Main SliderNational

कोरोनिल : बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि ने बनायी कोरोना वायरस की दवा, 100 पर्सेंट रिकवरी रेट का दावा

होम डिलिवरी भी होगी

New Delhi :  पिछले छह माह से कोरोना वायरस से पूरी दुनिया जूझ रही है. इसके निदान की वैक्सीन पर रिसर्च किये जा रहे हैं. अमेरिकी वैज्ञानिकों ने इस साल के अंत तक वैक्सीन बना लेने की बात कही है. वहीं भारत इस दिशा में आगे बढ़ गया है. बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि ने दावा किया है कि उसने कोरोना वायरस को मात देने वाली दवा बना ली है.

इसे भी पढ़ेंः बीजेपी ऑफिस में बेसुध हुईं सांसद साध्वी प्रज्ञा, बेहोश होकर गिरीं

इस बाबत, मंगलवार को प्रेस वार्ता में रामदेव ने बताया कि विश्व इसका इंतजार कर रहा था. सभी की बेचैनी थी कि वायरस की कोई दवाई निकले. आज हमें ये बताते हुए गर्व हो रहा है  कि कोरोना वायरस की पहली आयुर्वेदिक दवाई हमने बना ली है. इस आयुर्वेदिक दवा का नाम कोरोनिल है.

advt

मौके पर रामदेव ने यह भी बताया कि आज ऐलोपैथिक सिस्टम मेडिसन की दुनिया को लीड कर रहा है. लेकिन हमने कोरोनिल बनाई है. इससे पहले हमारी कंपनी ने रिसर्च किया. स्टडी की. दवा बनाने के बाद सौ लोगों पर इसका टेस्ट किया गया. उपचार के दौरान तीन दिन के अंदर 65 फीसदी रोगी पॉजिटिव से नेगेटिव पाये गये.

बाबा रामदेव ने आगे कहा कि सात दिन में सौ फीसदी लोग निगेटिव हो गये. हमने पूरा रिसर्च करने के बाद इसे तैयार किया है. इस दवा की सौ फीसदी रिकवरी रेट है. और शून्य फीसदी डेथ रेट है. रामदेव ने कहा कि भले ही लोग संशय करें. हमसे इस दावे पर प्रश्न करें, लेकिन हमारे पास हर प्रश्न का उत्तर है. कंपनी इसे बनाने में सभी वैज्ञानिक नियमों का पालन किया है.

इसे भी पढ़ेंः CM हेमंत सोरेन के निर्देश पर 4 अपर महाधिवक्ता समेत 31 सरकारी वकील नियुक्त

होम डिलिवरी भी होगी  

रामदेव ने कहा कि दवा को बनाने में सिर्फ देसी सामान का इस्तेमाल किया गया है. इसमें मुलैठी-काढ़ा समेत कई पौध-पत्तियों को डाला गया है. साथ ही गिलोय, अश्वगंधा, तुलसी, श्वासरि का भी प्रयोग किया गया.

रामदेव ने कहा कि आयुर्वेद विधि से बनी इस दवा को अगले सात दिनों में देशभर के पतंजलि के स्टोर पर उपलब्ध कराया जायेगा. साथ ही ऐप लॉन्च किया जाएगा जिसकी मदद दवा की होम डिलिवरी हो सकेगी.

इसे भी पढ़ेंः 11वीं का अब तक नहीं निकला रिजल्ट, 12 वीं में करीब 5 लाख स्टूडेंट्स को 6 माह में पूरा करना होगा साल भर का सिलेबस

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: