न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पत्थरबाजों को मजा चखाने मैदान में आ गयी सीआरपीएफ की महिला कमांडो

178

Srinagar  :  सीआरपीएफ  ने  कश्मीर में पत्थरबाजों  का  मुकाबला करने  के  लिए  महिलाओं  का  स्पेशल कमांडो दस्ता तैयार किया  है.  खबरों  के अनुसार  महिला कमांडो का  दस्ता कश्मीर में सुरक्षा बल के लिए परेशानी का  सबब  बन रहे पत्थरबाजों से निपटेगा. बता दें  कि कश्मीर में पत्थरबाजी में शामिल लड़कियां सुरक्षा बलों  के लिए बड़ी चुनौती साबित हुई हैं. आतंकियों के खिलाफ अभियान के दौरान सुरक्षा बलों  को इन  पत्थरबाजों  से  निपटना पड़ता है.  अब  कश्मीर में पत्थरबाजी से निपटने के लिए सीआरपीएफ की खास फोर्स  सुपर 500 मैदान में आ गयी  है. सुपर 500 महिला कमाडों का खास दस्ता है, जिसे विशेष रूप से पत्थरबाजों से निपटने के लिए तैयार किया गया है. एक  माह की  कड़ी ट्रेनिंग के दौरान इस दस्ते में शामिल हर महिला कमांडो को पत्थरबाजी पर लगाम लगाने के लिए बारीक से बारीक तरकीबें सिखाई गयी  हैं.

इसे भी पढ़ें-तीसरा मोरचा बनाने की कवायद को झटका, शरद ने कहा, यह व्‍यावहारिक नहीं, मुमकिन नहीं

 घाटी में पत्थरबाजों से मुकाबला आसान नहीं  

घाटी में पत्थरबाजों से मुकाबला आसान नहीं होता. चारों ओर  से  बरसते पत्थरों को बीच सुरक्षा बलों  की सबसे बड़ी परेशानी यह होती है कि उन्हें खुद को भी बचाना होता है और पत्थर बरसाते लोगों को भी. इसके लिए भी महिला कमांडो के इस खास दस्ते सुपर 500 ने खास तैयारी की है.  हर  महिला कमांडो  को पॉली कार्बोनेट से बनी शील्ड और लाठी दी गयी है.  बरसते पत्थरों के बीच यह सुरक्षा देंगे. पत्थरबाजों से बचते हुए उनपर कैसे काबू किया जाये? इसके लिए टीम में शामिल हर कमांडो को पूरी तरह से तैयार किया गया है. ट्रेनिंग के दौरान इस बात का खास ख्याल रखा गया है कि इनके ऑपरेशन के दौरान पत्थरबाजों को भी नुकसान न हो और फोर्स को भी. सुपर 500 में शामिल हर महिला कमांडो को तीन स्तर पर ट्रेनिंग दी गयी है. ट्रेनिंग के दौरान सिखाया गया  है  कि पत्थरबाजी के बीच कैसे अपने आपको सुरक्षित रखा जाये, जिससे किसी तरह की चोट न लगे.

इसे भी पढ़ें- घाटे में चल रही IDBI में 13 हजार करोड़ निवेश करेगी LIC

    हर महि ला  कमांडो को निशानेबाजी की भी ट्रेनिंग दी गयी है

इन्हें सिखाया गया कि पत्थर बरसा रही भीड़ पर काबू पाने के लिए क्या किया जाये. लेकिन फिर भी आतंकियों की ढाल बने पत्थरबाज अगर काबू में नहीं आते तो आखिरी में इन्हें ताकत के इस्तेमाल का तरीका सिखाया गया. इसके लिए महिला कमांडो को लाठी सेक्शन, गैस सेक्शन और आर्म सेक्शन की ट्रेनिंग दी गयी.सुपर 500 कमांडो दस्ते को सिर्फ पत्थरबाजों से ही निपटने की ट्रेनिंग नहीं दी गयी है,बल्कि कॉम्बिंग ऑपरेशन, एनकाउंटर और रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए भी इन्हें खास तौर पर तैयार किया गया है. मौका पड़ने पर महिला कमांडो के इस दस्ते की बहादुर बेटियां आतंकवादियों को भी मार गिराने में सक्षम हैं. किसी घर में छिपे आतंकी को कैसे ढेर करना है, या फिर जंगलों में जान बचाकर भागते आतंकियों को कैसे मार गिराना है, इसके लिए हर महिला कमांडो को निशानेबाजी की भी ट्रेनिंग दी गयी है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: