Corona_UpdatesJharkhandPalamu

#CoronaUpdates: पलामू के 13 तब्लीगियों समेत 18 संदिग्धों की जांच रिपोर्ट निगेटिव, 40 और सैम्पल भेजे गये

Palamu: पलामू जिला अब तक कोरोना के संक्रमण से बचा हुआ है. सोमवार को भी 18 संदिग्धों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आयी है.

इन 18 संदिग्धों में 13 तबलीगी जमात से जुड़े लोग भी शामिल थे. इससे पहले पांच संदिग्धों की रिपोर्ट आयी थी और वे भी निगेटिव थे.

पलामू के सिविल सर्जन डॉ. जॉन एफ. कनेडी ने बताया कि 40 और संदिग्धों के सैम्पल जांच के लिए रांची भेजे गए हैं. बहुत जल्द उनकी भी रिपोर्ट आ जायेगी.

Sanjeevani

डॉ. कनेडी के मुताबिक फिलहाल आइसोलेशन में सात लोगों को रखा गया है. इसके अलावा सरकारी क्वारंटाइन में 1882 और होम क्वारंटाइन में 7357 लोग हैं.

सिविल सर्जन ने कहा कि पलामू जिला अब तक बिल्कुल सुरक्षित है. लोगों को सरकार के दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन करते रहना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : #FightAgainstCorona : आइये मिलते हैं कोरोना विजेताओं से…

कोरोना से बचाव को लेकर क्विक रिस्पांस टीम तैयार

पलामू में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के उद्देश्य से क्विक रिस्पांस टीम का गठन किया गया है. यह टीम कोरोना से आमजनों को बचाव के लिए हमेशा तत्पर रहेगा.

इस क्विक रिस्पांस टीम के सदस्यों को सोमवार को प्रशिक्षण दिया गया. उपायुक्त डॉ. शांतनु कुमार अग्रहरि के निर्देश पर टाउन हॉल में आयोजित प्रशिक्षण में क्विक रिस्पॉस टीम को कोरोना वायरस के प्रसार की हर संभावनाओं से निपटने के गुर सिखाये गये.

टीम में कौन कौन हैं शामिल

टीम में डॉक्टर, सहिया, सेविका, एएनएम, शिक्षकों, लैब टेक्नीशियन हैं, जो प्रशिक्षण में भाग लेकर स्थिति से निपटने को लेकर प्रशिक्षण प्राप्त किया. प्रशिक्षण में पलामू की स्थितियों के बारे में चर्चा की गयी.

साथ ही भविष्य की संभावनाओं पर प्रकाश डाला. उन्हें बताया गया कि पलामू सेफ है. घबराने की आवश्यकता नहीं है. सावधानी के साथ खुद का बचाव करते हुए दूसरों का बचाव करना है.

इसे भी पढ़ें : हिंदपीढ़ी की 15 गलियां अगले 72 घंटे पूरी तरह सील, घर से कोई भी निकला तो सीधा जेल

परिस्थितियों से निपटने के लिए बनी क्विक रिस्पॉस टीम: डा. अनिल कुमार

प्रशिक्षण कोषांग के प्रभारी डॉ. अनिल कुमार ने बताया कि परिस्थितियों से निपटने के लिए क्विक रिस्पॉस टीम का गठन किया गया है. किसी भी परिस्थिति में दूसरों का बचाव किया जायेगा.

व्यक्तियों को घर-घर तक राहत दी जायेगी. इसके अलावा शहरी से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों के घरों, गली, सड़क एवं दरवाजे, खिड़की को अच्छी तरह से सैनेटाइज  किया जायेगा.

उन्होंने कहा कि टीम के सदस्यों को कोरोना से बचाव के लिए सभी उपकरणों से लैस रखा जायेगा.

उन्होंने प्रशिक्षण में मौजूद सभी लोगों से कोरोना से बचाव के लिए गठित कंटेनमेंट जोन, बफर जोन, ई पी आई जोन को आपस में समन्वय बनाकर काम करने की बात कही.

प्रशिक्षण को विश्व स्वास्थ्य संगठन के सर्विलांस मेडिकल ऑफिसर (एस.एम.ओ.) बलेमा देवगम ने भी संबोधित किया.

हरेक संभावनाओं पर प्रशासन की है पैनी नजरः उपायुक्त

उपायुक्त ने बताया कि इस वायरस से संबंधित हर एक संभावनाओं पर प्रशासन की पैनी नजर है. जिले के बाहर से आने वाले हर एक व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की जा रही है.

लॉक डाउन को पूर्ण रुप से लागू कराने हेतु पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया है. किसी भी संभावना के लिए टीम तैयार है. पूरी प्रशासन अलर्ट मोड पर है. उन्होंने आमलोगों से अपने घर में रहने की अपील की.

इसे भी पढ़ें : हिंदपीढ़ी में #Corona की दूसरी मरीज मिलने के बाद रांची जिला प्रशासन रेस, इलाके की 24 घंटे रखी जायेगी निगरानी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button