JharkhandRanchiTOP SLIDER

राजधानी के दो निजी अस्पतालों को भेजी ही नहीं गयी कोरोना वैक्सीन, लोग कर रहे हैं इंतजार

Ranchi :  राजधानी में सोमवार से शुरू हो रहे कोरोना टीकाकरण के पहले ही दिन पोल खुल गयी. अव्यवस्था के बीच लोग टीका लेने का इंतजार करते रहे. लेकिन निजी अस्पतालों में कोई वैक्सीन पहुंचा ही नहीं. दो निजी अस्पतालों में कोरोना वैक्सीन सोमवार की सुबह से शुरू होना था,  इनमें राज अस्पताल और मेडिका अस्पताल शामिल हैं.

लेकिन दिन के 12 बजे तक इन अस्पतालों को रजिस्ट्रेशन के लिए ना तो यूजर आईडी और न पासवर्ड दिया गया और ना ही वैक्सीन दी गयी. सदर अस्पताल की ओर से इन अस्पतालों को सारी चीजें उपलब्ध करानी थी. लेकिन इस दिशा मे बड़ी लापरवाही देखने को मिली.

इसे भी पढे़ंः बैग में बम की थी अफवाह, जांच की तो मिली देसी शराब और चखना

Sanjeevani

क्या तर्क दे रहे हैं सरकारी अधिकारी

रांची के सिविल सर्जन डॉ वीबी प्रसाद ने बताया कि सुबह से ही सर्वर डाउन होने के कारण समस्या उत्पन्न हुई है. जिसे ठीक किया जा रहा है, लेकिन इसमें कितना वक्त लगेगा इसके बारे में कहा नहीं जा सकता. उन्होंने बताया कि सदर अस्पताल में टीकरण को लेकर अत्यधिक भीड़ की वजह से टीके की खेप निजी अस्पतालों में भेजी नहीं जा सकी है. इन सारी चीजों को देख व्यवस्था दुरुस्त करने का प्रयास किया जा रहा है.

मालूम हो कि कोरोना वैक्सीन का टीका 45 वर्ष से अधिक बीमार व्यक्ति या 60 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्गों को दिया जाना है. इसे लेकर स्वास्थ्य विभग ने सारी व्यवस्था दुरुस्त रखने का दावा किया था. लेकिन यह पूरा दावा खोखला नजर आ रहा है.

इसे भी पढे़ंः Ranchi Univeristy : 14 कॉलेजों में नौ ट्राइबल एंड रीजनल लैंग्वेजेज की पढाई, शिक्षक केवल 30

सदर और रिम्स में चल रहा है टीकाकरण

सरकारी अस्पतालों में लोगों की काफी भीड़ सुबह से ही उमड़ रही है. जहां पर लोगों का पहले रजिस्ट्रेशन कराया जा रहा है और उसके बाद टीकाकरण हो रहा है. टीका लेने की पूरी प्रक्रिया में करीब 15 से 20 मिनट का वक्त लग रहा है. हालांकि यह समय भीड़ और कतार पर निर्भर है. अभी तक मिली सूचना के मुताबिक किसी को भी टीका मिलने के बाद कोई समस्या सामने नहीं आयी है. और लोग आराम से टीका लेकर घर जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंः अब जोजिला में सुरंग बनाने की परियोजना में जुटे वांगचुक

Related Articles

Back to top button