न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#CoronaVirus के खौफ से अपराधी भी हुए #LockDown

724

Ranchi: कोरोना वायरस के खौफ से पूरे झारखंड में सन्नाटा पसरा हुआ है. अपराधी भी इसके डर से अंडरग्राउंड हो गये हैं या यूं कहे कि वो भी लॉकडाउन हो गये हैं.

पिछले पांच दिनों की बात की जाए तो राज्य में हत्या, दुष्कर्म, चोरी, लूट, डकैती और झपटमारी जैसी घटनाओं में काफी कमी आयी है. वहीं, पुलिस भी अपराधियों को पकड़ने के लिए दबिश को होल्ड कर लॉकडाउन का पालन कराने में जुटी हुई है. साथ ही ऐसे लोगों पर कार्रवाई करने में जुटी है, जो नियमों को पालन नहीं कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- #Lockdown21 का उल्लंघन करने पर बिहार में 9 गिरफ्तार, 531 वाहन जब्त, 15 लाख से ज्यादा का वसूला जुर्माना

अपराधी भी कोरोना के खौफ से अंडरग्राउंड 

राज्य में कोरोना वायरस से लोगों में डर पैदा हो गया है. लोग सावधानी बरत रहे हैं. साथ ही लॉकडाउन होने के बाद लोग पूरी तरह से घरों में बंद हो गये हैं. ऐसी स्थिति में राज्य में आपराधिक घटनाएं भी रुक गयी हैं. बदमाश भी कोरोना के खौफ से अंडरग्राउंड हो गये हैं.

झारखंड की बात करें तो झारखंड में हर दिन औसतन 6 हत्या, 5 दुष्कर्म, चोरी और झपटमारी की दर्जनों घटनाएं होती थी. लेकिन लॉकडाउन के बाद से स्थिति बदल गयी है इन सभी घटनाओं में भारी कमी आयी है.

Whmart 3/3 – 2/4

बड़े मामलों के अनुसंधान ठप

कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए देशभर में लॉकडाउन के बाद से राज्य में हुए बड़े कांडों के अनुसंधान भी ठप पड़े हुए हैं. पूरे राज्य की पुलिस सख्ती के साथ लोगों को लॉकडाउन का पालन कराने में जुटी हुई है.

केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआइ और एनआइए के भी हाथ बंध गये हैं. तमाम केसों की जांच जहा-तहां अटक गयी है. कई मामलों में कोर्ट में पेशी से लेकर अनुसंधान तक आगे नहीं बढ़ पा रहा है. इन एजेंसियों के अधिकारी बंधे हाथों से माहौल सामान्‍य होने की राह देख रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- प्रेमकुमार मणि का पीएम मोदी को पत्र– “जब संक्रमण फैल रहा था, आपने कुछ नहीं किया”

अपराध में कमी होने की ये है बड़ी वजह

राज्य में अपराध में कमी होने की बड़ी वजह कोरोना वायरस से संक्रमित होने का डर और पुलिस की ओर से लगाये गये धारा 144 का असर है. इसके चलते अपराधिक प्रवृत्ति के लोग भी घर से बाहर नहीं निकल रहे हैं.

शराब दुकानों के बंद होने के बाद खुले स्थानों में बैठकर शराब पीने के मामलों में भारी कमी आयी है. ज्यादातर थानों में एक भी मामले दर्ज नहीं हुए हैं. बसस्टैंड, रेलवे स्टेशन, ऑटोस्टैंड, शराब दुकान, बार, रेस्टोरेंट, आदि स्थानों के बंद होने का काफी असर पड़ा है.

आमतौर पर इन स्थानों पर अपराधिक प्रवृत्ति, नशेड़ी, तस्कर सक्रिय रहते हैं. बंद होने की वजह से इन स्थानों में ऐसे लोग नदारद हो गये हैं. इस वजह से अपराधिक घटनाओं में भारी कमी आयी है.

इसे भी पढ़ें- #WHO ने भारत को चेतायाः सिर्फ लॉकडाउन से नहीं रुकेगा #Corona, करने होंगे दुरुस्त उपाय

चोरी के मामले में आयी कमी

पिछले कुछ दिनों से राज्य में चोरियां भी कम हो रही है. आमतौर पर रोज किसी न किसी थाना क्षेत्र में चोरी की घटना होती थी. थानों में वाहन चोरी के मामले रोज दर्ज होते थे. इसके अलावा बंद मकान, दुकान व अन्य स्थानों में चोरी करते थे. लॉक डाउन के बाद से इन घटनाओं में भारी कमी आयी है.

न्यूज विंग की अपील

देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं.

इसमें सबसे अहम है खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

न्यूज विंग की अपील


देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like