न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पार्षदों ने #CM को ज्ञापन सौंपा, अटल वेंडर मार्केट मेंटेनेंस कार्य में #Mayor, Deputy Mayor पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया

निगम की सभी शाखाओं में चल रहा भ्रष्टाचार का खेल, सिंघल इंटरप्राइजेज को 12.30 लाख रुपए में मेंटेनेंस का मिला है टेंडर

100

Ranchi : अटल वेंडर मार्केट के मेंटेनेंस  कार्य  में लाखों की कथित हेराफेरी का मामला अब मुख्यमंत्री रघुवर दास तक पहुंच गया है. कई पार्षदों ने सीएम को ज्ञापन सौंप कर कहा है कि निगम के सभी विभागों में भ्रष्टाचार का खेल चरम पर है.

जिस तरह से वेंडर मार्केट में ऑपरेशन एवं मेंटेनेंस का टेंडर सिंघल इंटरप्राइजेज नामक कंपनी को 12.30 लाख रुपए में दिया है, वह बताता है कि इसमें बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हो रहा है. जब ऑपरेशन एवं मेंटेनेंस का काम केवल 2 से 3 लाख में ही हो सकता है, तो इतनी बड़ी राशि आखिर क्यों खर्च हो रही है.

पार्षदों के समूह का कहना है कि अटल वेंडर मार्केट के उद्घाटन के दौरान सीएम ने कहा था कि इसमें गरीबों और फुटपाथ दुकानदारों को स्थायी जगह दी जायेगी. पार्षदों ने आरोप लगाया कि इसके उलट आज निगम की मेयर आशा लकड़ा, डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय सहित सभी अधिकारी मार्केट में भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहे हैं. ज्ञापन की प्रति नगर विकास मंत्री सीपी सिंह को भी सौंपी गयी है.

इसे भी पढ़ें : झारखंड में बेरोकटोक चल रहा हवाला कारोबारः नेता,अपराधी,बड़े व्यापारी, ठेकेदार ठिकाने लगा रहे ब्लैक मनी

hotlips top

सभी शाखाओं में चल रहा भ्रष्टाचार का खेल

सीएम को सौंपे गये ज्ञापन में पार्षदों का कहना है कि अटल वेंडर सहित निगम के बाजार, इंजीनियरिंग और स्वास्थ्य शाखा में भ्रष्टाचार का खेल चरम पर है. मार्केट के ऑपरेशन एवं मेंटेनेंस में में 12.30 लाख का टेंडर इसका एक बड़ा उदाहरण है. जब पार्षदों को इसकी जानकारी मिली, तो इन्होंने निगम के इस भ्रष्टाचार का खुलकर विरोध किया.

विरोध करने वाले में हुस्ना आरा (वार्ड-4), सुजाता कच्छप (वार्ड-7), अर्जुन यादव (वार्ड-10), नाजिमा रजा (वार्ड-16), रोशनी खलखो (वार्ड-19), सुनील यादव (वार्ड-20), अरूण झा (वार्ड-26), ओम प्रकाश (वार्ड- 27), विनोद सिंह (वार्ड-34) सहित कई पार्षद शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुर : #CM रघुवर दास के भतीजे कमलेश साहू ने विधायक प्रतिनिधि से की मारपीट

भ्रष्टाचार के खेल की जांच कर उचित कार्रवाई हो

पार्षदों का कहना है कि निगम परिषद की बैठक में जब उन्होंने इसकी जांच की मांग मेयर और डिप्टी मेयर से की, तो उन्होंने इस मांग को सिरे से खारिज कर दिया. आज स्थिति यह है कि दोनों जनप्रतिनिधि सहित सभी अधिकारी पार्षदों की मांग को नजरअंदाज करने लगे हैं. उनकी बातों को सुनना तो दूर, ध्यान देना भी इन्होंने छोड़ दिया है.

अटल मार्केट में चल रहे भ्रष्टाचार के जांच की मांग जब की गयी, तो मेयर ने बैठक ही स्थगित कर दी. यह प्रकरण साबित करता है कि मेयर, डिप्टी मेयर सहित निगम के अधिकारी निगम के अंदर भ्रष्टाचार के खेल में पूरी तरह से लिप्त है.

पार्षदों ने सीएम और विभागीय मंत्री से मांग की है कि वेंडर मार्केट के ऑपरेशन और मेंटेनेंस का टेंडर सिंघल इंटरप्राइजेज कंपनी को कैसे दिया गया, इसकी त्वरित जांच हो. और जो इस भ्रष्टाचार के खेल में शामिल है, उसपर उचित कार्रवाई की जाये.

इसे भी पढ़ें :  उपलब्धियों और चुनौतियों से भरा है आज का युग, युवा इसे भुनायें : राष्ट्रपति #RamNathKovind

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like