Crime NewsJharkhandRanchi

रांची के बुढ़मू में भाकपा माओवादियों ने दीवार पर लिखी चेतावनी, कहा- बंद करो पुलिस की दलाली

Ranchi: विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही माओवादियों ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है. अपनी उपस्थिति को दर्ज कराने के लिए माओवादियों के द्वारा पोस्टर बाजी किया जा रहा है.

इसी क्रम में शनिवार देर रात बुढ़मू थाना क्षेत्र के उमेडण्डा में माओवादियों ने दिवाल पर लेखन किया है. इसमें उन्होंने पुलिस दलालों को चेतावनी दी है और कहा है कि वे दलाली बंद करें. माओवादियों के द्वारा दीवार पर लेखन से आसपास के लोगों में दहशत का माहौल है.

इसे भी पढ़ें- डबल डिजिट में पहुंचने को आजसू बेकरार, 19 सीटों पर है दावेदार

ram janam hospital
Catalyst IAS

क्या लिखा माओवादियों ने

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

शनिवार देर रात बुढ़मू थाना क्षेत्र के उमेडण्डा में माओवादियों ने दिवाल पर लेखन कर कहा गया है कि पुलिस की दलाली बंद करो. अपराध के अनुसार सजा लागू करें. प्रति क्रांतिकारी गुंडागिरी को ध्वस्त करें.

माओवादियों के द्वारा दीवार पर लेखन किये जाने से आसपास के क्षेत्रों में दहशत का माहौल है. इससे पहले भी बुढ़मू थाना क्षेत्र में नक्सलियों की सक्रियता देखी जा चुकी है और समय-समय पर नक्सलियों के द्वारा घटनाओं का अंजाम भी दिया गया है.

वहीं दूसरी ओर ग्रामीण एसपी ने इस मामले में कहा कि पुलिस ने दीवार पर लिखी चेतावनी को मिटा दिया है. पुलिस मामले की जांच कर रही है. यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि यह लेखन माओवादियों के द्वारा की गयी है या फिर शरारती तत्वों के द्वारा.

इसे भी पढ़ें- भाजपा प्रदेश नेतृत्व के रडार पर है जमुआ विस सीट, सर्वे रिपोर्ट बढ़ा रही है सीटिंग विधायक की चिंता

विस चुनाव के नजदीक आते ही सक्रिय हो रहे हैं माओवादी

झारखंड में अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर भाकपा माओवादी ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है. चुनाव में बाधा पहुंचाने की नीयत से ये संगठन राज्य के अलग-अलग क्षेत्रों में एक बार फिर अपने पुराने साथियों को एकजुट करने में लगा हुआ है.

हाल के दिनों में नक्सलियों की सक्रियता बढ़ने के संकेत मिल रहे हैं. विधानसभा चुनाव से पहले राज्य के कुछ हिस्सों में नक्सलियों की सक्रियता खतरनाक संकेत दे रहे हैं.

जानकारी के अनुसार जंगली-पहाड़ी इलाकों में हार्डकोर नक्सलियों के दस्तों का जमावड़ा होने लगा है. निशाने पर सुरक्षाबलों के साथ उनके ठिकाने-कैंप, आने-जाने के रूट व अन्य जगह हैं.

आशंका है कि मतदान या चुनावी प्रक्रिया को बाधित करने के लिए नक्सली बड़ी वारदातों को अंजाम दे सकते हैं. खासकर अपने गढ़ में नक्सलियों का अगल-अलग दस्ता विभिन्न जगहों पर हमले या हिंसा की तैयारी में लगा है. इसकी आहट भी मिल रही है.

Related Articles

Back to top button