Lead NewsNational

भाकपा-माओवादी ने शीर्ष नेता आरके की किडनी खराब होने के कारण मौत

माओवादियों ने अंतिम संस्कार की तस्वीर की जारी, माओवादियों ने आरके के शरीर पर लाल झंडा लगाकर दी श्रद्धांजलि

Ranchi: भाकपा माओवादियों के सेंट्रल कमेटी मेंबर अक्किराजु हरगोपाल उर्फ रामकृष्ण उर्फ RK की किडनी फेल होने से 63 साल की उम्र में मौत हो गई. माओवादी प्रवक्ता अभय ने तेलुगु में  प्रेस नोट और तस्वीर जारी कर आर की मौत की पुष्टि की है.

वह भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी-माओवादी की केंद्रीय समिति का सदस्य और प्रतिबंधित संगठन की आंध्र-ओडिशा सीमा विशेष क्षेत्रीय समिति का प्रभारी था.

advt

आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले के तुमरुकोटा गांव के रहने वाले आरके ने अविभाजित आंध्र प्रदेश में वाई.एस. राजशेखर रेड्डी के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के साथ शांति वार्ता में तत्कालीन भाकपा-माले पीपुल्स वार का नेतृत्व किया था. बातचीत के दौरान, भाकपा-माले पीपुल्स वार का तत्कालीन माओवादी कम्युनिस्ट सेंटर (एमसीसी) के साथ विलय कर भाकपा-माओवादी का गठन कराया था. वार्ता विफल हो गई थी, क्योंकि माओवादियों ने सरकार पर संघर्ष विराम तोड़ने का आरोप लगाते हुए प्रक्रिया से हाथ खींच लिया था.

आरके अक्टूबर 2016 में ओडिशा के मलकानगिरि जिले में पुलिस के साथ गोलीबारी में घायल हो गया था. उस मुठभेड़ में तीस माओवादी मारे गए थे और शुरू में उनके लापता होने की सूचना दी गई थी. नागरिक अधिकार समूहों और माओवादियों से सहानुभूति रखने वालों ने आरोप लगाया था कि उन्हें पुलिस हिरासत में रखा गया था. आरके की पत्नी सिरीशा ने हैदराबाद उच्च न्यायालय में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की थी. आंध्र प्रदेश पुलिस ने अदालत को बताया था कि आर.के. उनकी हिरासत में नहीं था. बाद में माओवादियों ने बयान जारी कर कहा कि वह सुरक्षित हैं.

इसे भी पढ़ें – अध्यक्ष बनने की मांग पर राहुल गांधी का जवाब- दबाव बनाया तो फिर बन सकता हूं कांग्रेस प्रमुख

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: