BusinessCorona_Updates

#CoronaVirus की चपेट में अर्थव्यवस्था, Covid-19 से जुड़े घटनाक्रमों से तय होगी बाजार की दिशा

New Delhi: कोरोना वायरस के कारण देश-दुनिया की अर्थव्यवस्था बुरी तरह से प्रभावित हुई है. विश्व मंदी के दौर से गुजर रहा है. ऐसे में विशेषज्ञों का मानना है कि अगले सप्ताह शेयर बाजारों की दिशा देश-दुनिया में कैसी होगी, ये Covid-19 से जुड़े घटनाक्रमों से तय होगी.

उनका कहना है कि छुट्टियों वाले कम कारोबारी सत्रों के सप्ताह के दौरान बाजार में काफी उतार-चढ़ाव रह सकता है. सोमवार को महावीर जयंती और शुक्रवार को गुड फ्राइडे के अवसर पर बाजार में अवकाश रहेगा.

इसे भी पढ़ेंःकुपवाड़ा में घुसपैठ की कोशिश को सेना ने किया नाकाम, 5 आतंकी ढेर, जवान शहीद

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड के प्रमुख (खुदरा अनुसंधान) सिद्धार्थ खेमका ने कहा, ‘आगे चलकर बाजार में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिलेगा. बाजार की दिशा वैश्विक रुख और देश-दुनिया में कोरोना वायरस की स्थिति से तय होगी.’

खेमका ने कहा, ‘बाजार में काफी अधिक करेक्शन हुआ है. यह दीर्घावधि के निवेशकों के लिए निवेश का काफी अच्छा मौका है.’

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों की संख्या 3,37400 हो गई है. अब तक इससे 77 लोगों की जान जा चुकी है.

दुनियाभर में 12 लाख से अधिक लोग इस वायरस से संक्रमित हुए हैं. इससे अब तक 52,000 लोगों की मौत हो चुकी है.

फिच रेटिंग्स ने चेताया कि 2020-21 में भारत की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर दो प्रतिशत के निचले स्तर पर आ सकती है. 30 साल पहले शुरू हुए उदारीकरण के बाद यह आर्थिक वृद्धि दर का सबसे निचला स्तर होगा.

फिच ने कहा है कि 2020 वैश्विक अर्थव्यवस्था गहरी मंदी में चली जाएगी. वैश्विक वृद्धि दर में 1.9 प्रतिशत की गिरावट आएगी. इस गिरावट की प्रमुख वजह अमेरिका और यूरो क्षेत्र का खराब प्रदर्शन रहेगा.

इसे भी पढ़ेंः#Jharkhand में तीसरे कोरोना पॉजिटिव का तबलीगी कनेक्शनः बांग्लादेश में जमात में शामिल होकर लौटी थी महिला

बीते सप्ताह बीएसई सेंसेक्स 2,224.64 या 7.46 प्रतिशत नीचे आया.

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘बाजार की दिशा दुनिया में कोविड-19 से सबसे अधिक प्रभावित देशों में इस वायरस की स्थिति से तय होगी. भारत में इसके संक्रमण को रोकने के लिए किए गए प्रयासों में कुछ सफलता मिली और कुछ बाधाएं भी आई हैं. यदि लॉकडाउन हटाने से संबंधी कोई खबर मिलती है तो बाजार में कुछ सकारात्मक रुख देखने को मिल सकता है.

वृहद आर्थिक मोर्चे पर सेवा क्षेत्र के पीएमआइ आंकड़े सोमवार को आएंगे. विश्लेषकों ने कहा कि इसके अलावा निवेशकों की निगाह कच्चे तेल के रुख, रुपये के उतार-चढ़ाव और विदेशी निवेशकों के निवेश के रुख पर भी रहेगी.

इसे भी पढ़ेंः#Jharkhand में कोरोना वायरस का तीसरा मामला, बांग्लादेश से लौटी महिला में संक्रमण की पुष्टि

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close