न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पार्षद पति व निगम के कर्मचारी ने मिलकर हड़पे प्रधानमंत्री आवास योजना के 45 हजार रुपये, मामला दर्ज

 पार्षद पति आवेदक को दे रहा अंजाम भुगतने की धमकी

167

Dhanbad: नगर निगम के वार्ड नंबर 29 के पार्षद पति उपेंद्र चंद्रवंशी एवं नगर निगम के कर्मचारी सिद्धार्थ पर धोखाधड़ी का आरोप लगा है. आरोप है कि दोनों ने मिलकर धनसार थाना क्षेत्र के कुम्हार पट्टी निवासी धर्मेंद्र प्रसाद गुप्ता से प्रधानमंत्री आवास योजना के 45 हजार रुपए धोखाधड़ी करके हड़प लिये है.

इसे भी पढ़ेंःजमाबंदी रद्द करने का आदेश, फिर भी सीओ की पत्नी ने खरीद ली जमीन

क्या है मामला

hosp1

दरअसल, धर्मेंद्र प्रसाद गुप्ता ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत नगर निगम में आवेदन दिया था. इसके बाद आवेदक को नगर निगम के कर्मचारी सिद्धार्थ तथा वार्ड पार्षद 29 के पति उपेंद्र चंद्रवंशी ने उन्हें बुलाकर चाय पिलायी और अपनी बातों में फंसा कर कहा कि वे लोग उसका ऋण दिलवा देंगे. आवास को भी बनवाने का आश्वासन दिया. और प्रधानमंत्री आवास योजना की लोन की पहली किस्त फरवरी माह में 2017 को आवेदक के खाते में 45 हजार रुपए आये.

निगम कर्मचारी एवं पार्षद पति के कहने पर उन्होंने रुपये निकालकर उनके खाते में डलवा दिए.  लेकिन ना तो आज तक आवेदक का घर नहीं बन पाया है. और जब भी आवेदक अपने 45000 रुपए एवं घर बनवाने की बात करता है तो दोनों आरोपी टालमटोल करते हैं.

इसे भी पढ़ेंःपाकुड़ में मनरेगा घोटाला : शिबू सोरने के नाम पर 1,08,864 रुपये की अवैध निकासी

आरोपी दे रहे धमकी

उन लोगों के द्वारा आवेदक को बूरे अंजाम भुगतने की धमकी भी दी जा रही है. आवेदक ने अंत में हारकर बुधवार को ऑनलाइन प्राथमिकी दर्ज करवायी है. अब देखना यह है कि पुलिस इस मामले पर क्या कार्रवाई करती है. लेकिन यह खेल नगर निगम में खेला जा रहा है, जहां आवेदक का ऐसा एक मामला सामने आ पाया है. पता नहीं कितने मामलों में आवेदकों का प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत पैसे का बंदरबांट किया जा रहा है. यह जांच का विषय है.

इसे भी पढ़ें – मीटर खरीद मामले में जेबीवीएनएल जिद पर अड़ा, मनमाने ढंग से टेंडर के बाद सीएमडी की चिट्ठी की भी परवाह…

क्या कहते हैं नगर आयुक्त

इस बाबत जब धनबाद नगर निगम के कमिश्नर चंद्र मोहन कश्यप से बात की गई तो उन्होंने कहा कि मामले की पूरी जानकारी मुझे अभी नहीं है. मैं इस मामले की पूरी जानकारी ले लेता हूं,  अगर मामला सत्य पाया गया तो मामले में संलिप्त कर्मचारी पर निश्चित रूप से  कार्रवाई की जाएगी.

क्या कहते हैं पार्षद पति

इस संबंध में पार्षद पति उपेंद्र चंद्रवंशी से इस मामले में जानकारी ली गई. तो वह इधर-उधर की बातें करने लगे और कहा कि अगर पैसे दिया है तो जांच का विषय है. इसमें हम क्या कहे.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड का कैडर मैनेजमेंट चरमराया, फंसी लाखों नियुक्तियां, 25 हजार कर्मियों का प्रमोशन पेंडिंग

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: