न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पेट्रोल-डीजल के बाद रसोई गैस के दाम में कटौती, बगैर सब्सिडी वाला सिलेंडर 133 रुपये सस्ता

64

New Delhi: महंगाई से आम लोगों को बड़ी राहत मिली है. घरेलू कुकिंग गैस (एलपीजी ) की कीमतों में कटौती की गई है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में ईंधन के दामों में कमी आने के कारण शुक्रवार को एलपीजी की कीमत 6.52 रुपये प्रति सिलेंडर कम हुई है. जबकि, बिना सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडर के दाम 133 रुपये कम हुए हैं. देश की सबसे बड़ी फ्यूल रिटेलर कंपनी, इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन के मुताबिक, अब सब्सि डी में मिलने वाले 14.2 किलो वजनी सिलेंडर के लिए एनसीआर (नेशनल केपिटल रीजन) में 500.90 चुकाने होंगे. जबकि पहले उपभोक्ताओं को इसके लिए 507.42 रुपये चुकाने होते थे. नई कीमतें शुक्रवार आधी रात से लागू हो गई हैं.

छह महीने कीमत में बढ़ोतरी के बाद आयी कमी

एलपीजी के दामों में ये कमी जून के बाद से करीब छह महीने के बाद दर्ज की गई है. जबकि पिछले लगातार 6 महीने से गैस सिलेंडर के दाम बढ़ रहे थे. इस कटौती से ठीक पहले सिलेंडर के दाम में 14.13 रुपये तक की बढ़ोतरी हुई. नवंबर में सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडर के दाम में 2.94 रुपये की वृद्धि की गई थी. बता दें कि LPG उपभोक्ताओं को बाजार मूल्य पर रसोई गैस सिलेंडर खरीदना होता है. हालांकि, सरकार साल भर में 14.2 किलो वाले 12 सिलेंडरों पर सीधे ग्राहकों के बैंक खाते में सब्सिडी डालती है.

इंडियन ऑयल ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट और रुपये की मजबूती से बिना सब्सिडी वाली रसोई गैस के दाम में 133 रुपये कम किए गए हैं. उल्लेखनीय है कि पिछले छह सप्ताह में पेट्रोल के दाम में 9.6 रुपये और डीजल में 7.56 रुपये लीटर की कटौती हुई है.

अंतरराष्ट्रीय कीमतों के असर से तय होते हैं दाम

ज्ञात हो कि एलपीजी की औसत अंतरराष्ट्रीय बेंचमार्क दर और विदेशी मुद्रा विनिमय दर के मुताबिक एलपीजी सिलेंडर के दाम तय होते हैं. इसी आधार पर सब्सिडी राशि में हर महीने कमी या बढ़ोतरी होती है. ऐसे में जब अंतरराष्ट्रीय कीमतें बढ़ती हैं तो सरकार अधिक सब्सिडी देती है और जब कीमतें कम होती है तो सब्सिडी में कटौती की जाती है.

इसे भी पढ़ेंःग्लोबल एग्रीकल्चर समिट : बाबा रामदेव ने कहा- झारखंड न ले कोई टेंशन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: