JharkhandLead NewsRanchi

कोरोना त्रासदीः झारखंड में 3,47,933 लोग संक्रमित, 136 टन निकला बायो मेडिकल कचरा

Ranchi. कोरोना संकट को दौर झारखंड सहित देशभर में जारी है. पिछले साल मार्च से शुरू हुए इस त्रासदी से अब तक पूरी तरह उबरना संभव नहीं हो पाया है. पिछले साल की पहली लहर से लेकर इस वर्ष फरवरी-मार्च में शुरू हुए दूसरी लहर के बीच 3,47,933 लोग संक्रमित हो चुके हैं जिनमें से 3,42,647 लोग रिकवर हो चुके हैं. 5132 लोगों को इसके चलते अपनी जान गंवानी पड़ी है. इन सबके बीच कोरोना काल में राज्यभर में संक्रमितों के इलाज, देखभाल के क्रम में 136.6 टन बायो मेडिकल कचरा अब तक प्रोड्यूस हो चुका है. इस मामले में देश भर में यह 24वें पोजिशन है. टॉपर पर महाराष्ट्र, केरल जैसे राज्य हैं.नॉर्थ ईस्ट, गोवा, केंद्र शासित प्रदेशों को छोड़ दें तो झारखंड इस मामले में दूसरे राज्यों से कहीं आगे दिख रहा है.

इसे भी पढ़ें : 24 सितंबर को होगी HAM की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक

देशभर में 56898 टन से अधिक कचरा

पिछले दिनों केंद्र सरकार (पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय) ने सदन में बताया था कि कोरोना काल में (जून 2020 से लेकर जून 2021 तक) देशभर में 56898.4 टन बायो मेडिकल कचरा निकला. इसमें महाराष्ट्र सबसे ऊपर रहा है जहां 8317 टन मेडिकल वेस्ट प्रोड्यूस हुआ. इसके बाद दूसरे पोजिशन पर केरल (6442.2 टन), तमिलनाडु (4835.9 टन), यूपी (3881.7 टन) जैसे राज्य रहे हैं. इसकी तुलना में लक्षद्वीप में 3.6 टन, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में 4 टन, त्रिपुरा में 7.6 टन कचरा निकलकर सामने आय़ा है.

advt

इसे भी पढ़ें :आरोपः रांची डीसी ने आर्म्स लाइसेंस के लिए ली 2.20 लाख की रिश्वत, Amity University और CRY के नाम पर लिया चेक

बायो मेडिकल वेस्ट में कौन कहां

1. महाराष्ट्र- 8317 टन
2. केरल-6442.2 टन
3. गुजरात-5004.9 टन
4. तमिलनाडु-4835.9
5. दिल्ली-3995.3
6. यूपी-3881.7 टन
7. कर्नाटक-3133.6 टन
8. पश्चिम बंगाल-3128.9 टन
9. हरियाणा-3025.3 टन
10. आंध्र प्रदेश-2877.5 टन
11. मध्य प्रदेश-2462.8 टन
12. ओड़िशा-1642.9 टन
13. राजस्थान-1382.8 टन
14. पंजाब-1289.1 टन
15. तेलंगाना-1109.7 टन
16. उत्तराखंड-683.4 टन
17. चंडीगढ़-671.4 टन
18. जम्मू एंड कश्मीर-543 टन
19. पुडुचेरी-428.4 टन
20. हिमाचल प्रदेश-414.3 टन
21. छत्तीसगढ़-381.4 टन
22. असम-337.4 टन
23. बिहार-336 टन
24. झारखंड-136.6 टन
25. गोवा-124.2 टन
26. मेघालय-92.2 टन
27. मणिपुर-56.5 टन
28. सिक्किम-36.6 टन
29. अरुणाचल प्रदेश-34.8 टन
30. नागालैंड-34.1 टन
31. मिजोरम-29.2 टन
32. दमन एंड दीव-14.1 टन
33. त्रिपुरा-7.6 टन
34. अंडमान एंड निकोबार द्वीप समूह-4 टन
35. लक्षद्वीप-3.6 टन

adv

BMW ऐप से निगरानी

पर्यावरण, वन मंत्रालय के मुताबिक केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने बायो मेडिकल बेस्ट प्रंबधन नियम 2016 के प्रावधानों के तहत कोविड-19 रोगियों के इलाज, कोरेंटाइन के दौरान उत्पन्न होने वाले बायो मेडिकल कचरे के निस्तारण के लिये दिशा-निर्देश जारी कर रखे हैं. स्वास्थ्य केंद्रों से इसका पालन किये जाने को कहा गया है. कोरोना काल में उत्पन्न बायो मेडिकल वेस्ट के निस्तारण के लिये विशेष सजगता बरतने की बात कही है. निर्धारित सेंटरों के जरिये इसका निस्तारण करना है. इसके अलावा कोविड-19 बायो मेडिकल वेस्ट के उत्सर्जन और निस्तारण की निगरानी के लिये सीपीसीबी ने कोविड-19 बीएमडब्ल्यू नामक ऐप बनाया है.

इसे भी पढ़ें :हाजिरी रिम्स में, डूयटी मंत्री जी के आवास पर

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: