Corona_Updates

#Corona : एक अध्ययन का दावा- पहले से उपलब्ध एंटीवायरल दवा कोरोना वायरस के मरीजों के स्वस्थ होने की गति बढ़ा सकती है

Toronto: अनुसंधानकर्ताओं का दावा है कि पहले से ही उपलब्ध एंटीवायरल (वायरस से लड़नेवाली) दवाएं कोविड-19 के मरीजों के संक्रमण मुक्त होने की गति को तेज कर सकती हैं. इस अध्ययन से विश्वभर में इस महामारी का प्रकोप कम करने में मदद मिल सकती है.

‘फ्रंटियर्स इन इम्युनोलॉजी’ पत्रिका में प्रकाशित इस अध्ययन के अनुसार इंटरफेरॉन (आइएफएन)- एटूबी दवा के इस्तेमाल से वायरस को शरीर से खत्म करने की गति में काफी तेजी लायी जा सकती है.

यह अध्ययन करनेवाले वैज्ञानिकों में कनाडा के टोरंटो विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक भी शामिल हैं. इस अध्ययन के तहत अनुसंधानकर्ताओं ने चीन के वुहान में कोविड-19 के 77 मरीजों के एक समूह पर इस दवा के असर का आकलन किया.

advt

इसे भी पढ़ें – #CoronaUpdates : रांची और गढ़वा से मिले एक-एक नये कोरोना पॉजिटिव मरीज, राज्य का आंकड़ा पहुंचा 217

इस दवा के प्रयोग कई वर्षों से हो रहा है

वैज्ञानिकों ने पाया कि इस दवा का प्रयोग कई वर्षों से हो रहा है और इससे ऊपरी श्वसन मार्ग में वायरस के रहने की अवधि को औसतन करीब सात दिन तक कम किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें – …तो केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से ये कहा- प्रवासी मजदूरों के लिए सारे इंतेजाम कर दिये हैं, फिर भी वे सड़कों पर जान गंवा रहे हैं

इंटरफेरॉन दवाओं का इस्तेमाल करना चाहिए

टोरंटो विश्वविद्यालय में अध्ययन की मुख्य लेखिका एलेनोर फिश ने कहा कि मेरा तर्क है कि हर नये वायरस संक्रमण के लिए एंटीवायरस बनाने के बजाए हमें उपचार के लिए सबसे पहले इंटरफेरॉन दवाओं का प्रयोग करना चाहिए.

adv

फिश ने कहा कि इंटरफेरॉन दवाओं का कई वर्षों से उपचार के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है, इसलिए रणनीति यह होनी चाहिए कि गंभीर वायरस संक्रमणों में उन्हें ‘‘अलग मकसद के लिए इस्तेमाल’’ किया जाये.

उन्होंने बताया कि ‘इंटरफेरॉन’ सभी वायरसों के जवाब में मानव शरीर में पैदा होनेवाले प्रोटीन का समूह हैं. ये ऐसे अणु हैं जो कोशिकाओं और ऊतकों के बीच संवाद में मदद करते हैं.

अध्ययन में कहा गया है कि इंटरफेरॉन वायरस के जीवन चक्र के विभिन्न चरणों को निशाना बना कर काम करते हैं, ये वायरस को बढ़ने से रोकते हैं और प्रतिरोधी क्षमता की सक्रियता बढ़ाने में मदद करते हैं.

इसे भी पढ़ें – #EconomicPackage : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा – निजी क्षेत्र को दिया जायेगा कोयले के वाणिज्यिक उत्खनन का लाइसेंस

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button