Corona_UpdatesNational

#Corona_Effect: बजट सत्र को छोटा कर सकती है सरकार, वैंकेया नायडू ने बुलायी सर्वदलीय बैठक

New Delhi: देश में कोरोना के बढ़ते कहर को देखते हुए संसद के बजट सत्र को स्थगित किया जा सकता है. वहीं तृणमूल कांग्रेस और शिवसेना ने पहले ही सत्र में सांसदों के शामिल नहीं होने की बात कही है.

इसके बीच राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है.

बता दें कि बजट सत्र 3 अप्रैल को खत्म हो रहा है. सरकार 31 मार्च से पहले बजट पारित करने के बाद सत्र में कटौती पर विचार कर सकती है.

इसे भी पढ़ेंः #Corona: झारखंड भी 31 मार्च तक लॉकडाउन, आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी

23 मार्च को ही समाप्त हो सकता है सत्र

सूत्रों की मानें तो सरकार को बजट सत्र में कई महत्वपूर्ण बिल पास कराने हैं, शायद इसी वजह से कोरोना वायरस के मामलों को देखने के बावजूद अभी तक सत्र को स्थगित करने पर कोई विचार नहीं किया गया था. लेकिन अब जिस तरह से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ रही है. सरकार सत्र को लेकर फैसला ले सकती है.

न्यूज एजेंसी पीटीआइ के अनुसार दोनों सदनों में वित्त विधेयक पारित होने के बाद संसद का बजट सत्र सोमवार को संपन्न होने की संभावना है. हालांकि, सत्र 3 अप्रैल को समाप्त होने वाला था, जिसे अब 23 मार्च को यानी आज ही स्थगित किए जाने की संभावना है.

उपराष्ट्रपति ने बुलायी सर्व दलीय बैठक

राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने कोरोना वायरस से उत्पन्न हालात के कारण बजट सत्र की शेष अवधि को तय करने के लिये सोमवार को उच्च सदन में विभिन्न दलों के नेताओं की बैठक बुलायी है.

इसे भी पढ़ेंः#Covid_19india: RIMS में ओपीडी सेवा अगले आदेश तक स्थगित

राज्यसभा सचिवालय के सूत्रों के अनुसार, नायडू ने सदन की कार्यवाही दोपहर दो बजे शुरू होने से पहले सर्वदलीय बैठक बुलाई है. इसमें बजट सत्र के लिए निर्धारित कार्य को पूरा कर सदन की कार्यवाही स्थगित करने के बारे में फ़ैसला किया जाएगा.

एक अधिकारी ने बताया कि यह बैठक सभापति कार्यालय में दोपहर एक बजकर 30 मिनट पर होगी.

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिये यातायात सेवाएं बाधित होने के कारण शुक्रवार को दोनों सदनों की बैठक सोमवार को दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित की गयी थी, जिससे सदस्यों को समय से संसद पहुंचने में परेशानी न हो.

नायडू द्वारा बुलायी गयी बैठक में कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न हालात की समीक्षा के आधार पर यह तय किया जाएगा कि इस सत्र में सदन की कार्यवाही को जारी रखना है या स्थगित करना है.

TMC-शिवसेना ने पहले ही सत्र में शामिल नहीं होने की घोषणा की

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और शिवसेना पहले ही कोरोना वायरस संकट की वजह से संसद सत्र में हिस्सा न लेने की बात कह चुकी है. वहीं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख ने पार्टी सांसदों से दिल्ली न जाने की सलाह दी है.

महाराष्ट्र के शिवसेना नेता संजय राउत ने रविवार को घोषणा की कि उनकी पार्टी के सांसद कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर सोमवार से संसद के बजट सत्र में नहीं जायेंगे.

संसद में शिवसेना के मुख्य सचेतक राउत ने ट्वीट किया, ‘ कोविड-19 की स्थिति को ध्यान में रखकर शिवेसना के सासंद आज से संसद की कार्यवाही में हिस्सा नहीं लेंगे. यह निर्णय हमारे पार्टी प्रमुख एवं (महाराष्ट्र के) मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सरकार को इस महामारी में मदद पहुंचाने के लिए लिया है.’’

राकांपा पहले ही घोषित कर चुकी है कि उसके ज्यादातर लोकसभा एवं राज्यसभा सदस्य अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में प्रशासन को कोविड-19 का मुकाबला करने में सहयोग करने के लिए वहीं बने रहेंगे.

उल्लेखनीय है कि तृणमूल कांग्रेस और आप सहित अन्य विपक्षी दलों के नेता कोरोना वायरस के संक्रमण का ख़तरा बताते हुए नायडू से सत्र समाप्त करने की मांग कर चुके हैं.

इसे भी पढ़ेंःCorona: गया में कोरोना के संदिग्‍ध की नहीं हुई जांच, मौत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button