JamshedpurJharkhandKhas-Khabar

Cyrus Mistry Died: एक्सएलआरआई के नये कैंपस से लेकर टेल्को के मिलेनियम पार्क का उदघाटन किया था साइरस मिस्त्री ने

Jamshedpur: टाटा संस के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री की एक सड़क दुर्घटना में हुई मौत ने देश के साथ ही शहरवासियों को भी झकझोर कर रख दिया है. मिस्त्री भले ही चले गये, मगर शहर में उनके कई ऐसे फूटप्रिंट्स है, जो उनकी याद दिलाते रहेंगे. साइरस मिस्री 2012 से लेकर 2016 के बीच शहर में लगभग आधे दर्जन बार आए, मगर एक्सएलआरआई का नया कैंपस हमेशा उनकी याद को बनाए रखेगा. 2015 में एक्सएलआरआई-जेवियर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट के नए परिसर का उद्घाटन टाटा संस के अध्यक्ष साइरस मिस्त्री ने किया था. यही नहीं इस इवेंट में साइरस मिस्त्री ने एक्सएलआरआई फैकल्टी, स्टाफ और छात्रों के साथ भी बातचीत भी की थी. नया कैंपस 7 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है. कैंपस में नया शिक्षण केंद्र, ग्लोबल एमबीए प्रोग्राम के लिए एक अंतरराष्ट्रीय केंद्र और लड़कों एवं लड़कियों के लिए छात्रावास की सुविधा शामिल है. यही नहीं 2014 में साइरस मिस्त्री ने टाटा स्टील के साथ टाटा मोटर्स का भी दौरा किया था. उन्होंने टेल्को टाउनशिप में बने नये मिलेनियम पार्क का उदघाटन किया था. मिस्त्री ने टाटा स्टील परिसर के अंदर बैटरी नंबर 11 का उद्घाटन भी किया था. इसी दौरान शाम को चेयरमैन स्टीलेनियम हॉल में अधिकारियों को संबोधित किया था. मिस्त्री सिंहभूम चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के एक कार्यक्रम में भी हिस्सा लिए थे. साथ ही दो तीन बार संस्थापक दिवस पर भी शहर आए थे.
मर्सि़डीज में सवार थे
टाटा संस के छठे अध्यक्ष साइरस मिस्त्री की एक सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गई है. मिस्त्री अहमदाबाद से मुंबई की यात्रा कर रहे थे, जब उनकी मर्सिडीज कार डिवाइडर से टकरा गई. हादसा पालघर जिले में हुआ. दुर्घटना दोपहर करीब 3.15 बजे हुई, जब मिस्त्री अहमदाबाद से मुंबई की यात्रा कर रहे थे. दुर्घटना सूर्य नदी पर एक पुल पर हुई.

चन्द्रशेखरन ने ट्वीट कर दुख व्यक्त किया

टाटा संस के चेयरमैन एन चन्द्रशेखरन ने ट्वीट कर साइरस मिस्त्री के निधन पर दुख व्यक्त किया है. उन्होंने लिखा है कि बहुत दुखद है इतनी कम उम्र में निधन होना.

कौन थे साइरस मिस्त्री?
साइरस पल्लोनजी मिस्त्री 2012 से 2016 तक टाटा समूह के छठे अध्यक्ष थे, जिन्होंने रतन टाटा से कार्यभार संभाला था. वह टाटा उपनाम के बिना कंपनी की बागडोर संभालने वाले केवल दूसरे व्यक्ति थे. मुंबई में एक पारसी परिवार में जन्मे मिस्त्री, पल्लोनजी मिस्त्री और पात्सी पेरिन दुबाश के बेटे थे. पल्लोनजी एक अरबपति और एक निर्माण व्यवसायी थे. लंदन के प्रतिष्ठित इंपीरियल कॉलेज के एक सिविल इंजीनियर मिस्त्री टाटा में शामिल होने से पहले परिवार के प्रमुख निर्माण व्यवसाय में शामिल थे. उन्होंने टाटा इंडस्ट्रीज, टाटा स्टील, टाटा केमिकल्स और टाटा मोटर्स में काम किया. उनकी कड़ी मेहनत रंग लाई क्योंकि वे फोर्ब्स गोकक, यूनाइटेड मोटर्स (इंडिया) और शापूरजी पल्लोनजी एंड कंपनी जैसी कई अन्य कंपनियों के निदेशक बन गए.
टाटा समूह के अध्‍यक्ष के रूप में उथल-पुथल भरा रहा कार्यकाल
हालांकि, टाटा अध्यक्ष के रूप में मिस्त्री का शासनकाल उथल-पुथल भरा रहा. चार साल बाद उन्हें टाटा ट्रस्ट्स के नेतृत्व में एक बोर्डरूम तख्तापलट में शीर्ष प्रशासनिक पद से हटा दिया गया था, जिसमें टाटा संस का 66 प्रतिशत स्वामित्व था और रतन टाटा द्वारा नियंत्रित किया गया था. कोर्ट रूम और बोर्डरूम की लड़ाई आखिरकार तब रुक गई जब 2021 में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया कि साइरस का निष्कासन कानूनी था और माइनरिटी शेयरधारक अधिकारों पर टाटा संस के नियमों को भी बरकरार रखा. उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने 282 पृष्ठ के फैसले में दिसंबर 2019 के नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (NCLAT) के आदेश को निलंबित कर दिया, जिसने मिस्त्री को TATA SONS BOARD में फिर से शामिल करने का आदेश दिया था और वर्तमान अध्यक्ष N Chandrashekharan की नियुक्ति को अवैध करार किया था.
पर्शिया से आया था परिवार
यह दो पारसी व्यापारी परिवारों के बंधन और टूटने की कहानी है, जिनके पूर्वजों के बारे में माना जाता है कि वे पर्शिया से गुजरात आये थे. ऐसा माना जाता था कि SP Group को Tata Sons के शेयर उस वक़्त मिले थे जब उन्होंने 1930 के दशक में फाइनेंसिंग फर्म F.E. Dinshaw के साथ जुड़े थे. टाटा के वकील ने अदालत में तर्क दिया कि Mistry के पास 1965 तक कोई शेयर नहीं थे और उन्होंने बाद में JRD Tata के भाई-बहनों से इसे खरीदा था. जो भी हो, एसपी समूह के पास टाटा होल्डिंग कंपनी में 18.37 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी थी, जिससे मिस्त्री टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी में सबसे बड़े व्यक्तिगत शेयरधारक थे. टाटा परिवार के ट्रस्टों की 66 प्रतिशत हिस्सेदारी है. NCLAT के फ़ैसले पर SC के स्थगन आदेश के अनुसार SP समूह ने व्यवसाय और बाहर दोनों परिवारों के बीच मौजूद व्यक्तिगत संबंधों के आधार पर व्यावसायिक समूह के रूप में Tata Group में प्रवेश किया.
साइरस की बहन से हुई थी नोएल टाटा की शादी
इसके अलावा Ratan Tata के सौतेले भाई Noel Tata की शादी Pallonji Mistry की बेटी और Cyrus की बहन Aloo Mistry से हुई थी. 2006 में Cyrus के पद संभालने से पहले Pallonji, Tata Sons के Director थे. जब 2011 में Cyrus को Tata Group के उपाध्यक्ष के रूप में चुना गया, तो रतन टाटा ने एक बयान में कहा कि Cyrus की नियुक्ति एक “अच्छी और दूरदर्शी पसंद” है. “वह अगस्त 2006 से Tata Sons के बोर्ड में हैं और मैं उनकी भागीदारी, उनकी विनम्रता से प्रभावित रहा हूं. वह बुद्धिमान और योग्य हैं. टाटा ने कहा कि मैं अगले साल से अधिक समय तक उनके साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध रहूंगा, उन्हें अपनी सेवानिवृत्ति पर समूह की पूरी जिम्मेदारी लेने के लिए उन्हें एक्सपोजर, भागीदारी और संचालन अनुभव प्रदान करूंगा. साइरस ने 2012 में अध्यक्ष पद संभाला था. लेकिन उन्हें अक्टूबर 2016 में पद से हटा दिया गया था. 24 अक्टूबर, 2016 को, जिस दिन उन्हें हटाया गया, रतन टाटा और एक अन्य निदेशक नितिन नहरिया अपने कमरे में चले गए और स्वेच्छा से इस्तीफा देने का अवसर प्रदान किया. लेकिन उन्होंने ऐसा करने से इंकार कर दिया. फिर बोर्ड ने साइरस को हटा दिया.

ये भी पढ़ें- Cyrus Mistry News : साइरस म‍िस्‍त्री की मौत से जमशेदपुर में भी शोक की लहर, टाटा ग्रुप के चेयरमैन रह चुके थे साइरस

Related Articles

Back to top button