न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विवाद :  ट्रम्प ने फंड देने से किया इनकार, WHO ने वायरस संकट को लेकर वैश्विक एकता की अपील की

1,771

Jeneva :  विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा संस्था को वित्त पोषण देने से इनकार करने की घोषणा के बाद बुधवार को कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में वैश्विक एकता की अपील की.

डब्ल्यूएचओ ने गुरुवार को इस बीमारी के फैलने के 100वें दिन के रूप में चिह्नित करने की तैयारी की है. यह बीमारी पहली बार चीन में फैली और फिर पूरी दुनिया को इसने अपनी चपेट में ले लिया.

इसे भी पढ़ेंः चीन: Covid-19 के 63 नये मामलों की पुष्टि, संक्रमण का दौर लौटने का डर

गौरतलब है कि ट्रम्प ने डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस एडहनोम घेब्रेयेसस पर चीन का पक्ष लेने का आरोप लगाया है.

संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी को पहले महामारी से लड़ने में बहुत धीमा कदम उठाने के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा है.

टेड्रोस ने अमेरिका से आरोप-प्रत्यारोप के खेल में लिप्त होने के बजाय चीन के साथ मिलकर बीमारी का मुकाबला करने का आग्रह किया.

इसे भी पढ़ेंः दुनिया पर #Corona का प्रकोप: न्यूयॉर्क में 6,268, फ्रांस में 10,869 व सोमालिया में पहली मौत

टेड्रोस ने जिनेवा में एक प्रेस ब्रीफिंग में बताया, ‘‘अमेरिका और चीन को एक साथ आना चाहिए और इस खतरनाक दुश्मन से लड़ना चाहिए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘सभी राजनीतिक दलों का ध्यान अपने लोगों को बचाने पर होना चाहिए. कृपया इस वायरस पर राजनीति न करें.’’ डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा, ‘‘यदि आप और लाशें नहीं देखना चाहते हैं, तो आप इसका राजनीतिकरण न करें. यह आग से खेलने जैसा है’’

मरने वालों की संख्या और संक्रमितों की संख्या का हवाला देते हुए, टेड्रोस ने कहा, ‘‘भगवान की खातिर… कृपया ऐसा न करें.’’

गौरतलब है कि ट्रम्प ने कहा था, ‘‘हम डब्ल्यूएचओ पर खर्च की जाने वाली राशि पर रोक लगाने जा रहे हैं. हम इस पर बहुत प्रभावशाली रोक लगाने जा रहे हैं.’’

विश्व स्वास्थ्य संगठन का मुख्यालय जिनेवा में स्थित है और उसे अमेरिका की ओर से बड़ी धनराशि मिलती है.

ट्रम्प ने आरोप लगाया, ‘‘उनको मिलने वाले वित्तपोषण का अधिकांश या सबसे बड़ा हिस्सा हम उन्हें देते हैं. जब मैंने यात्रा प्रतिबंध लगाया था तो वे उससे सहमत नहीं थे और उन्होंने उसकी आलोचना की थी. वे गलत थे. वे कई चीजों के बारे में गलत रहे हैं. उनके पास पहले ही काफी जानकारी थी और वे काफी हद तक चीन केंद्रित लग रहे हैं.’’

कोरोना वायरस से अब तक दुनियाभर में 80,000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 14 लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं.

इसे भी पढ़ेंः #Trump के थैंक्यू पर बोले मोदी- मुश्किल वक्त दोस्तों को और करीब लाता है, भारत मानवता की मदद के लिए हरसंभव काम करेगा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like