Corona_UpdatesMain SliderWorld

दो दिन बाद रूस में आ जायेगा कोरोना वैक्सीन, रिसर्चर्स को लगाये गये टीके

News Wing Desk:  रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस खबर की आज पुष्टि कर दी है कि दो दिन बाद 12 अगस्त को कारोना का वैक्सीन आ जायेगा. रूसी सरकार उसे रजिस्टर करने जा रही है. रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है कि वैक्सीन को रूस के सभी लोगों को दिया जायेगा. ताकि देश के सभी लोग कोरोना वायरस से लड़ने के लिए इम्युनिटी हासिल कर सके. यह काम अक्टूबर से शुरू कर दिया जायेगा.

रूस की स्पतनिक न्यूज एजेंसी ने दावा किया है कि कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार करने वाले विशेषज्ञ और रिसर्चर ने खुद तमाम ट्रायल के बाद खुद में भी टीका लगाया है. दावा किया गया है कि कुछ लोगों को वैक्सीन का डोज दिये जाने के बाद बुखार आ सकता है. जो पारासिटामॉल के इस्तेमाल से ठीक हो जाता है.

यह इसलिए होता है, क्योंकि जब कोरोना के खिलाफ इम्युन को बढ़ाने के लिए पावरफुल बूस्ट दिया जाता है तो प्राकृतिक रुप से कुछ लोगों को बुखार आ जाता है. ऐसा तब कई बच्चों में भी होता है, जब उन्हें कई तरह के टीके लगाये जाते हैं.

advt

रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने कहा है कि अगस्त महीने में यह वैक्सीन देश के सभी हेल्थ वर्कर्स को दिया जा सकता है. ताकि वह निश्चिंत होकर अपने काम कर सके.

इसे भी पढ़ें – सुप्रीम कोर्ट ने कहा, प्रशांत भूषण के खिलाफ चलेगा अवमानना का मामला, अगली सुनवाई 17 अगस्त को

WHO ने बयान जारी कर फैला दी सनसनी

रूस द्वारा कोरोना का वैक्सीन बनाये जाने के बाद WHO ने 9 अगस्त को एक बयान जारी करके सनसनी फैला दी है कि कोरोना का कोई वैक्सीन बन ही नहीं सकता. डब्लूएचओ ने कहा कि दुनिया के लोगों को कोरोना के साथ रहने की आदत डालनी पड़ेगी.

डब्लूएचओ के इस बयान को कुछ लोग अमेरिका, बिल गेट्स और चाइना से जोड़ करके देख रहे हैं. कह रहे हैं कि रूस के द्वारा वैक्सीन बना लेने के ऐलान के बाद कई देशों और पूंजिपतियों की योजना फैल होती नजर आ रही है. यही कारण है कि डब्लूएचओ इस तरह का बयान दे रहा है. उल्लेखनीय है कि कोरोना को लेकर डब्लूएचओ की भूमिक शुरू से ही संदेहास्पद रही है.

adv

इसे भी पढ़ें – DGP एमवी राव का आदेश- गलत कार्यों में लिप्त पुलिसकर्मियों पर तुरंत हो कार्रवाई  

 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button