Corona_UpdatesMain Slider

कोरोना का खतरा बढ़ा, कुछ ही हफ्ते में शरीर से गायब हो सकती है Corona ऐंटिबॉडीज!

विज्ञापन
Advertisement

New Delhi: कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, इसके साथ ही इससे जुड़े कई फैक्ट्स सामने आ रहे हैं. वैज्ञानिक लगातार इस पर रिसर्च कर रहे हैं और पता कर रहे हैं कि इस बीमारी के प्रभाव, संक्रमण के दौरान नजर आने वाले लक्षणों और बीमारी से मुक्त हो जाने के बाद भी इस बीमारी का शरीर पर होनेवाला असर कैसा है.

वैज्ञानिक लगातार इन सभी सवालों को ध्यान में रखकर रिसर्च कर रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इस कड़ी में वैज्ञानिकों के सामने जो ताजा जानकारी सामने आई है, वह इस प्रकार है.

रिसर्च के अनुसार, कोरोना से संक्रमित मरीज जब ठीक हो जाता है, तो उसके टेस्ट नेगेटिव आते है. वैज्ञानिकों के अनुसार, इसके बाद भी करीब 2 सप्ताह तक उसके शरीर में इस वायरस की मौजूदगी रह सकती है. ऐसे में एक बार फिर वह अन्य व्यक्तियों को संक्रमित कर सकता है.

advt

रिसर्च के अनुसार, कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद जिस व्यक्ति के शरीर में ऐंटिबॉडीज बनती हैं, माना जाता है कि वे ऐंटिबॉडीज उस व्यक्ति को इस रोग की चपेट में आने से बचाता है. यही कारण है कि वैज्ञानिक लगातार ऐंटिबॉडीज पर रिसर्च कर रहे हैं. हालही में ब्रिटेन और स्पेन में भी इस पर रिसर्च की गई है और रिसर्च में रिजल्ट चौंकाने वाला सामने आया है.

रिजल्ट में क्या है

रिसर्च के अनुसार, कोरोना वायरस के संक्रमण को खत्म करने के लिए जो ऐंटिबॉडीज शरीर में बनती हैं, वे कुछ समय बाद शरीर में खत्म हो जाती हैं. माना जाता है कि इस स्थिति में व्यक्ति दोबारा संक्रमित हो सकता है या संक्रमण होने की आशंका कई गुना बढ़ जाती है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, जब पेशंट के शरीर में कोरोना के लक्षण नजर आते हैं, उसके बाद करीब 3 सप्ताह तक ऐंटिबॉडीज शरीर में बहुत बड़ी मात्रा में मौजूद होती हैं और ये लगातार बन रही होती हैं.

एक्सपर्ट्स का कहना है कि मरीज के शरीर में कोरोना से लड़ने के लिए ऐंटिबॉडीज बनती हैं लेकिन वे लंबे समय तक जीवित नहीं रहती, इस कारण जिस व्यक्ति को यह संक्रमण एक बार हो चुका है, उसको दोबारा संक्रमित होने की पूरी आशंका है.

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: