Business

ऋण उपलब्ध कराने वाली कंपनी IFCI का तिमाही घाटा बढ़कर 584 करोड़ रुपये हुआ

New Delhi : बुनियादी ढांचा क्षेत्र को ऋण उपलब्ध कराने वाली आईएफएसीआई लि को बीते वित्त वर्ष 2019-20 की चौथी (जनवरी-मार्च) तिमाही में 584.19 करोड़ रुपये का एकीकृत शुद्ध घाटा हुआ है. इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में उसे 86.15 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था.

इसे भी पढ़ेंः 33 करोड़ के को-ऑपरेटिव बैंक घोटाले में सीआइडी ने एक और आरोपी को किया गिरफ्तार

पिछले साल ये थी स्थिति

आइएफसीआइ लि ने शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा कि तिमाही के दौरान उसकी आय बढ़कर 858.99 करोड़ रुपये हो गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 637.61 करोड़ रुपये थी. कंपनी ने कहा कि ब्याज आमदनी बढ़ने से उसकी कुल आय बढ़ी है. कंपनी ने कहा कि शुल्क और कमीशन आय की वजह से उसे नुकसान हुआ है. यह इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही के स्तर पर ही है.

इसे भी पढ़ेंः गुड न्यूज : कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए बेहद सस्ती दवा डेक्सामेथासोन को मंजूरी, गंभीर रोगियों पर भी है असरदार

क्या कहना है आइएफसीआई का

पूरे वित्त वर्ष 2019-20 में कंपनी का शुद्ध घाटा कम होकर 223.21 करोड़ रुपये रह गया. जो इससे पिछले वित्त वर्ष 2018-19 में 475.99 करोड़ रुपये था. वित्त वर्ष के दौरान कंपनी की आय घटकर 2,905.68 करोड़ रुपये रह गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष में 3,134.49 करोड़ रुपये रही थी.  आइएफसीआइ ने कहा कि उसके निदेशक मंडल की बैठक में 25,000 करोड़ रुपये तक का कर्ज जुटाने के लिए संसाधन योजना नीति को मंजूरी दी गई.

इसे भी पढ़ेंः दिल्लीवासियों ने कोरोना के खिलाफ मुश्किल जंग छेड़ रखी है: केजरीवाल

 

 

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close