न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीपी चौधरी के सांसद बनते ही झारखंड कैबिनेट में मंत्रियों के लिए दो सीट वेकेंट, दौड़ में दिग्गज

4,518

Akshay Kumar Jha

Ranchi: सीपी चौधरी के अच्छे दिन तो आ ही गए. देखने वाली बात होगी कि अब झारखंड के किस विधायक के अच्छे दिन आने वाले हैं. दरअसल सीपी चौधरी के सांसद बनने के बाद झारखंड के दो मंत्रियों के पद खाली हो गये.

झारखंड के संवैधानिक ढांचे के मुताबिक, यहां कुल 12 मंत्री होने चाहिए. लेकिन झारखंड में फिलवक्त 11 मंत्री ही हैं. बीजेपी की बहुमत वाली रघुवर सरकार ने कभी भी यहां 12 मंत्री बहाल नहीं किए.

इसे भी पढ़ेंःप. बंगाल में जीत से उत्साहित बीजेपी, विजयवर्गीय का दावा- चुनाव से पहले गिर जायेगी ममता सरकार

आजसू से विधायक और मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी कुछ ही दिनों में दिल्ली में सांसद पद की शपथ लेंगे. ऐसे में मंत्री परिषद की संख्या घटकर 10 हो जायेगी.

राधा कृष्ण किशोर (फाइल फोटो)

अब सवाल यह उठ रहा है कि क्या सूबे की रघुवर सरकार क्या 10 मंत्री में ही अपने बचे हुए कार्यकाल को चलाएगी या फिर विधायकों को मंत्री पद से नवाजा जाएगा.

सवाल यह भी कि क्या चंद्रप्रकाश चौधरी के दिल्ली जाने के बाद आजसू कोटे के मंत्री को आजसू विधायक ही भरेंगे या फिर बीजेपी के किसी दिग्गज विधायक को मंत्री पद नवाजा जाएगा.

आजसू से अब सिर्फ दो विधायक बचे, मंत्री पद पाना मुश्किल
चंद्रप्रकाश चौधरी के दिल्ली रवानगी के साथ ही आजसू के पास सिर्फ दो विधायक बच जाएंगे.

जुगसलाई से रामचंद्र सहिस और टुंडी से राज किशोर महतो. इन दोनों विधायकों की राजनीति कद को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि इन्हें मंत्री पद यूं ही रघुवर सरकार नहीं देने जा रही है.

इसे भी पढ़ेंःहिजबुल का पूर्व कमांडर और अलकायदा ग्रुप का मोस्ट वांटेड आतंकी जाकिर मूसा ढेर

ढुल्लू महतो (फाइल फोटो)

तो सवाल उठता है कि कौन बीजेपी विधायक बन सकता है मंत्री. फिलहाल सरकार में मुख्यमंत्री रघुवर दास, नगर विकास मंत्री सीपी सिंह, ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा, खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय, कृषि मंत्री रणधीर सिंह, भू-राजस्व मंत्री अमर बाउरी, श्रम मंत्री राज पालिवार, कल्याण मंत्री लुईस मरांडी, शिक्षा मंत्री नीरा यादव, जल संसाधन मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी और स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी मौजूद हैं.

चार महीने के मंत्रीपद के लिए कौन हैं रेस में

ऐसा माना जा रहा है कि अक्टूबर महीने में चुनाव आयोग की तरफ से विधानसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लगाया जा सकती है. ऐसे में करीब चार महीने के लिए मंत्री पद का सुख किसी को मिल सकता है.

विरंची नारायण (फाइल फोटो)

इन चार महीनों के मंत्री पद का सुख आगे के लिए सुखदायी हो सकता है. ऐसे में अभी जो मंत्री बनेगा उसे अगली बीजेपी की सरकार अगर बनी तो उसमें भी मंत्री बनने का चांस मिल सकता है.

इसलिए जिनके नाम मंत्री पद के रेस में चल रहे हैं, वो अपनी पूरी एड़ी-चोटी का जोर लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे. मंत्री पद के लिए जिन लोगों का नाम आगे चल रहा है, उनमें राधाकृष्ण किशोर, नवीन जायसवाल, विरंची नारायण, अनंत ओझा और ढुल्लू महतो का नाम सबसे आगे है. देखना दिलचस्प होगा कि मंत्री पद की लॉटरी किसे मिलती है.

इसे भी पढ़ेंःअमरिंदर ने सिद्धू पर फोड़ा हार का ठीकरा, कहा- पार्टी मुझे या नवजोत में से एक को चुने

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: