HazaribaghJharkhand

हजारीबाग मेडिकल कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ कोरोना संक्रमित मरीजों ने की भूख हड़ताल

Ranchi: हजारीबाग मेडिकल कॉलेज में भर्ती 37 कोरोना पॉजिटिव मरीजों ने भूख हड़ताल कर दी है. कोरोना पॉजिटिव मरीज हजारीबाग मेडिकल कॉलेज प्रबंधन के खिलाफ अव्यवस्था की शिकायत कर रहे हैं. भर्ती मरीजों का कहना है कि खाना-पीना सही से नहीं मिल रहा है न ही साफ सफाई की सही व्यवस्था है.

पॉजिटिव मरीजों ने अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ जम कर नारेबाजी की. साथ ही उन लोगों का कहना है कि 3 मरीज पिछले 20 दिनों से कोविड वार्ड में भर्ती हैं, उनका न तो रीटेस्ट किया गया है न ही उन्हें छोड़ने की तैयारी है. इसको लेकर पॉजिटिव मरीजों ने ट्वीट के जरिये मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री का भी ध्यान खींचने की कोशिश की है. झारखंड में यह पहला मामला है जब कोरोना पॉजिटिव मरीज भूख हड़ताल में चले गये हैं. जबकि, ऐसे समय में भूखे रहना मरीजों की सेहत को प्रभावित कर सकता है.

इसे भी पढ़ें – देश में तेजी से फैल रहा Corona, 45,720 नये केस, 12 लाख के पार आंकड़ा

advt

इससे पहले पीएमसीएच में पत्रकारों ने की थी हड़ताल

हजारीबाग में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के भूख हड़ताल से पहले धनबाद में कोरोना संक्रमित पत्रकारों ने भी प्रबंधन के खिलाफ हड़ताल की थी. धनबाद में एक साथ 23 पत्रकार कोरोना संक्रमित मिले थे. जिसके बाद उनके परिवार वालों की भी जांच की जा रही थी. पत्रकारों ने उस दौरान यह मांग की थी कि उनके परिवार के सदस्यों की घर जाकर सैंपल लिया जाये, पर उन्हें कोविड अस्पताल बुला कर सैंपल लिया जा रहा था. हालांकि बाद में मामले को सुलझा लिया गया था. पूर्व विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता ने भी वीडियो के जरिये स्वास्थ्य विभाग की खामियों को उजागर किया था.

इसे भी पढ़ें- कोरोना काल में एलोपैथ और होमियोपैथ पर आयुर्वेद पड़ा भारी, आयुर्वेद की कई दवा आउट ऑफ स्टॉक, ब्लैक मार्केटिंग की नौबत

रिम्स में भी अव्यवस्था की बात आ चुकी है सामने

राज्य के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स के कोविड-19 वार्ड से भी कोई व्यवस्था की बात सामने आ चुकी है. रिम्स के कोविड-19 वार्ड में टूटे हुए बेड और जमीन पर लेटे हुए मरीज, नग्न अवस्था में बैठे मरीज की भी फ़ोटो वायरल हुई थी, जिसके बाद मुख्यमंत्री ने संज्ञान लेते हुए जांच कराने को कहा था. हालांकि जांच के बाद बताया गया था कि मरीज खुद से जमीन पर लेटा था. वहीं दूसरे मरीज को मानसिक रूप से बीमार बताया गया था. इसके अलावा प्रशासन की लापरवाही के कारण कोरोना मरीज के भाग जाने की बात तीन बार सामने आ चुकी है.

इसे भी पढ़ें – विधायकों को Corona संक्रमित होता देख 5 दिनों तक विधानसभा सील, 31 जुलाई तक सभी बैठकें रद्द

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button