RanchiSports

Corona Impact : जो दिखा चुके हैं पहले टैलेंट, उन्हीं खिलाड़ियों को JSSPS के स्पोर्टस एकेडमी में मिलेगा दाखिला

राज्य सरकार को भेजा गया प्रपोजल

Ranchi. कोरोना संक्रमण के खतरे के कारण नयी खेल प्रतिभाओं को तलाशना इस बार आफत है. जेएसएसपीएस (Jharkhand State Sport Promotion Society) के जरिये होटवार, रांची में खेल एकेडमी संचालित किया जाता है. हर साल इसमें एडमिशन के लिए राज्यभर से टैलेंटेड प्लेयर्स की खोज की जाती थी.

सेलेक्टेड प्लेयर्स को फ्री में हॉस्टल में रखने, पढ़ाने और खेल प्रैक्टिस कराने का जिम्मा जेएसएसपीएस लेता था. पर इस बार कोरोना आफत के कारण इस पैटर्न को चेंज किया जाना तय है. Proven talent  के जरिये एकेडमी के लिए प्लेयर्स चुने जायेंगे. इस संबंध में राज्य सरकार के पास स्वीकृति के लिए प्रस्ताव भेजा गया है.

इसे भी पढ़ेंः  कोरोना वैक्सीन पर बोला WHO : रूस को आगे नहीं बढ़ना चाहिए

advt

एग्जीक्यूटिव बॉडी से मिल चुकी है इजाजत

जेएसएसपीएस के प्रस्ताव को एग्जीक्यूटिव बॉडी से परमिशन मिल चुकी है. जमीनी तौर पर इसे लागू करने को अब इसे गवर्निंग बॉडी से भी सहमति लेनी होगी. इसके प्रमुख राज्य के मुख्य सचिव हैं. साथ ही खेल सचिव, सीसीएल के एमडी सहित अन्य लोग मेंबर हैं. सीएस की सहमति मिलने और जरुरी निर्देश मिलने पर जेएसएसपीएस नये पैटर्न से एकेडमी के लिए खिलाडियों के सेलेक्शन पर काम करेगा.

इस बार आसान नहीं है रास्ता

पिछले साल मार्च से लेकर जून के दौरान टैलेंट सर्चिंग का काम हुआ था. इसके लिए ब्लॉक से लेकर जिला स्तर पर ट्रायल लिया गया. इसके बाद रांची में फाइनल ट्रायल और मेडिकल टेस्ट के बाद मेरिट लिस्ट बना. 50:50 के अनुपात में लड़के लड़कियों का सेलेक्शन किया गया. कोरोना महामारी के खतरे को देखते हुए इस साल जेएसएसपीएस चौबीसों जिले में ट्रायल कैंप लगा पाने की स्थिति में नहीं है.

इसे भी पढ़ेंः CM नीतीश के उद्घाटन के ठीक पहले ही टूट गयी बंगरा घाट महासेतु की अप्रोच सड़क,उठ रहे सवाल  

क्या है प्रूवेन टैलेंट

जो खिलाड़ी पहले अपनी प्रतिभा दिखा चुके हैं उन्हें ही इस एकेडमी में चुना जायेगा. जिन खिलाडियों ने स्कूली लेवल पर स्टेट, नेशनल या इंटरनेशनल लेवल पर अपना जलवा दिखाया हो, उसे लिया जायेगा. पर इस साल मार्च महीने से ही कोरोना ने आफत मचा रखी है. ऐसे में 2019 में जिन खिलाड़ियों ने U-14 ग्रुप में स्टेट, नेशनल या इंटरनेशनल लेवल पर टैलेंट दिखाया होगा, उन्हें ही मौका बन सकेगा. हालांकि प्रूवेन टैलेंट के आधार पर 15 से 20 प्लेयर्स भी एकेडमी के लिए सामने आ पायेंगे, इस पर सबों को संदेह है.

adv

450 प्लेयर्स का हो चुका है सेलेक्शन

2016-17 से जेएसएसपीएस ने खेल एकेडमी के लिए प्लेयर्स का सेलेक्शन करना शुरु किया था. इस साल 78 खिलाड़ियों को जबकि 2017-18 में 100, 2018-19 में 178 और 2019-20 में 100 प्लेयर्स को राज्यभर से सेलेक्ट किया गया था. यानि चार सालों में 450 प्लेयर्स चुने गये थे. हालांकि अभी 437 प्ल्यर्स एकेडमी में हैं. इनमें से 237 लड़के हैं जबकि 200 लड़कियां. 13 प्लेयर्स ने पारिवारिक या दूसरे कारणों से एकेडमी छोड़ दी है.

क्या कहते हैं जेएसएसपीएस हेड

जेएसएसपीएस के प्रमुख बासब चौधरी के अनुसार कोरोना संकट ने बड़ा फर्क डाला है. इस साल आगे भी इसकी चुनौती बनी रह सकती है. बावजूद इसके हमारा प्रयास है कि हम योग्य बच्चों को सामने ला सकें और एकेडमी के जरिये एक शानदार प्लेयर भी बना सकें. नये पैटर्न से सेलेक्शन के लिए राज्य सरकार से मार्गदर्शन मांगा गया है.

इसे भी पढ़ेंः महगामा विधायक दीपिका पांडेय सिंह परिवार सहित हुई कोरोना पॉजिटिव,घर पर ही हुईं आइसोलेट

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button