GarhwaJharkhand

कोरोना संक्रमित मरीज के आत्महत्या मामले में दोषी पाए गए सीएस

Garhwa : सिविल सर्जन डा. दिनेश सिंह पर गाज गिर गई है. सदर अस्पताल के कोविड वार्ड में कोरोना मरीज की फांसी लगाकर आत्महत्या करने के मामले में सिविल सर्जन को दोषी पाते हुए कार्रवाई की गयी है.

डा. दिनेश कुमार सिंह को सिविल सर्जन के प्रभार से मुक्त करते हुए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मांझियाव के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ कमलेश कुमार को प्रभारी सिविल सर्जन बनाया गया है. साथ ही इन्हें निकासी एवं ब्ययन पदाधिकारी भी घोषित किया गया है.

विदित हो कि गत मंगलवार को गढ़वा सदर अस्पताल स्ट्रीट कोविड-19 सेंटर में कोरोना वायरस संक्रमित मरीज ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी.

इसे भी पढ़ेःकोरोना आपदा में मुंह दिखाई करके मरीजों की जान आफत में डाल रहे हैं प्राइवेट अस्पतालः बाबूलाल मरांडी

कोविड मरीज की आत्महत्या के मामले में गढ़वा विधायक सह झारखंड सरकार के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर ने उपायुक्त को जांच कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया था.

उपायुक्त राजेश कुमार पाठक ने मामले की जांच करते हुए सीएस सीएस को दोषी पाया एवं इसकी रिपोर्ट सरकार को भेज दी. उपायुक्त के जांच प्रतिवेदन के आधार पर सरकार के विशेष सचिव चंद्र किशोर उरांव ने डॉ दिनेश कुमार सिंह को सिविल के प्रभार से मुक्त करते हुए डॉ कमलेश कुमार सिंह को सिविल सर्जन का प्रभार दे दिया है. उपायुक्त ने बताया कि जांच में डॉ सिंह दोषी पाए गए थे. इसकी रिपोर्ट सरकार को भेज दी गयी थी.

इसे भी पढ़ेःBig Breaking : कोरोना से एक ही परिवार के 5 लोगों की मौत

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: