National

#Cyclon ‘अम्फान’ बदला सुपर साइक्लोन में, प्रधानमंत्री मोदी ने लिया तैयारियों का जायजा

New Delhi : देश भर में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने की चल रही कवायद के बीच देश के पूर्वी भाग पर एक और खतरा मंडराता दिख रहा है. चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ अब सुपर साइक्लोन में बदल चुका है यानी अब यह और गंभीर हो चुका है. यह 20 मई को पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तट को पार कर सकता है.

इसके चलते ओड़िशा के तटीय इलाकों और पश्चिम बंगाल की गंगा नदी के पास के इलाकों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश होने का अनुमान है.

सुपर साइक्लोन अम्फान से निपटने के लिए पीएम मोदी ने सोमवार को एक उच्च स्तरीय बैठक बुलायी और तैयारियों का जायजा लिया.

advt

मौसम विभाग ने बताया कि तूफान ‘अम्फान’ अब सुपर साइक्लोन में बदल चुका है. भुवनेश्वर स्थित मौसम विभाग ने ओड़िशा के गजपति, पुरी, गंजाम, जगतसिंहपुर और केंद्रपाड़ा में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है. मंगलवार को बालासोर, भद्रक, जाजपुर, मयूरभंज, खुर्जा और कटक में तेज बारिश हो सकती है.

इसे भी पढ़ें – #Corona: हजारीबाग, जमशेदपुर और चाईबासा से मिले एक-एक नये कोरोना पॉजिटिव, झारखंड में संक्रमण के मामले हुए 226

185 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार

मौसम विभाग ने कहा है कि तूफान के तट से टकराने के दौरान 155-165 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी जो कभी भी 185 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ सकती हैं. विभाग ने कहा कि अत्यधिक तेज हवाओं से कच्चे घरों को बहुत ज्यादा नुकसान और ‘पक्के’ घरों को कुछ हद तक नुकसान पहुंच सकता है.

तेज हवाओं के कारण बिजली एवं संचार के खंभे मुड़ या उखड़ सकते हैं, रेलवे सेवाओं को कुछ हद तक बाधित कर सकते हैं और ऊपर से गुजरनेवाले बिजली के तार एवं सिग्नल प्रणालियां प्रभावित हो सकती हैं तथा तैयार फसलों, खेतों-बगीचों को बड़े पैमाने पर नुकसान हो सकता है.

adv

इसे भी पढ़ें – पति बेचता है घर-घर जाकर दूध, पत्नी निकली कोरोना पॉजिटिव, बढ़ा संक्रमण का खतरा

भारी बारिश की चेतावनी

कोलकाता में क्षेत्रीय मौसम केंद्र के निदेशक जीके दास ने कहा कि चक्रवात के प्रभाव से उत्तर और दक्षिण 24 परगना, पूर्वी एवं पश्चिमी मिदनापुर, हावड़ा और हुगली समेत पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों में 19 मई को कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है जबकि दूर-दराज के कुछ इलाकों में भारी बारिश का अनुमान है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि तटीय इलाकों में राहत सामग्रियां, सूखे मेवे और ट्रेम्पोलिन भेज दिये गये हैं।

ओड़िशा में 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने की तैयारी

ओड़िशा के विशेष राहत आयुक्त पीके जेना ने कहा कि गंजाम, गजपति, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, भद्रक, बालासोर, मयूरभंज, जाजपुर, कटक, खुर्दा और नयागढ़ के जिलाधिकारियों से जरूरत पड़ने पर संवेदनशील इलाकों से लोगों को निकालने के लिए तैयार रहने को कहा है. उन्होंने कहा कि 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए तैयारियां कर ली गयी हैं लेकिन लोगों को किन स्थानों से निकालना है यह फैसला सही समय पर किया जायेगा.

एनडीआरएफ की टीमें भेजी गयीं

एनडीआरएफ के महानिदेशक एसएन प्रधान ने कहा कि 10 इकाइयों को ओड़िशा के विभिन्न जिलों में भेजा गया है जबकि 10 अन्य इकाइयों को तैयार रखा गया है. मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने अधिकारियों को लोगों को संवेदनशील इलाकों से निकालकर सुरक्षित स्थानों पर ले जाने की योजना बनाने का निर्देश दिया है.

इसे भी पढ़ें – #Lockdown: देश भर के लिए एक ही जगह से मिलेगा ई-पास, केंद्र सरकार ने बनायी नयी वेबसाइट

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button