न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गुमला में एक महीने में चोरी-डकैती की 14 व हत्‍या की 17 घटनायें, एसपी बोले शांति है

86

Gumla: झारखंड के उग्रवाद प्रभावित जिला गुमला में नक्सली गतिविधियां भले कम हो गयी हैं. लेकिन, हत्या की घटनाओं में कोई कमी नहीं आयी है. गुमला में बढ़ती हत्या की घटनाओं और बिगड़ती कानून-व्यवस्था की यह समस्या पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बन गयी है. बता दें पिछले एक महीने में गुमला जिला में चोरी, लूट और डकैती की घटना से ज्यादा हत्या की घटनाएं घटित हुईं. जहां चोरी, लूट और डकैती कुल मिलाकर 14 घटनाएं हुई है. वहीं हत्या की 17 घटनाएं हो चुकी हैं. लेकिन, जिले के एसपी का कहना है कि जिले में शांति कायम है.

mi banner add

इसे भी पढ़ें – मिलावटी मिठाईयों से पटे हैं बाजार, संभल कर करें खरीददारी

क्या कहते हैं आंकड़े

आंकड़ों के मुताबिक गुमला जिला में लूट चोरी और डकैती की घटना से ज्यादा पिछले 1 महीने के दौरान हत्या की ज्यादा घटना घटित हुई हैं. बता दें कि जहां गुमला में डकैती की 1 घटना हुई है, वहीं चोरी की 13 घटनाएं हुई है. साथ ही हत्या की कुल 17 घटनाएं घटित हुई हैं.

शराब, जुआ और लड़की की वजह से हो रही है हत्या

गुमला में शराब, जुआ और लड़की की वजह से आये दिन हत्या की घटनाएं हो रही हैं. हाल में हुई हत्या को देखें तो अधिकांश घटनाएं शराब के नशे में हो रही हैं. या फिर लड़की व जुआ के खेल की वजह से लोग हत्या कर रहे हैं. पुलिस शराब के कारोबार व जुआ के धंधे पर रोक लगाने में विफल साबित हो रही है.

इसे भी पढ़ें – पीटीआर को हर साल मिलता है 4.5 करोड़ का फंड, फिर भी पांच माह से पीटीआर में नहीं दिखा बाघ

लड़कियां नहीं है सुरक्षित

गुमला में लड़कियां बिल्कुल सुरक्षित नहीं हैं. उनके साथ आये दिन दुष्कर्म की घटनाएं होती रहती हैं. कई बार दुष्कर्म के बाद लड़की की हत्या भी कर दी जाती है. कुछ मामलों का पुलिस ने उद्भेदन जरूर किया है, लेकिन अपराध पर नियंत्रण नहीं हो पा रहा है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में 10 हजार से अधिक वारंटी हैं फरार, पुलिस नहीं कर पा रही है गिरफ्तार

गुमला के घाघरा में सबसे ज्यादा हत्या

गुमला के घाघरा प्रखंड में इन दिनों हत्या की घटनाएं दिनों दिन बढ़ती जा रही हैं. अपराधी लगातार हत्या की घटनाओं को अंजाम देकर सीधे पुलिस को चुनौती दे रहे हैं. यहां पिछले एक महीना के अंदर आधा दर्जन से अधिक हत्या की घटनाएं हुई हैं. पिछले कुछ दिन पहले यहां दो युवकों की पत्थर से कुचल कर हत्या कर दी गई थी.

इसे भी पढ़ें – रेलवे टिकट के अवैध कारोबार का भंडाफोड़, 86 लाख रुपये के 4000 से ज्‍यादा ई-टिकट बरामद

हाल के दिनों में हुई कुछ हत्या की घटनाएं

  • 28 सितंबर को कुहीपाठ खंभा ग्राम में घटी थी. यहां 60 वर्षीय महिंद्र टाना भगत की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी.
  • 29 सितंबर को सेरेंगदाग भैंस बथान गांव की है. यहां इतवा उरांव को अज्ञात अपराधियों ने मिल कर धारदार हथियार से काट कर हत्या कर दी.
  • 26 अक्टूबर को घाघरा प्रखंड मुख्यालय से महज 5 किलोमीटर दूर देवाकी में तीन अपराधियों ने ग्रामीण महेश महतो की हत्या कर दी. जिसके बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने एक अपराधी आकाश सिंह का सेंदरा कर दिया था.
  • 29 अक्टूबर को तारा गुट्टू अंबा टोली की है. जहां दो युवकों को पत्थर से कूच कर अज्ञात अपराधियों ने मार डाला.
  • 22 अक्टूबर को रायडीह थाना क्षेत्र के मांझाटोली डाड़टोली निवासी करमा कुजूर की पत्नी रुनिया कुजूर की अज्ञात अपराधियों ने पत्थर से कूचकर हत्या कर दी.

इसे भी पढ़ें – रांची में गैंगवार में कुख्यात अपराधी सोनू इमरोज की गोली मारकर की हत्या

क्या कहते गुमला एसपी

इस मामले में जब गुमला एसपी अंशुमान कुमार से बात की गयी तो उन्होंने कहा कि गुमला में शांति कायम है. अचानक कुछ हत्या हो जाए तो इसका मतलब ये नहीं है कि गुमला में अपराधी बेलगाम हैं. हाल में जितनी भी हत्याएं हुई वह किसी उग्रवादी संगठनों के द्वारा नहीं की गयी है. जो भी हत्या हुई है वह सभी आपसी विवाद के चलते हुई है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: