न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीपीएम की सलाह राहुल को,  सॉफ्ट हिंदुत्व की रणनीति से भाजपा को नहीं हरा सकती कांग्रेस

सीपीएम को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की देश भर में मंदिरों की यात्रा पच नहीं रही है.  सीपीएम का मानना है इस रास़्ते पर चल कर कांग्रेस भाजपा से पार नहीं पा सकती

29

NewDelhi : सीपीएम को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की देश भर में मंदिरों की यात्रा पच नहीं रही है.  सीपीएम का मानना है इस रास़्ते पर चल कर कांग्रेस भाजपा से पार नहीं पा सकती. सीपीएम ने इस बात पर जोर देते हुए आगाह किया है कि कांग्रेस अगर सॉफ्ट हिंदुत्व के सहारे भारतीय जनता पार्टी को हराने की रणनीति अपना रही है, तो यह उसकी भूल साबित होगी. बता दें कि पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी ने सीपीएम के मुखपत्र पीपुल्स डेमोक्रेसी के संपादकीय लेख में कहा है कि  अगर कांग्रेस यह सोचती है कि सॉफ्ट हिंदुत्व के सहारे वह भाजपा को हरा देगी, तो यह उसकी भूल साबित होगी. कहा कि छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में राहुल गांधी ने मंदिरों के दर्शन कर यह संदेश देने की कोशिश की है कि कांग्रेस भाजपा से अधिक हिंदू है. सीताराम येचुरी के अनुसार भाजपा इन तीनों राज्यों में रोजगार, किसानों का गुस्सा, मूलभूत सुविधाओं का अभाव और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर चुनाव हारेगी.

लोगों को धर्मनिरपेक्षता की खातिर जनांदोलन के लिए एकजुट करना जरूरी

येचुरी ने कहा कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में हर पंचायत में गौशाला खोलने, गोमूत्र की बिक्री करवाने और राम वन गमन पथ बनवाने की बात कही है. राजस्थान में कांग्रेस के घोषणापत्र में शैक्षणिक पाठ्यक्रम में वैदिक मूल्यों को बढ़ावा देने की बात कही गयी है. यह बेमतलब है. येचुरी के अनुसार कांग्रेस के प्रचार अभियान के दौरान भीड़ द्वारा निर्दोष पहलू खान सहित अल्पसंख्यक समुदाय के अन्य लोगों को मार डालने की घटनाओं का मुद्दा जोर शोर से उठाने की की बात  नजर नहीं आयी. येचुरी के अनुसार भाजपा-आरएसएस को धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक विकल्प के लिए देशव्यापी संघर्ष के बलबूते ही हराया जा सकता है. लिखा है कि राम मंदिर के नाम पर सांप्रदायिक जलसों के समानांतर देश भर में लोगों को धर्मनिरपेक्षता की खातिर जनांदोलन के लिए एकजुट करना जरूरी है.

Related Posts

#MultiPurposeIDCard: आधार, DL, वोटर ID सब के लिए एक ही कार्ड- अमित शाह ने दिया प्रस्ताव

2021 की जनगणना होगी डिजिटल, मोबाइल एप के जरिये जुटाये जायेंगे आंकड़ें

इसे भी पढ़ें : पिछड़ा वर्ग आरक्षण में असमानता, 25 प्रतिशत जातियां उठा रही हैं 97 प्रतिशत आरक्षण का लाभ

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: