Lead NewsSports

क्रिकेट की स्टेन ‘गन’ रिटायर, IPL में विराट कोहली के साथी रहे खिलाड़ी ने लिये हैं 699 विकेट

डेक्कन चार्जर्स, गुजरात लॉयंस, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और सनराइजर्स हैदराबाद से खेले हैं

New Delhi : क्रिकेट जगत में की स्टेन’गन’ के नाम से विख्यात दिग्गज तेज गेंदबाज डेल स्टेन (Dale Steyn) ने क्रिकेट से संन्यास ले लिया है. दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के लिए खेलने वाले स्टेन की गिनती अपने जमाने के धाकड़ गेंदबाजों में होती है. गजब की रफ्तार और गेंद को सटीकता से दोनों तरफ स्विंग कराने की उनकी काबिलियत ने उन्हें दक्षिण अफ्रीका का बेस्ट तेज गेंदबाज बनाया.

इसे भी पढ़ें :IPL New Franchise: IPL 2022 में दो नई टीमों के लिए BCCI ने तय की बेस प्राइस, ऑक्शन से 5000 करोड़ जुटाने की उम्मीद

advt

स्टेन ने 2004 में किया था डेब्यू

डेल ने 93 टेस्ट में 439, 125 वनडे में 196 और 47 टी20 मुकाबलों में 64 विकेट निकाले हैं. इस तरह डेल स्टेन ने इंटरनेशनल क्रिकेट में कुल 699 विकेट लिए.

डेल स्टेन ने साल 2004 में टेस्ट के जरिए इंटरनेशनल करियर में कदम रखा था. इसके बाद धीरे-धीरे वे वनडे और टी20 में भी आए और अपनी कातिलाना गेंदबाजी से दुनियाभर के बल्लेबाजों के काल बने. इस वजह से उन्हें ‘स्टेनगन’ कहा जाता था.

इसे भी पढ़ें :रूपा तिर्की केस: सीबीआई जांच की मांग को लेकर दायर याचिका पर हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी

क्या लिखा रिटायरमेंट संदेश में स्टेन ने

डेल स्टेन ने अपने रिटायरमेंट संदेश में लिखा, ’20 साल तक ट्रेनिंग, मैच, सफर, जीत, हार, जेट लेग, पट्टी बांधे हुए पैर और भाईचारा. बताने के लिए कई सारे यादें हैं. कई सारे लोगों को शुक्रिया कहना है. इसलिए मैं यह काम विशेषज्ञों पर छोड़ता हूं. आज मैं आधिकारिक रूप से खेल से रिटायर होता हूं. थोड़ा कड़वा लेकिन आभारी हूं.

सबका शुक्रिया.’ डेब्यू करने के बाद स्टेन का प्रदर्शन खास नहीं रहा था. इसके चलते वे बाहर हो गए थे. फिर वे इंग्लैंड में काउंटी क्रिकेट खेलने लगे थे. वहीं पर खेल में सुधार के बाद उन्होंने वापसी की. इसके बाद वे क्रिकेट की दुनिया में छा गए.

इसे भी पढ़ें : BIG NEWS : बंगाल में BJP को लगातार दूसरे दिन लगा झटका, एक और विधायक TMC में गया

चोटों ने स्टेन को किया परेशान

2008 में डेल स्टेन दक्षिण अफ्रीका की ओर से सबसे तेज 100 टेस्ट विकेट लेने वाले गेंदबाज बने. उन्होंने 14 मैच में 18.10 की औसत से 86 विकेट लिए और उन्हें आईसीसी प्लेयर ऑफ दी ईयर चुने गए. दक्षिण अफ्रीका के क्रिकेट में वापस आने के बाद इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में पहली बार टेस्ट जीतने में उनका अहम रोल रहा.

फिर आया साल 2010. इस साल डेल स्टेन ने भारतीय पिचों पर अपनी कलाकारी दिखाई. उन्होंने नागपुर में 51 रन देकर सात विकेट लिए और दक्षिण अफ्रीका ने भारत को हराया. हालांकि करियर आगे बढ़ने के साथ-साथ उनकी चोटों का सिलसिला भी बढ़ता गया.

वे ग्रोइन, साइड स्ट्रेन, पसली में फ्रेक्चर, हैमस्ट्रिंग और कंधे की चोट से हमेशा परेशान रहे. स्टेन के नाम सबसे तेज 400 टेस्ट विकेट लेने का रिकॉर्ड है.

इसे भी पढ़ें : मोबाइल-लैपटॉप से निकलनेवाला ब्लू रे बच्चों की आंखों की छीन रहा रोशनी

आईपीएल में भी रहा स्टेन का जलवा

डेल स्टेन आईपीएल में भी काफी सालों तक खेले. वे डेक्कन चार्जर्स, गुजरात लॉयंस, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और सनराइजर्स हैदराबाद टीम के सदस्य रहे. इस दौरान विराट कोहली ने स्टेन में काफी भरोसा दिखाया था. आईपीएल में वे आखिरी बार आरसीबी के लिए खेले थे. तब स्टेन पूरी तरह फिट नहीं थे लेकिन फिर भी कोहली ने उन पर भरोसा रखा था.

इसे भी पढ़ें : झारखंड के खाते से केंद्र ने 714 करोड़ लेकर मुश्किलों में डाला, गैर-भाजपा शासित राज्यों से जारी है भेदभाव का सिलसिलाः झामुमो

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: