JharkhandLead NewsRanchi

देश को ऊर्जावान, उत्साही युवा नेताओं की जरूरतः राज्यपाल

Ranchi : राज्यपाल रमेश बैस ने कहा कि भारत सरकार द्वारा हमारे स्वतंत्रता संग्राम के नायकों के योगदान से नयी पीढ़ी को अवगत कराने का निर्णय लिया गया है. इस क्रम में हमें आजादी के उन महानायकों के योगदान से भी युवा व नयी पीढ़ी को अवगत कराने की जरूरत है, जिन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लेते हुए ब्रिटिश हुकूमत से कड़ा संघर्ष किया, लेकिन पता नहीं किन कारणवश इतिहास की पुस्तकों में उनके योगदानों का उल्लेख नहीं हो सका. राज्यपाल शनिवार को झारखंड तकनीकी विश्वविद्यालय एवं युवा सदन द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर ‘झारखंड युवा सदन : द यूथ एसेम्बली तृतीय’ कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे. राज्यपाल ने कहा कि हम सभी जानते हैं कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है. आज भारत में युवाओं की संख्या सबसे अधिक है.

यह एक ऐसा वर्ग है जो शारीरिक और मानसिक रूप से सबसे अधिक शक्तिशाली है. देश को ऐसे युवा नेताओं की सख्त जरूरत है जो ऊर्जावान, उत्साही, नैतिक रूप से मजबूत और मेहनती हों.

इसे भी पढ़ें:BJP ने पंचायत चुनाव में चतरा डीसी के रवैये पर चुनाव आयोग से जतायी नाराजगी, कहा- लें एक्शन

आज की पीढ़ी को स्वतंत्रता संग्राम के महानायकों के योगदान से प्रेरणा लेने की जरूरत

राज्यपाल ने कहा आधुनिक भारत के युवा बड़े पैमाने पर हमारे देश और दुनिया के सामने आने वाली समस्याओं से अवगत हैं. भारत की भूमि वीरों की भूमि रही है, जहां हर जगह देश की स्वतंत्रता की लड़ाई लड़ी गयी. अंग्रेजों के विरुद्ध आंदोलन चले क्योंकि हमारे स्वतंत्रता सेनानी देश की आज़ादी के लिए प्रणबद्ध थे. वर्तमान पीढ़ी को स्वतंत्रता संग्राम के सभी महानायकों के योगदान से प्रेरणा लेने की जरूरत है.

इसे भी पढ़ें:राष्ट्रीय हॉकी चैंपियनशिप: आज का दिन झारखंड के नाम, सब जूनियर पुरुष हॉकी के फाइनल में पहुंची टीम, महिला टीम ने भी सेमीफाइनल बनायी जगह

युवाओं को राजनीति में आना चाहिए

खुशी की बात है कि आज भारत का युवा शिक्षित है. लेकिन युवाओं की संख्या राजनीति में अपेक्षित नहीं है. देश के युवाओं में राजनीति के प्रति उदासीनता को कम करना होगा. हमारा देश युवाओं का देश है. यहां की अधिकांश आबादी युवाओं की है और युवाओं पर ही विकास की गति निर्भर है. मेरा मानना है कि युवाओं को राजनीति में आना चाहिए. अच्छे व जागरूक युवाओं का समाज में प्रतिष्ठित स्थान होता है.

युवाओं को अपने दायित्वों से भागना नहीं चाहिए और सामाजिक समस्याओं के निदान के लिए सक्रिय होना चाहिए. जनहित के विषयों के प्रति संवेदनशील रहना चाहिए.

इसे भी पढ़ें:गोरखपुर-हटिया मौर्य एक्सप्रेस में सफर होगा आरामदायक, ज्यादा पैसेंजर करेंगे सफर

… ताकि वे एक कुशल राजनेता एवं नीति-निर्माता बन सकें

राज्यपाल ने कहा कि अक्सर माता-पिता अपने बच्चों को डॉक्टर, इंजीनियर, प्रशासनिक अधिकारी या फिर पुलिस अधिकारी बनाने की बात करते हैं. कोई भी अभिभावक अपने बच्चे को अधिक-से-अधिक जानकारी हासिल करने के लिए अध्ययन करने नहीं कहता.

जिससे उनको देश के विभिन्न मुद्दों पर अधिक जानकारी होगी, ताकि वे एक कुशल राजनेता एवं नीति-निर्माता बन सकें. हमें यह सामाजिक धारणा बदलनी होगी.

इसे भी पढ़ें:जानें Maruti कहां 11 हजार करोड़ रुपये में लगाने जा रही नया मैन्युफैक्चरिंग प्लांट, 15000 लोगों को मिलेगा रोजगार

Advt

Related Articles

Back to top button