BokaroKhas-Khabar

पीएमजीएसवाई के 2.5 करोड़ के सड़क निर्माण में भ्रष्टाचार, ग्रामीण कर रहे विरोध 

  • पुराने पुल को नया रूप दे रहे हैं संवेदक, ग्रामीणों ने किया विरोध
  • कसमार से जरीडीह सीमा के बांधडीह तक बन रहे हैं 15 से 20 पुल

Bokaro : कसमार से जरीडीह सीमा तक पीएमजीएसवाई के 2.5 करोड़ के सड़क निर्माण में भ्रष्टाचार ही भ्रष्टाचार साफ तौर पर दिख रही है. सड़क निर्माण से लेकर पुल निर्माण तक में संवेदक द्वारा काफी गड़बड़ी की जा रही है. कई जगहों में पुराने पुलों की मरम्मत कर नया पुल बनाया दिखाया जा रहा है.

मामले में स्थानीय ग्रामीणों ने सड़क से लेकर पुल निर्माण में घोर अनियमितता का आरोप ठेकेदार पर लगाया और विरोध किया है. ग्रामीणों ने पीएमजीएसवाई के सड़क निर्माण की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की है.

पीएमजीएसवाई के 2.5 करोड़ सड़क निर्माण में भ्रष्टाचार, ग्रामीण कर रहे विरोध 
सड़क निर्माण में व्याप्त भ्रष्टाचार के बाद टूटी सड़क

गौरतलब है कि कसमार तिनकोनिया चौक के मेन रोड से भाया वनचास सीमा बांधडीह तक लगभग 11 किलोमीटर तक विशेष मरम्मत कार्य हो रहा है. पीएमजीएसवाई रोड निर्माण कार्य के तहत पीसीसी से लेकर पिचिंग सहित जगह-जगह गाडवाल व पुल-पुलिया का निर्माण कार्य प्रगति पर है.

जिसमें स्थानीय ग्रामीणों का आरोप है  कि सड़क निर्माण कार्य में संवेदक की तरफ से भारी अनियमितता बरती गयी है. लोगों ने घटिया मरम्मत कार्य का आरोप लगाते हुए इसकी जांच की मांग की है. वहीं कसमार सीमा तक होने वाले पीसीसी की गुणवत्ता को लेकर भी ग्रामीणों ने सवाल खड़े किये हैं.

इसे भी पढ़ें – #CoronaUpdate: रामगढ़ में एक नये कोरोना पॉजिटिव मरीज की पुष्टि, झारखंड में 378 संक्रमित

पुराने पुल को नया पुल बनाने का ग्रामीणों ने लगाया आरोप

पीएमजीएसवाई सड़क में 15 से 20 छोटे बड़े पुल पुलिया का निर्माण कराया जा रहा है. जिसके तहत कई पुराने पुलों की मरम्मत करके ही उसे नया रूप दिया जा रहा है. कसमार वनचास भाया बांधडीह तक बने सड़क में 15 से 20 बड़े छोटे पुल का निर्माण किया जा रहा है. जिसमें अधिकतर पुराने पुलों को ही नये पुल का रूप संवेदक द्वारा दिया जा रहा है.

बांधडीह से वनचास तक कई ऐसे पुल-पुलिया दिख जायेंगे,जिसमें साफ तौर पर पुराने पुलों को ही नया पुल का रूप दिया गया है. ग्रामीणों का आरोप है कि विभागीय अधिकारियों व संवेदक की मिलीभगत से इस तरह के कार्य किये जा रहे हैं.

ग्रामीण लक्ष्मी कुमार गंझू, महेश प्रसाद गंझू, दिलीप गंझू सहित दर्जनों ग्रामीणों ने जानकारी देते हुए बताया कि जिस जगह पर पुल का निर्माण होना चाहिए. उन जगहों पर निर्माण कार्य ना करवाकर दूसरे पुराने पुलों की ही मरम्मति किया जा रहा है.

ग्रामीणों ने कहा कि अरालडीह पंचायत के वनचास गांव में जहां पुलों की आवश्यकता है. उन जगहों पर एक भी पुलों का निर्माण संवेदक द्वारा नहीं कराया गया है. वहीं निर्माण कार्य में भी काफी घटिया किस्म की निर्माण सामग्रियां का इस्तेमाल किया गया है.

इसे भी पढ़ें – #Jharkhand_Police की बढ़ती सख्ती से बौखलाये नक्सलीः दहशत फैलाने के लिए कर रहे ग्रामीणों की हत्या

क्या कहते हैं अधिकारी

ग्रामीणों द्वारा लगाया गये आरोप पर कनीय अभियंता सरोज मेहता ने कहा कि ये बिल्कुल गलत है. साथ ही कहा कि कसमार से लेकर बांधडीह सीमा तक मात्र 8 नये बड़े छोटे पुल पुलिया का निर्माण किया जाना है. और बाकी जो पुल दिख रहे हैं,उसमें सिर्फ मरम्मति का ही कार्य किया जा रहा है. कहीं भी पुराने पुल को नया रूप नहीं दिया जा रहा है. वहीं निर्माण कार्य में कहीं कोई अनियमितता नहीं हो रही है.

जबकि कसमार प्रखंड  के प्रमुख विजय किशोर गौतम ने इस बारे में कहा कि पीएमजीएसवाई सड़कों में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है. सड़क की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए. इस सड़क की लिखित शिकायत सूबे के मुख्यमंत्री से की जाएगी और दोषियों पर कार्रवाई की मांग की जाएगी.

इसे भी पढ़ें – जीवन चलाने के लिए जीवन को ही दांव पर लगा दिया गया

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button