Corona_UpdatesHEALTHWorld

CoronaVirus: हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की टेस्टिंग बंद कर रहा है WHO

Berlin: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा की टेस्टिंग बद कर रहा है. WHO ने कहा है कि वह अस्पताल में भर्ती कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के उपचार में मलेरिया से बचाव वाली दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के प्रभावी होने या नहीं होने के संबंध में चल रही टेस्टिंग को बंद कर रहा है.

इसे भी पढ़ें- Corona: 4 जुलाई को कुल 36 नये कोरोना संक्रमित मिले, झारखंड में हुए 2739 केस

दवा के इस्तेमाल से मृत्यु दर में कोई कमी नहीं

डब्ल्यूएचओ ने कहा कि उसने टेस्टिंग की निगरानी कर रही समिति की हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन और एचआईवी/एड्स के मरीजों के उपचार के लिए इस्तेमाल होने वाली दवा लोपिनाविर/रिटोनाविर के परीक्षण को रोक देने की ‘‘सिफारिश स्वीकार’’ कर ली है.

संगठन ने कहा कि अंतरिम परिणाम यह दिखाते हैं कि हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन और लोपिनाविर/रिटोनाविर के इस्तेमाल से ‘‘अस्पताल में भर्ती कोविड-19 के मरीजों की मृत्यु दर में कोई कमी नहीं आई या मामूली कमी आई.

advt

इसे भी पढ़ें- पुलवामा में CRPF के काफिले पर IED ब्लास्ट और फायरिंग, कोई हताहत नहीं 

सुरक्षा संबंधी कुछ संकेत मिले

उसने कहा कि अस्पताल में भर्ती जिन मरीजों को ये दवाएं दी गईं, उनकी मृत्युदर बढ़ने का भी कोई ‘‘ठोस साक्ष्य’’ नहीं है. वहीं इससे जुड़े टेस्टिंग के क्लीनिकल लैबोरेट्री रिजल्ट में इससे जुड़े सुरक्षा संबंधी कुछ संकेत मिले हैं.

डब्ल्यूएचओ ने कहा कि यह फैसला उन मरीजों पर संभावित परीक्षण को प्रभावित नहीं करेगा, जो अस्पताल में भर्ती नहीं हैं. या  फिर कोरोना वायरस के संपर्क में आने की आशंका से पहले या उसके कुछ ही देर बाद दवा ले रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- गुरु पूर्णिमा विशेष: गुरु ही भवसागर से पार लगा सकते हैं

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: