न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सृजन घोटालाः तेजस्वी ने नीतीश कुमार, सुशील मोदी पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- रिश्तेदारों को पहुंचाया फायदा

262

Patna: बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम सुशील मोदी पर बड़े आरोप लगाते हुए सृजन घोटाले को एकबार फिर सुर्खियों में ला दिया है. तेजस्वी यादव ने ट्विटर के जरिए इस बात के सबूत देने की कोशिश की है कि सुशील मोदी ने सृजन घोटाले में कैसे अपनी बहन और भतीजी को फायदा पहुंचाने का काम किया है.

इसे भी पढ़ेंःमॉनसून सत्र में शराबबंदी कानून में संशोधन विधेयक लायेगी नीतीश सरकार

ट्वीट कर साधा निशाना

राजद नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा कि बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी की बहन रेखा मोदी और भांजी उर्वशी मोदी ने सृजन घोटाले से करोड़ों रुपए रिसीव किए थे. सृजन घोटाले की बैंक स्टेटमेंट इस बात का सबूत है. सुशील मोदी और नीतीश कुमार 2500 करोड़ रुपए के सृजन घोटाले में डायरेक्ट पार्टी हैं, लेकिन सीबीआई ने ना इस घाटोले में उनका नाम शामिल किया और ना ही उनसे कोई पूछताछ की. क्यों?’ तेजस्वी ने उपमुख्यमंत्री और वित्त मंत्री सुशील मोदी की मिलीभगत और नीतीश कुमार की देखरेख में घोटाला होने की बात कही. उन्होंने कहा कि दोनों की देखरेख में इस घोटाले में 2500 करोड़ रुपये लूट लिए गए थे. आरबीआई और वित्त मंत्रालय से शिकायत के बाद भी मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री ने आखिर क्यों नहीं कुछ किया.

क्या है सृजन घोटाला

सृजन महिला सहयोग समिति नामक एनजीओ के अकउंट से करीब 2500 करोड़ रुपए की धांधली की गई. फिलहाल इस मामले में सीबीआई जांच जारी है. जांच में पता चला है कि एनजीओ ने बैंक अधिकारियों और जिले के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मिलकर फर्जी बैंक खाते और पासबुक बनाकर यह घोटाला किया, जिस कारण लंबे समय तक यह घोटाला पकड़ा नहीं जा सका. सृजन घोटाले में साल 2004 से लेकर 2014 तक बड़ी मात्रा में कथित तौर पर गलत तरीके से सरकारी फंड ट्रांसफर किया गया. गौरतलब है कि सृजन घोटाले में बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी का नाम भी उछला था. आरजेडी ने इस घोटाले को लेकर अब नीतीश कुमार सरकार पर हमला बोला है. बता दें कि, जब यह घोटाला हुआ, उस वक्त बिहार में एनडीए की सरकार थी और डिप्टी सीएम सुशील मोदी राज्य के वित्त मंत्री थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: