न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अरगोड़ा थाना पहुंचा दंपती, कहा- हमारी बेटी को दो अक्टूबर तक बरामद करें, वरना थाना में ही कर लेंगे आत्मदाह

एक महीने पहले रामगढ़ के पतरातू निवासी दंपती ने रांची के अरगोड़ा थाना में दर्ज करायी थी बेटी के अपहरण की प्राथमिकी

146

Ranchi : बुधवार को रामगढ़ के पतरातू निवासी एक दंपती रांची के अरगोड़ा थाना पहुंचा. अरगोड़ा थाना पुलिस की कार्यशैली पर नाराजगी जताते हुए इस दंपती ने अपनी 19 वर्षीय बेटी को बरामद करने की गुहार लगायी. साथ ही, यह चेतावनी भी दी कि अगर पुलिस ने दो अक्टूबर तक उनकी बेटी को बरामद कर उन्हें नहीं सौंपा, तो वे पति-पत्नी अरगोड़ा थाना में ही आत्मदाह कर लेंगे. इस दौरान इस दंपती के सपोर्ट में समाज के कुछ लोग भी थाना पहुंचे थे.

इसे भी पढ़ें- रांची में जमीन को लेकर हो सकता है गैंगवार, सीआईडी को जमीन कारोबार से जुड़े अपराधियों की जानकारी…

क्या है मामला

hosp1

यह मामला इस दंपती की 19 वर्षीय बेटी के कथित अपहरण और धर्मांतरण से संबंधित है. एक महीने पहले 24 अगस्त को युवती के पिता ने अरगोड़ा थाना में अपनी बेटी के अपहरण और धर्मांतरण से संबंधित मामला दर्ज कराया था. थाना में दिये आवेदन में उन्होंने कहा था कि उनकी बेटी रांची के एसएस मेमोरियल कॉलेज की छात्रा है और रांची के हरमू पटेल चौक के पास रहती है. आवेदन में पिता ने कहा कि पिछले तीन दिनों से (24 अगस्त से तीन दिन पहले से) उनका उनकी बेटी से संपर्क नहीं हो पा रहा है. उन्होंने कहा कि आखिरी बार 22 अगस्त को उनकी अपनी बेटी से बात हुई थी. उस वक्त वह काफी डरी-सहमी हुई थी और रो भी रही थी. इससे उन्हें आशंका है कि उनकी बेटी का अपहरण कर लिया गया है. आवेदन में उन्होंने कहा कि उन्हें इतना पता है कि अरगोड़ा थाना क्षेत्र के पुंदाग में आईएसएम के पास स्थित अमन ग्रीन सिटी में रहनेवाला युवक साजिद परवेज (पिता शम्स परवेज) उनकी बेटी के संपर्क में था. उन्होंने आवेदन में अरगोड़ा थाना प्रभारी से इस मामले में उचित कार्रवाई करने की गुहार लगायी थी. अरगोड़ा थाना पुलिस ने 24 अगस्त को ही उक्त आवेदन के आधार पर अपहरण का मामला दर्ज कर लिया था. थाना के एसआई महेश प्रसाद सिंह को इस मामले के अनुसंधान की जिम्मेदारी सौंपी गयी थी.

इसे भी पढ़ें- एसपी अमरजीत बलिहार हत्याकांड में दोनों नक्‍सलियों को फांसी की सजा

एक महीने तक कोई कार्रवाई नहीं हुई, तो फिर थाना पहुंचे युवती के माता-पिता

अरगोड़ा थाना में अपहरण का मामला दर्ज होने के एक महीने बाद भी इस मामले में पुलिस कुछ नहीं कर पायी है. इससे नाराज होकर युवती के माता-पिता बुधवार को फिर अरगोड़ा थाना पहुंचे. उन्होंने आरोप लगाया कि साजिद परवेज उनकी बेटी को बहला-फुसलाकर भगा ले गया और उसके बाद उसका धर्म परिवर्तन करा दिया. उन्होंने कहा कि आरोपी युवक साजिद परवेज ने एक मैरेज सर्टिफिकेट पेश किया है. यह मैरेज सर्टिफिकेट पश्चिम बंगाल के बर्द्वान जमालपुर स्थित मुस्लिम मैरेज रजिस्ट्रार एंड काजी के कार्यालय द्वारा 29 मई 2018 को जारी किया गया है. युवती के माता-पिता ने कहा कि इस मैरेज सर्टिफिकेट में उनकी बेटी का असली नाम तो लिखा ही है, साथ ही धर्मांतरण के बाद उसे जो नाम (आलिया परवीन) दिया गया है, वह नाम भी उसमें लिखा हुआ है. युवती के माता-पिता ने आरोप लगाया कि इसी मामले को लेकर उन्होंने 24 अगस्त को अरगोड़ा थाना में केस दर्ज कराया है, लेकिन आज तक किसी भी प्रकार की कोई प्रत्यक्ष कार्रवाई नहीं की गयी है. उन्होंने थाना प्रभारी से बातचीत व सांत्वना के बाद कहा कि अगर दो अक्टूबर तक उनकी बेटी की बरामदगी नहीं होती है, तो अरगोड़ा थाना में ही वे आत्मदाह कर लेंगे.

इसे भी पढ़ें- आखिर क्यों नशे का इंजेक्शन लगाकर युवक को 6 सालों से बना रखा था बंधक !

समाज के कुछ लोगों ने अरगोड़ा थाना का किया घेराव

इसी मामले को लेकर और आरोपी युवक को गिरफ्तार नहीं किये जाने को लेकर समाज के कुछ लोगों द्वारा बुधवार को अरगोड़ा थाना का घेराव भी किया गया. घेराव करने आये लोगों ने कहा कि अगर धर्मांतरण किया गया है, तो क्या उसकी कानूनी प्रक्रिया पूरी की गयी. यदि नहीं, तो कानून का उल्लंघन करने पर आरोपी युवक साजिद परवेज और इसमें शामिल काजी पर कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही है. पुलिस इस मामले पर पिछले एक महीने से कोई कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है?

इसे भी पढ़ें- अपनी मांगों को लेकर पंचायत प्रतिनिधि मंडल का डीसी कार्यालय के पास धरना

मामले में अनुसंधान चल रहा है : थाना प्रभारी

अरगोड़ा थाना प्रभारी रतिभान सिंह ने कहा कि मामले का अनुसंधान चल रहा है. पुलिस द्वारा जल्द ही आरोपी युवक और लड़की को लाया जायेगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: