National

Cyclone Fani के अगले 24 घंटे में गंभीर चक्रवाती तूफान में तब्दील होने की आशंका

NewDelhi : भारतीय मौसम विभाग ने कहा कि दक्षिणपूर्व बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना गहरे दबाव वाला क्षेत्र शनिवार को एक चक्रवाती तूफान (Cyclone Fani) फोनी में तब्दील हो गया जो आगे गंभीर चक्रवाती तूफान में तब्दील होगा. भारतीय मौसम विभाग के चक्रवात चेतावनी प्रभाग के अनुसार चक्रवात फोनी के 30 अप्रैल की शाम में उत्तर तमिलनाडु और दक्षिण आंध्र प्रदेश के तटों के पास पहुंचने की संभावना है. चक्रवात फोनी वर्तमान में पूर्वी भूमध्यरेखीय हिंद महासागर और पास के दक्षिणपूर्व बंगाल की खाड़ी में स्थित है.

भारतीय मौसम विभाग के अतिरिक्त महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा, हमारे आकलन के अनुसार, आज की स्थिति के अनुसार यह आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु के तटों के पास पहुंच जायेगा, लेकिन इसके उससे टकराने की संभावना नहीं है. तट पर पहुंचने से पहले यह मुड़ सकता है. हम इसके रास्ते पर नजर रखे हुए हैं.महापात्र चक्रवात चेतावनी प्रभाग के प्रमुख भी हैं.

इसे भी पढ़ें – 200 बड़ी अमेरिकी कंपनियां चीन को छोड़ भारत आने की तैयारी में  : अमेरिकी सलाहकार समूह

Catalyst IAS
ram janam hospital

29 और 30 अप्रैल को भारी वर्षा होने की संभावना

The Royal’s
Sanjeevani

 चेन्नई में क्षेत्रीय चक्रवात चेतावनी केंद्र के निदेशक एस बालचंद्रन ने कहा कि फोनी के अगले 24 घंटे में एक गंभीर चक्रवाती तूफान में तब्दील होने की आशंका है. उन्होंने कहा कि बांग्लादेश के सुझाव पर तूफान का नाम फोनी रखा गया है. केरल में छिटपुट स्थानों पर 29 और 30 अप्रैल को भारी वर्षा होने की संभावना है. 30 अप्रैल और एक मई को उत्तर तटीय तमिलनाडु और दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम दर्जे की वर्षा हो सकती है.

भारतीय मौसम विभाग ने कहा कि 28 अप्रैल से श्रीलंका, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के तटों से लगे समुद्र में ऊंची लहरें उठने की संभावना है. विभाग ने श्रीलंका, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के तटों के मछुआरों को सलाह दी है कि वे समुद्र में न उतरें.

मौसम विभाग ने कहा कि अगले दो दिनों में भूमध्यरेखीय हिंद महासागर और उससे सटे दक्षिणपश्चिम बंगाल की खाड़ी में हवा की गति बढ़कर अधिकतम 145 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है. इन क्षेत्रों में समुद्र बहुत ऊंची लहरें उठ रही थीं. भारतीय मौसम विभाग ने मछुआरों को सलाह दी कि वे 27 अप्रैल से एक मई के बीच श्रीलंका, पुडुचेरी, तमिलनाडु और दक्षिण आंध्र प्रदेश के तटों से समुद्र में न उतरें.

इसे भी पढ़ें –  EVM वहीं खराब होती है जहां दलित-अल्पसंख्यक वोट हैं : सिब्बल

Related Articles

Back to top button