JamshedpurJharkhandNEWS

कोरोना की मार :  पूजा में बुकिंग नहीं मिलने से ऑर्केस्ट्रा कलाकारों और संचालकों का बिगड़ा सुरताल

Jamshedpur  : लौहनगरी में पूजा व त्योहारों के सीजन की शुरुआत हो चुकी है, लेकिन इस बार भी कोरोना के चलते पूजा में गीत-संगीत व मनोरंजक कार्यक्रमों का आयोजन नहीं हो रहा है. इसके चलते ऑर्केस्ट्रा और जागरण कार्यक्रम करनेवाले दर्जनों कलाकारों के सामने भुखमरी की स्थिति पैदा हो गयी है. हर साल लौहनगरी में गणेश पूजा, विश्वकर्मा पूजा, दुर्गा पूजा, काली पूजा समेत कई पूजा व त्यौहार में बड़े रूप में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होता था. बाकायदा ऑर्केस्ट्रा व जागरण कार्यक्रम के लिए महीनों पहले ही आयोजक बुकिंग कराते थे. क्योंकि पूजा व त्यौहार के दौरान ऑर्केस्ट्रा व जागरण मंडली की जबरदस्त डिमांड होती है. लेकिन कोरोना के शुरू होने के बाद से ही ऑर्केस्ट्रा और जागरण मंडली की बुकिंग पूरी तरह से बंद है. इस बार भी एक भी कार्यक्रम की बुकिंग नहीं हो सकी है. कोरोना ने आर्केस्ट्रा संचालकों व जागरण संचालकों का सुरताल बिगाड़ कर रख दिया है.

“पूजा-पर्व व शादी, ब्याह, जन्मदिन के अवसर पर आर्केस्ट्रा की बुकिंग कराने के लिए शहर समेत दूर-दूर से लोग आते थे, लेकिन कोरोना के कारण काम नहीं मिलने से सभी बेरोजगार है. पूजा में सब सामान्य होने की आस थी, लेकिन इस बार भी निराशा हाथ लगी है.”
-राजन गोस्वामी, ऑर्केस्ट्रा मालिक, गोलमुरी

“सामान्य दिनों में पूजा के समय कार्यक्रम की बुकिंग फुल होती थी. पिछले साल से एक भी बुकिंग नहीं हुई है. कलाकार दूसरे काम करके पेट चला रहे हैं.”
-राजीव मिश्रा, ऑर्केस्ट्रा मालिक, आदित्यपुर

ऑर्केस्ट्रा व जागरण कार्यक्रम में म्यूजिशियन, गायक, लाइट, साउंड सिस्टम आदि से जुड़े कलाकार  और अन्य लोग जुड़े होते है. काम नहीं मिलने से कई कलाकार दूसरे काम करने लगे है. कोई सब्जी बेच रहा है, कोई फूड डिलीवरी का काम कर रहा है, तो कोई सिक्युरिटी गार्ड बन गया है. इस संबंध में आर्केस्ट्रा संचालकों ने बताया कि पूरे शहर में दो दर्जन से ज्यादा बड़े छोटे ऑर्केस्ट्रा तथा जागरण मंडलियां हैं. इनसे लगभग पांच सौ लोग जुड़े है. संचालकों ने बताया कि कोरोना से पहले पर्व-त्यौहार के साथ शादी विवाह, जन्मदिन आदि में हर साल लगभग 3 से 5 लाख की आमदनी हो जाती थी. गायक, म्यूजिशियन समेत अन्य कलाकारों को प्रति बुकिंग 3 से 5 हजार रुपये तक की कमाई होती थी. लेकिन सब ठप हो गया है. संचालकों ने बताया कि वर्तमान में स्थिति बहुत खराब हो है. पिछले साल सरकार को रोक हटाने के लिए ज्ञापन भी सौंपा गया था, लेकिन अब तक सरकार ने कार्यक्रम करने की मंजूरी नहीं दी है.

Catalyst IAS
SIP abacus

इसे भी पढ़ें – पलामू: हत्याकांड मामले में 18 वर्ष बाद जेल से निकले माले नेता ने कहा-जारी रहेगी सामंती ताकतो से लड़ाई

 

 

MDLM
Sanjeevani

Related Articles

Back to top button