Corona_Updates

#CoronaVirus : हिंदपीढ़ी में कोरोनो पॉजिटिव पायी गयी महिला को सैंपल लेने के बाद भेज दिया गया था घर, इतनी बड़ी लापरवाही का दोषी कौन?

  • थोड़ी सी लापरवाही बढ़ा सकती है कम्युनिटी ट्रांस्फर का खतरा
  • भारी संख्या में पहुंचे थे संदिग्ध मरीज

Ranchi: सोमवार को राज्य में पॉजिटिव मरीजों की संख्या चार हो गयी थी. हिंदपीढ़ी इलाके से पॉजिटिव मरीज का यह दूसरा मामला था. हिंदपीढ़ी की जिस महिला को पॉजिटिव पाया गया, उसका सैंपल लेने के बाद महिला को सीधे घर भेज दिया गया था. जबकि उसे एहतियात के तौर पर रिम्स के आइसोलेशन वार्ड या क्वारंटाइन सेंटर में रखा जाना चाहिए था. पर उसे न तो क्वारंटाइन सेंटर भेजा गया न ही आइसोलेशन वार्ड में रखना उचित समझा गया.

Jharkhand Rai

मरीज के परिजन ने बताया था कि उन्हें जांच के लिए सैंपल लेने के बाद घर जाने के लिए कहा गया था. सोमवार की सुबह उन्हें सूचना दी गयी कि आपके मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव पायी गयी है, आप जरूरी एहतियात बरतें. उन्हें प्रशासन की टीम आकर रिम्स ले आयेगी.

इसे भी पढ़ें – सूद पर पैसे लेकर उपजायी सब्जियां, लॉकडाउन ने बढ़ायी मुसीबत अब आत्महत्या की नौबत

उठ रहे सवाल

पर यह सवाल उठ रहा है कि अगर इस महिला से कई और लोग संक्रमित हुए होंगे तो जिम्मेवार कौन होगा. अगर यह लापरवाही रिम्स प्रबंधन की है और कम्युनिटी ट्रांस्फर का खतरा बढ़ता है तो जिम्मेवार कौन होगा. कम्युनिटी ट्रांस्फर इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि जिस सेंटर पर महिला अपना डायलिसिस कराती थी, वहां कई अन्य इलाकों से भी मरीज अपना डायलिसिस कराने पहुंचते हैं. ऐसे में अगर उस महिला का संक्रमण और लोगों तक पहुंचा तो यह बड़ा ही गंभीर मामला साबित हो सकता है. और इसके लिए सिर्फ और सिर्फ रिम्स प्रबंधन की एक लापरवाही को ही जिम्मेवार ठहराया जायेगा.

Samford

रिम्स की लापरवाही से बढ़ सकता है कम्युनिटी ट्रांस्फर का खतरा

बताया जा रहा है कि 2 अप्रैल को महिला नेफ्रॉन क्लीनिक अपना डायलिसिस कराने के लिए पहुंची थी. पर वहां डॉक्टरों ने उन्हें रिम्स जाकर कोरोना जांच कराने की सलाह दी थी. जिसके बाद महिला ने रिम्स के ट्रामा सेंटर में अपनी जांच के लिए सैंपल दिया था. जिसके बाद महिला को रिम्स प्रबंधन ने सीधा घर भेज दिया. लापरवाही यही है, जब महिला में कोरोनो के लक्षण थे और उनका सैंपल लिया गया था, तो उन्हें रिम्स के आइसोलेशन सेंटर में भर्ती किया जाना चाहिए था या फिर उन्हें क्वारंटाइन सेंटर भेजा जाना चाहिए था.

इसे भी पढ़ें – #Lockdown : प्रदेश भाजपा ने अब तक राज्य के 3.4 लाख लोगों को दिया मोदी आहार, 64 हजार परिवारों तक पहुंचाया मोदी राशन

महिला का ईलाज करनेवाले डॉ एके वैद्य ने भी करायी जांच

हिंदपीढ़ी में दूसरा और राज्य में चौथा कोरोना मरीज मिलते ही रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में कोरोना जांच करानेवालों की भीड़ बहुत बढ़ गयी है. महिला किडनी की मरीज है और जिस डॉक्टर से इलाजरत है, उन्होंने भी अपनी जांच के लिए सैंपल सोमवार को ही दे दिया है.

इसके अलावा उनके नेफ्रॉन क्लीनिक के सभी टेक्नीशियन सहित कर्मी अपने सैंपल की जांच के लिए रिम्स स्थित कोरोना सेंटर पहुंचे थे. इनके अलावा हिंदपीढ़ी इलाके के भी कई लोग अपनी जांच के लिए पहुंचे थे. पर उनकी शिकायत थी कि तीन-चार घंटे लाइन में रहने के बाद भी उनकी जांच नहीं हो पा रही है.

इसे भी पढ़ें – #Lockdown की बढ़ सकती है अवधि? राज्य सरकारों के सुझाव के बाद केंद्र कर रहा विचार, सरकारी पोर्टल से डिलीटेड ट्वीट भी दे रहा संकेत

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: