BiharCorona_Updates

बिहार में घटने लगे कोरोना मरीज, ब्लैक फंगस का आतंक बरकरार

Patna: बिहार में कोरोना के मरीज अब घटने लगे हैं. सोमवार की शाम आई स्वास्थ्य विभाग की ओर से रिपोर्ट के अनुसार बिहार में एक्टिव मरीजों की संख्या 4,771 है. सबसे ज्यादा एक्टिव केस पटना जिले में हैं.
राजधानी पटना में कोरोना के केस 481, सुपौल में 327, दरभंगा में 299, पूर्वी चंपारण 213 और गया में 202 एक्टिव मरीज हैं. वहीं अन्य जिलों में एक्टिव मरीजों की संख्या इन पांच जिलों से कम है. सोमवार को बीते 24 घंटे में बिहार में सिर्फ 324 नए कोरोना संक्रमित पाए गए हैं.

इसे भी पढ़ें :75 दिन बाद देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के सबसे कम मामले,  लेकिन मौत के आंकड़े चिंताजनक

यह आंकड़ा लॉकडाउन लगने के बाद सबसे कम बताया जा रहा है. सोमवार को आई रिपोर्ट के मुताबिक सिर्फ मुजफ्फरपुर में 52 नए संक्रमित केस मिले. कई जिलों में तो एक भी संक्रमित नहीं मिले हैं. बिहार के अन्य जिलों की बात की जाए तो अरवल, गोपालगंज और सहरसा में एक-एक नए कोरोना के मरीज मिले हैं.
सोमवार को जारी कोरोना बुलेटिन के अनुसार बिहार में अब एक्टिव मरीजों की संख्या 4,771 रह गई है जो राहत की बात है. बिहार में बीते 24 घंटे में 851 लोगों ने कोरोना को अब तक हराया है.

बिहार में अब तक 7,03,262 संक्रमित स्वस्थ हो चुके हैं. रिकवरी रेट 98.01 प्रतिशत हो गई है. 24 घंटे में 1,06,225 लोगों की कोरोना वायरस की जांच की गई है. सोमवार को अररिया में 15, भागलपुर में 03, भोजपुर में 08, बक्सर में 02, ईस्ट चंपारण में 09, जमुई में 07, जहानाबाद में 02, खगड़िया में 07, किशनगंज में 08, लखीसराय में 04, मधेपुरा में 13, मधुबनी में 06, मुंगेर में 03, नवादा में 05, रोहतास में 09 और सारण में 30 नए संक्रमित मरीज मिले. सोमवार को जारी रिपोर्ट में सबसे ज्यादा 52 मरीज मुजफ्फरपुर में ही मिले हैं.

advt

इसे भी पढ़ें :पहले से अधिक ख़तरनाक हुआ कोरोना का डेल्टा वैरिएंट, जानिए-इसे लेकर क्यों चिंतित हैं वैज्ञानिक ?

दूसरी तरफ कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते मामलों में कमी ने भले बिहार को राहत दी हो, लेकिन अब ब्लैक फंगस के मामलों में उसकी चिंता काफी बढ़ा दी है. स्वास्थ्य विभाग ने कहा है कि म्यूकर माइकोसिस के तौर पर जाना जानेवाला ब्लैक फंगस एक नई चुनौती बनकर उभरा है. आपको बता दें कि नीतीश सरकार ने पिछले महीने महामारी के तौर पर ब्लैक फंगस को घोषित किया था.

स्वास्थ्य विभाग ने आंकड़े जारी कर बताया कि राज्य भर में सोमवार तक 562 ब्लैक फंगस के मामले दर्ज किए गए. आम तौर पर कोविड-19 से उबर चुके मरीजों में पाई जानेवाली बीमारी के कारण 76 लोगों की जान चली गई जबकि मात्र 153 का अब तक पूरी तरह इलाज हुआ है. राज्य में ब्लैक फंगस के अधिकतर मरीजों का इलाज दो अस्पतालों में किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें :कोरोना के इलाज के लिए SBI दे रहा है 5,00,000 रुपये तक का लोन, जानिये कैसे ले सकते हैं

इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइेंस, पटना और ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइसेंस, पटना में इलाज की सुविधा है. एम्स पटना में वर्तमान में ब्लैक फंगस के 102 मरीजों का इलाज किया जा रहा है जबकि आईजीआईएमस में 114 मरीज इलाज पा रहे हैं. राज्य सरकार ने आंकड़े जारी कर कहा कि ब्लैक फंगस के 562 मामले राज्य में दर्ज किए गए हैं, 76 मरीजों की जान चली गई है और 153 पूरी तरह ठीक हो चुके हैं. कोविड-19 के बाद की जटिलता को पिछले महीने राज्य में महामारी घोषित किया गया था.

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: