Corona_UpdatesWorld

#Corona: साउथ कोरिया पीएम ने बताया जंग जीतने का फॉर्मूला, US अपना सकता है ये मॉडल

विज्ञापन

Seoul (South Korea): दक्षिण कोरिया एक ऐसे देश के रूप में उभरा है जो कोरोना को काफी हद तक नियंत्रित करने में कामयाब रहा है. दक्षिण कोरिया के प्रयास की मेडिकल जगत ने भी काफी तारीफ की है.

कनाडा, सऊदी अरब, स्पेन और अमेरिका ने तो कोरिया मॉडल पर राष्ट्रपति मून जाए-इन से सुझाव के लिए संपर्क भी किया है. ऐसे में प्रधानमंत्री चुंग सी-क्युन ने विदेशी मीडिया से बातचीत में ‘दक्षिण कोरिया मॉडल’ की सफलता के राज साझा किये हैं.

advt

ट्रिपल से डबल डिजिट केस, स्थिति नियंत्रण में

फरवरी के अंत में दक्षिण कोरिया चीन के बाद कोरोना केस के मामले में दूसरे पायदान पर पहुंच गया था जब 29 फरवरी को 24 घंटे के भीतर 909 नये मामले सामने आये थे.

वहीं, अब हाल ये है कि डेली केस की संख्या ट्रिपल डिजिट में नहीं बल्कि डबल डिजिट में दर्ज की जा रही है और यह बहुत बड़ी राहत की बात है. इस वजह से कोरिया सबसे अधिक संक्रमित टॉप 10 देशों में सबसे नीचे है.

पीएम चुंग ने कहा, ‘हम क्रिटिकल स्टेज से बाहर निकल चुके हैं. नये केस की संख्या में कमी आयी है जो कि अब डबल डिजिट में है. अब हम ऐसी स्थिति में हैं जहां स्थिति को नियंत्रित कर सकते हैं.’

adv

इसे भी पढ़ें : #Lockdown: दूसरे राज्यों में फंसे लोगों को न्यूज विंग से आस, बता रहे हैं अपनी परेशानी (देखें VIDEO)

क्या है साउथ कोरिया का मॉडल

चुंग ने बड़ी स्पष्टता के साथ अपनी बात रखी और कहा कि हमारे प्रयास चार अवधारणा पर टिके हैं- तेजी, पारदर्शिता, इनोवेशन और जनभागीदारी. कोरिया ने पहले 10 हजार लोगों का रोज टेस्ट किया और अब 20,000 लोगों का कर रहा है.

अब तक 3,76,961 लोगों की टेस्टिंग हो चुकी है. नियमित रूप से दो प्रेस कॉन्फ्रेंस की गयी और जनता को वही बताया जो चल रहा था यानी पूरी पारदर्शिता रखी गयी.

जनभागीदारी पर जुंग ने कहा कि हमने लॉकडाउन को अपनाने की जगह आम लोगों के सहयोग से जंग जीती क्योंकि वे सोशल डिस्टेंसिंग, सेल्फ क्व़ॉरंटीन, बार-बार हाथ धोने और फेस मास्क पहनने पर ध्यान दे रहे थे. इससे संबंधित संदेश भी अलग-अलग माध्यमों से प्रचारित-प्रसारित किये गये.

इसे भी पढ़ें : #FightAgainstCorona : दक्षिण कोरिया में रह रहे रांची के सुधाकर शाह से जानिये क्यों जरूरी है लॉकडाउन का पालन करना

कोरिया मॉडल की केस स्टडी

कोरिया के पीएम ने कहा कि अगर कोई देश उनकी मदद चाहेगा तो उन्हें खुशी होगी. विदेशी पत्रकारों से बातचीत में चुंग ने कहा, ‘हमारे पास दूसरे देशों से ज्यादा अनुभव हैं इसलिए हम अगर शुरुआती ट्रांसमिशन से जुड़े अपने ज्ञान और सूचना को दूसरे देशों के साथ साझा कर पाये, तो हमें ऐसा करते हुए बड़ी खुशी होगी क्योंकि वे बड़ी चुनौतियां झेल रहे हैं.’

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में दक्षिण कोरिया का अनुभव आगे एक केस स्टडी के रूप में देखा जा सकता है. दुनियाभर की मीडिया हो या फिर स्वास्थ्य विशेषज्ञ दक्षिण कोरिया के प्रयास की जमकर तारीफ कर रहे हैं.

कनाडा, सऊदी अरब, स्पेन और अमेरिका कोरिया के इस मॉडल को समझना चाहते हैं. उल्लेखनीय है कि अमेरिका में कोरोना के सबसे अधिक मरीज हैं.

इसे भी पढ़ें : #FightCorona: जिला प्रशासन ने रिटायर्ड, निजी डॉक्टर्स और पैरामेडिक्स से सेवा देने की अपील की

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close