़ें – 17 जिलों को अब तक नहीं मिली 14वें वित्त आयोग की राशि, राज्यभर के मुखिया कलमबंद हड़ताल पर

घटनास्थल से मोबाइल, रिवॉल्वर और दो गोली बरामद

घटना की प्रत्यक्षदर्शी मिला देवी के अनुसार शनिवार की रात को करीब 11-12 बजे के बीच उन्हें बचाओ-बचाओ का शोर सुनाई दिया. वह अपने पति के साथ चैतन्य मुंडा का घर पहुंचीं. वहां उन्होंने देखा कि दो लोग भाग रहे हैं और घरवाले काफी जख्मी हैं. घायल अवस्था में घरवाले पानी की मांग कर रहे थे और एक अपराधी से लड़ रहे थे. तीन घयलों को पुलिस इलाज के लिए रिम्स ले गयी. पुलिस ने घटनास्थल से एक मोबाइल, रिवॉल्वर और दो गोली भी बरामद किये.

इसे भी पढ़ें – NEWS WING IMPACT: निगम ने डीजल चोरी की जांच के लिए बनाई 22 सदस्यीय कमेटी

ऐसे हुई घटना

फेरी कुमारी, जिनके घर में डकैती हुई, कहती हैं, “हमलोग जतरा देखने गये थे. जब घर आये, तो घर का सामान बिखरा था. चाचा और भाई अस्पताल में हैं. घर में रखे 10 हजार रुपये भी डकैत ले गये. मेरे भाई ने घटना के बारे में बताया कि वे सब घर में सोये हुए थे और पिताजी बाहर सोये थे. इसी दौरान डकैत आये और पिताजी को उठाकर पीटने लगे. उसके बाद पिताजी को घर के अंदर खींचकर लाये और पैसे मांगने लगे. जब पिताजी ने कहा कि पैसे नहीं हैं, तो घर के अंदर रखे सारे बक्सों को तोड़ दिया. जब उसमें भी कुछ नहीं मिला, तो पहले मेरे चाचा को अपराधियों ने पीटा. इसी बीच मेरा भाई बिस्तर के नीचे छिप गया था और दादा को फोन करने लगा. इतने में डकैतों में से एक ने मेरे भाई को देख लिया. इस पर मेरे भाई ने उसका गला पकड़कर साइड कर दिया. लेकिन, तभी दो और डकैत आये और मेरे भाई को पकड़ लिया. जब मेरे भाई ने भागने की कोशिश की, तो दो और डकैत आये और मिलकर उसे पीटने लगे.”

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: